Badla बदला compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Badla बदला

Unread post by rajaarkey » 04 Nov 2014 08:07

बदला पार्ट--27 गतान्क से आगे... "Viren..",bistar pe pet ke bal padi
Kamini ne apni pith pe pade apne premi ko pukara. "hun..",viren kuchh
hi der pehle jhada tha & uske sikude lund se abhi bhi thoda pani
kamini ki chut me ris raha tha. "mujhe laga ki us khidki ke bahar koi
khada tha." "kya?",viren fauran utha apna underwear pehante hue khidki
ke paas pahunch use khol bahar dekha,"..yaha to koi bhi nahi hai.",vo
vaise hi cottage ke bahar nikal gaya.kamini ne bhi apne badan pe
chadar dali & uske peechhe-2 andar ke kamre se bahar ke kamre me
aayi.tab tak viren vapas andar aake darwaza band kar raha tha. "mujhe
to koi nazar nahi aaya.tumhe yakin hai ki tumhe vaham nahi hua tha?"
"haan,viren mujhe yakin hai,vaha koi to tha." "jo bhi tha.vo ab chala
gaya.",usne uske kandhe pe hath rakha & dono vapas bedroom me aa gaye
& bistar pe let gaye. "kaun hoga viren?" "pata nahi aisi behuda harkat
kaun karega.ho sakta hai koi raat ka chaukidar ho jisne huamri aavaze
sun li ho & chhup ke humari chudai dekhne laga ho.",viren ne 1 bar fir
use baho me bhar liya. "hun..",kamini ne pehle socha ki use dawa ki
dibiya ke bare me batade magar fir usne socha ki kyu na pehle thodi
chhanbeen karle & usne vo baat apne dil me hi rakhi.jitni der vo soch
rahi thi utni der me viren ne apna underwear nikal diya tha & 1 baar
fir uske jism se khelne laga tha.kamini ne bhi uske badan pe apni
baahe lapet di & uski harkato ka lutf uthane lagi.
-------------------------------------------------------------------------------
"aaaaaaaahhhhhh...prasuuunnnnn..!",roma jhad rahi thi magar prasun
abhi bhi uske upar chadha dhakke lagaye ja raha tha.
"oohhh..aaahhhhh..!",prasun bhi bahut zor se karaha & roma ne uska
garm virya apni chut me bharta meshsus kiya.use bahut maza aaya
tha,usne apne pati ko baaho me bhar liya & uske sar ko chumne lagi.
prasun ke liye ye bilkul anokha ehsas tha.aisa maza use kabhi nahi
aaya tha.use apni ye nayi dost bahut achhi lagi thi & usne soch liya
tha ki ab vo roz uske sath ye khel khelega.
-------------------------------------------------------------------------------
kafi raat ho gayi thi.kamini ne sar ghumake paas me soye viren ko
dekha & fir bistar se uth gayi.apna suitcase khol usne apna tracksuit
nikal ke fatfat pehna & pairo me jute dale.vo janti thi ki viren ab
seedha subah hone pe uthega & uthate hi 1 bar fir uske nashile jism ke
sath khelne me jut jayega. jute ke feete bandh vo cottage se nikali &
aaspaas ka jayza lene lagi.khidki ke neeche ki phoolo ki kyari kisi
jute ke tale masli hui thi yani ki use koi vaham nahi hua tha.usne us
jagah ke aas-paas dekha,jab davat ho rahi thi us waqt thodi barish hui
thi & uski vajah se mitti gili thi & uspe kisi ke juto ke nishan the.
viren to nange panv bahar gaya tha to ye nishan aakhir the
kiske?kamini un nishano ke peechhe jane lagi to vo cottage se kuchh
duri pe bani jhadiyo ke paas jake khatm ho gaye.kamini un jhadiyo ke
paar ho gayi & dekha ki nishan fir shuru ho gaye hain. unke peechhe
chalte hue vo manager's cottage tak pahunch gayi..jo bhi tha vo yehi
se aaya tha.use darr to bahut lag raha tha magar ye pata karna zaruri
tha ki kaun jasoosi kar raha hai.cottage ke paas pahunch kamini hairat
me pad gayi. cottage ke darwaze pe 1 tala laga tha.aas-paas kafi dhool
thi joki barish ki vajah se thoda jam gayi thi magar uspe vo jooto ke
nishan nahi the.kamini ne tale ko jaancha.tala mazboot tha & lagta tha
ki kafi dino se laga hua hai.usne cottage ki khidkiyo se andar jhanka
magar andar ki halat dekh kar laga nahi ki vaha haal me koi aaya tha.
kamini ne cottage ki achhe tarike se chhanbin karne ke baad vaha se
vapas viren ki cottage ki taraf aate hue sar ghuma ke dekha to use
bungla & servant quarters nazar aaye.usne quarters ko check karne ka
faisla kiya.quarters 4 2 manzila imarate thi.pehli 3 ke bahar khadi ho
kamini ne andar ki aavazo pe kaan lagaya.har quarter se pankhe ke
chalne ki aavaz aa rahi thi.teeno imarato ki pehli manzilo ko bhi sar
utha ke dekhne pe use aisa hi laga ki andar maujood log so rahe hain.
kamini ab chauthi imarat ke paas thi.usne nichli manzil ke quarter ki
khidki pe kaan lagaya to use halki chikh sunai di joki shayad peechhe
ki or se aayi thi.vo bhag ke quarter ke peechhe pahunchi magar pichhla
darwaza band tha.peechhe ke kamre ki khidki thoda oonchi thi.kamini ne
paas padi kuchh eento ko khidki ke neeche lagaya & unpar khade ho
andar jhanka. andar Rajni usi position me thi jisme thodi der pehle vo
thi jab usne us aadmi ko khidki pe dekha tha-yani ki hatho & ghutno
pe.use dekhte hi kamini ko chikh ka kaaran samajh aa gaya.Inder rajni
k peechhe ghutno pe khada uski gand me apna lund ghusa raha tha.
kamini neeche utri & un eento ko vapas unki jagah pe rakha.vo inder ko
to pehchan gayi thi magar vo ladki kaun thi?use itna to samajh aa gaya
tha ki uski khidki ke bahar khada insan inder nahi tha.to fir tha
kaun? sawal ka jawab dhoondti kamini vapas viren ki cottage me aa gayi
thi.usne apne kapde & jute utare.viren abhi bhi bekhabar so raha
tha.nangi ho vo jaise hi bistar pe leti ki uske dimagh me 1 khayal
kaundha.kahi shiva to nahi tha vo jhankane vala shakhs?..vo bungle ke
andar se aaya hoga & fir dekh ke chala gaya hogfa?magar vo kya dekhne
aaya tha?..kahi usi ne to Suren ji ki dawa ke sath chhedkhani to nahi
ki thi? kamini ne karwat badli..haan..vahi tha..& aaj raat bhi vo
zarur viren ko nuksan pahuchane ki garaj se yaha aaya hoga lekin jab
usne dekh ki vo akela nahi hai to vaha se chala gaya hoga..magar vo
kyu use nuksan pahuchana chahta tha?....aakhir viren ko nuksan
pahuncha ke kya milta use? usne fir karwat badli..ya fir aisa to nahi
ki vo kisi ke kehne pe aisa kar raha ho?..magar kiske kehne
pe?...Devika!..to kya devika ne hi apne pati ki dawa ke sath kuchh
chhedkhani kar use mara tha & ab devar ko bhi marna chahti thi?..lekin
vo aisa kyu karegi?viren ko koi dilchaspi nahi thi paiso me & suren ji
ke baad sab kuchh to vaise bhi usi ka hota..to fir kya vajah ho sakti
thi?..ya kahi aisa to nahi ki shiva hi sab kuchh hadapne ke chakkar me
ho magar dono bhiyo ki maut se use kya hasil hoga?..unke baad to sab
devika ke paas hoga. aur tab kamini ko jaise sab samajh me aa
gaya.suren ji ne jo sari vasiyate likhi thi un teeno surato me ye nahi
likha tha ki un dono bhaiyo ki maut ke baad jab devika har chiz ki
akeli malkin hogi,us waqt agar vo dusri shadi kar le to kya
hoga?kamini ko shiva ki chaal samajh aa rahi thi,viren ki maut ke baad
vo devika se shadi karta & fir prasun & devika ko bhi apne raste se
hata deta.uske baad har chiz uski thi. kamini ko paseene chhut
gaye.kya shiva itna khatarnak aadmi tha?..lekin agar usne abhi kuchh
kaha to ho sakta hai vo sambhal jaye & use jhutha bhi sabit kar de
uske paas saboot jo nahi tha koi.use bahut sambhal ke kadam uthane
the.sabse pehle to use viren ko aagah karna tha & fir ye pakka karna
tha ki devika shiva ke sath mili hui thi ya fir shiva use dhokhe me
rakh uska istemal kar raha tha. usne jamhai li,use nind aa rahi
thi.usne aankhe band kar li & in sare khayalo ko dimagh se nikal sone
ki koshish karne lagi.subah hone me kuchh ghante hi the & use pata tha
ki suraj ki pehli kiran ke sath hi viren 1 baar fir uske jism ke sath
khelne me jut jayega.vo us se pehle apni nind puri kar lena chahti
thi.usne karwat li & bekhabar so rahe viren ke seene se sar laga ke
sone lagi. "Devika ji,..",Kamini Sahay parivar ke bungle ke drawing
room me Viren & Devika ke sath baithi chai pi rahi thi,"..Prasun ki
shadi ho gayi hai,ab mujhe lagta hai ki aapko apni vasiyat taiyyar kar
leni chahiye." "ji.",devika apne cup se chai piti rahi.thodi der ki
khamoshi ke baad usne pyali mez pe rakhi,"..kamini ji,kya main kuchh
din ruk ke ye vasiyat kar sakti hu?" "ye to aapki marzi hai.",kamini
ke dimagh me pichhle raat ke khayal ghumne lage & vo devika ki baato
se ye bhanpne ki koshish karne lagi ki vo & Shiva mile hue the ya fir
devika ka istemal ho raha tha,"..lekin meri rai to yehi hogi ki jitna
jaldi karen utna achha hoga." "thik hai.main kuchh dino me aapke paas
aati hu." "bahut achhe.",Rajni chai ke juthe pyale & baki khane ka
saman vaha se hata rahi thi.
-------------------------------------------------------------------------------
"ye dekho,kamini.",viren kamini ka hath pakde use pedo ke jhurmut se
nikal 1 khuli si jagah me le aaya tha.aaj savere ke nashte ke baad se
hi vo use estate ki 1 jeep me vaha ki sair kara raha tha.
"wow!",kamini ki nazro ke samne 1 pani ki chhoti si jhil thi. "sundar
hai na?",viren uske paas aa apni banh uski kamar me daal uske sat
kudrat ke us haseen nazare ko uske sath niharne laga. "bahut." "pata
hai maine kya socha hai ki agli baar jab hum yaha aayen to main
tumhari painting banaunga." "achha!",kamini ghum ke uske samne us se
sat ke khadi ho gayi,"..kaisi painting banayenge janab?jaisi aajkal
aap apne studio me banate hain?",badi shokhi ke sath uske seene pe
usne apne hath rakh diye & uske shirt ke buttons se khelne lagi.
"aapne bilkul thik samjha,mohtarma!",viren ne bhi use usi andaz me
jawab diya.dono apni hi baaton pe aap hi hans pade & 1 dusre ki baaho
me samate hue chumne lage.dono premi 1 dusre me khoye hue the & dono
me se kisi ka dhyan pedo ke peechhe chhupe unki harkato pe nazar rakhe
hue Inder pe gaya hi nahi.
-------------------------------------------------------------------------------
Prasun 1 hi raat me roma ka deewana ho gaya tha.jis baat ke bare me
use uski maa ne bataya tha,uski biwi ne use us khel ki haqeeqat se
wakif karaya tha & use vo haqiqat badi hi purkashish & nashili lagi
thi.roma abhi-2 naha ke nikli thi & uske badan pe bas 1 tauliya bandha
tha.us tauliye ke upar se prasun ko,uska halka sa cleavage &
mast,mansal janghe,badi lalchati hui si lag rahi thi. vo aage badha &
apni biwi ko baaho me bhar liya & chumne laga,"are!are! kya karte
hain?..ouuiii...abhi nahi..please prasun...ooww...!",roma ne hanste
hue use pare dhakela. "umm..kyu nahi?",prasun ne use fir se baaho me
bharna chaha.prasun ke haav-bhav & soch to 1 bachche jaisi thi magar
harkaet vo bado wali karna chah raha tha.roma ko is baat se badi hansi
aa rahi thi.towel utar kar usne bistar pe rakhe bra ko apne kandho pe
chadhaya. "har chiz ka 1 waqt hota hai..",usne apni pith prasun ke
aage ki,"..ab bina shararat kiye mere hooks lagaiye.",prasun ne hooks
lagane ke bajay peechhe se ue baaho me bhar uski chhatiya masal di &
use chumne laga.apni gand me chubhta pati ka tagda lund to roma ko bhi
madhosh kar raha tha magar abhi agar vo prasun ke sth chudai me lag
jati to use der ho jati & use ye bilkul achha nahi lagta ki shadi ke
baad pehli hi subah vo der se apne kamre se bahar aaye. "ouii
maa..!",vo uski giraft se kisi tarah nikli & jaldi se khud hi hooks
laga liye,"..maine kaha na prasun ki har chiz ka 1 waqt hota hai.ye
sab hum raat ko karenge.",usne jaldi se apni panty chadhai.prasun ke
chehre pe udasi & gussa dono aa gaye the & vo bachcho ki tarah ruth
kar bistar ke kone pe baith gaya. roma ne fatfat apni sari pehni &
apne ruthe hue pati ke apas aa baithi,"naraz kyu hote hain?",usne uska
chehra apni taraf kiya,"..dekhiye abhi mummy neeche humara nashte pe
intezar kar rahi hongi na!hun?" prasun ne haa me sar hilaya. "to unhe
intezar karana buri baat hogi na?" usne fir se haan me sar hilaya.
"isliye to mana kar rahi thi.hum raat ko ye sab karenge.",usne use
khada kiya,"..thik hai na.ab to naraz mat rahiye.",usne uske gaal pe
chuma,"..chaliye neeche mummy ke paas chalen." "chalo.",prasun apni
biwi ka hath tham kamre se nikal gaya.
-------------------------------------------------------------------------------
kramashah...........

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Badla बदला

Unread post by rajaarkey » 04 Nov 2014 08:08


गतान्क से आगे... रात को कामिनी फिर से वीरेन के साथ उसकी कॉटेज मे नंगी
पड़ी हुई थी.वो अपनी बाई करवट पे लेटी थी & वीरेन अपनी दाई पे उसके
सामने.वीरेन का लंड उसकी चूत मे था.कामिनी ने अपनी दाई जाँघ वीरेन की
जाँघ के उपर चढ़ाई हुई थी,दोनो प्रेमी 1 दूसरे से लिपटे हुए 1 दूसरे को
चूम रहे थे. वीरेन ने अपना बाया हाथ उसकी गंद की दाई फाँक पे रखा & अपनी
कमर हिलाके चुदाई शुरू कर दी.कामिनी ने भी जवाब मे वीरेन की गंद को अपने
दाए हाथ मे भींच लिया & अपनी कमर हिलानी शुरू कर दी.वीरेन की चुदाई से
कामिनी हवा मे उड़ रही थी मगर उसकी 1 नज़र उस खिड़की पे ही थी जहा उसने
पिच्छली रात किसी साए को देखा था. "ऊव्वव..!",वीरेन के लंड के धक्को से
बहाल कामिनी की आहे निकलने लगी थी & वो उसकी गंद पे अपने नखुनो के निशान
छ्चोड़ रही थी.वीरेन भी बस अब जल्द से जल्द उसके साथ-2 अपनी मंज़िल पे
पहुँचना चाहता था.अपनी प्रेमिका के जिस्म से खेलते हुए उसे कोई 2 घंटे
होने को आए थे जिस दौरान वो तो 3-4 बार झाड़ चुकी थी मगर वो अभी तक 1 बार
भी नही झाड़ा था. दोनो प्रेमियो के दिल की धड़कने बहुत तेज़ हो गयी थी
साथ ही उनकी कमर के हिलने की रफ़्तार भी.कामिनी अब बिल्कुल मदहोश हो चुकी
थी मगर फिर भी उसने अपनी आँखे बंद नही की & खिड़की पे ही लगाए रखी.तभी
उसकी चूत मे बन चुका तनाव अचानक जैसे ढीला पड़ने लगा & उसके रोम-2 मे
खुशी भरने लगी.उसकी बाहो मे क़ैद वीरेन भी ज़ोर-2 से आहें भर रहा
था.झड़ने की खुशी को दिल मे शिद्दत से महसूस करती कामिनी ने अपनी चूत मे
अपने प्रेमी के गढ़े,गरम विर्य का गीलापन महसूस किया & समझ गयी की वो भी
झाड़ चुका है. आज रात उसे खिड़की पे कोई साया नही दिखाई दिया.रात काफ़ी
गहरी हो चुकी थी & उसे उमीद थी की अब आज रात कोई उनकी जासुसु नही
करेगा,"वीरेन.." "हूँ.",वीरेन उसकी चूचियो मे अपना चेहरा च्छुपाए वैसे ही
पड़ा था. "अगली बार यहा कब आओगे?",उसने उसके बालो मे प्यार से उंगलिया
फिराते हुए उसके सर को चूम लिया. "अगले महीने.क्यू?",उसने उसके सीने से
सर उठाया. "बस ऐसे ही पुचछा था.मैं तुम्हारे साथ फिर से यहा आना चाहती
हू.ये जगह बहुत खूबसूरत है & मैं 1 बार फिर इस खूबसूरती का लुत्फ़
तुम्हारे साथ उठाना चाहती हू.",बात दरअसल ये थी की कामिनी को वीरेन की
फ़िक्र होने लगी थी.सवेर चाइ पे जब उसने देविका से वसीयत की बात की तो
उसने कुच्छ समय वो काम करने की बात कही थी & इस से उसे ये खटका हुआ था की
कही देविका & शिवा मिलके तो ये खेल नही खेल रहे.ऐसी सूरत मे उनका अगला
शिकार वीरेन ही था.उसने सोचा की वीरेन को अपने शक़ के बारे मे बता दे मगर
ना जाने क्यू उसका दिमाग़ उसे ऐसा करने से रोक रहा था. अपनी प्रेमिका की
बात से वीरेन को काफ़ी खुशी हुई थी.उसने उसके नर्म होंठो को चूम लिया &
उसके गले से लग गया.ऐसा करने से कामिनी की मोटी चूचिया उसके चौड़े सीने
से पीस गयी.उसका हाथ खुद बा खुद कामिनी की कसी हुई गंद पे चला गया
था.चूचियो की गुदगुदी & गंद के नर्म,मस्त एहसास & कामिनी की प्यारी बात
ने उसे फिर से मस्त कर दिया & वो 1 बार फिर उसके जिस्म की गहराइयो मे
डूबने लगा. ------------------------------
----------------------------------------------------------------------------------------------
"तुमने सेक्यूरिटी सिस्टम्स के लिए जो कंपनी तय की है उसे अगले महीने
बुला के डील फाइनल कर लेते हैं.",देविका ने 1 फाइल पे दस्तख़त कर उसे
किनारे किया & दूसरी खोल ली.शिवा उसके सामने उसके डेस्की की दूसरी तरफ
बैठा उसे देख रहा था. "हूँ.",उसके दिल मे 1 बार ख़याल आया की उस दूसरी
कंपनी के सेल्स रेप के उसे रिश्वत देने की बात के बारे मे अपनी प्रेमिका
को जो अब उसकी बॉस भी थी,बता दे मगर फिर उसने सोचा की क्यू वो उसे नाहक
परेशान करे!ये सब तो चलता ही रहता था & फिर देविका पे अब काम का कितना
बोझ भी था.वो एकटक उसे निहारे जा रहा था & बेख़बर देविका अपना काम किए जा
रही थी.शिवा के दिल ने उस वक़्त ये दुआ माँगी की बस ये पल यही थम जाए &
वो बस ऐसे ही अपनी महबूबा के सामने बैठा उसे निहारता रहे,क़यामत के दिन
तक. देविका ने नज़रे उठाई & अपने आशिक़ को खुद को निहारते पाया तो काम की
मसरूफ़ियत के बावजूद उसके गुलाबी होंठो पे मुस्कान खिल गयी..कितना चाहता
था ये शख्स उसे?..अगर हालात कुच्छ और होते तो वो कब का इसको अपना पति बना
चुकी होती.ऐसा आशिक़ तो किस्मतवालो को मिलता है!मगर ये मुमकिन नही
था..शिवा तुम मुझे पहले क्यू नही मिले?..देविका के दिल मे हुक उठी..क्या
हो जाता अगर मिल भी जाता तो?..उसके ज़हन ने उसके दिल से पूचछा..ये
शनोशौकत ये ऐशोआरम तो ये शख्स तुम्हे कभी नही दे पाता....ज़माने की नज़रो
मे वो उसका नौकर है मगर हक़ीक़त मे तो वो उसका आशिक़ है.अभी उसके पास
दौलत & इश्क़ दोनो हैं.अगर शिवा उसे पहले मिल जाता तो वो इस दौलत से तो
महरूम रह जाती..जो होता है वो अच्छे के लिए होता है! "क्या देख रहे
हो?",दिल की जद्ड़ोजेहाद को देविका ने चेहरे पे नही आने दिया था. "दुनिया
का सबसे हसीन चेहरा." "अच्छा.अब बहुत देख लिया,अब जाओ.काम नही
तुम्हे?",उसने शिवा को प्यार से झिड़का. "हां वो तो है.",आ भरता शिवा उठ
खड़ा हुआ & दरवाज़े की ओर मूड गया. "शिवा..",महबूबा की आवाज़ सुन वो
घुमा,"..उदास क्यू होते हो,जानम!अपनी हर रात तो मैने तुम्हारे नाम कर दी
है.",शिवा को महबूबा के प्यार के इज़हार से बहुत खुशी हुई & वो बेज़री जो
उसके चेहरे पे आई थी वो गायब हो गयी & वो वाहा से निकल गया. रात के 10
बजे इंदर अपने क्वॉर्टर मे अंधेरे मे बैठा खिड़की से बाहर देख रहा था.उसे
एस्टेट मॅनेजर की नौकरी करते 1 महीने से उपर हो गया था मगर सुरेन सहाय की
मौत के बाद वो अपने प्लान के अगले कदम अभी तक नही उठा पाया था.इस वक़्त
उसे शिवा सबसे बड़ा ख़तरा नज़र आ रहा था.वो बहुत वफ़ादार था & अभी तक
इंदर को उसकी कोई भी कमज़ोरी या कोई ऐसी बात का पता नही चला था जिसे वो
उसके खिलाफ इस्तेमाल कर सकता. उसे बौखलाहट होने लगी मगर अभी उसे थोड़ी
देर बाद रजनी के पास जाना था & उसके पास शराब पी के जाना ठीक नही था.शिवा
के बारे मे जानने के लिए 1 बार उसके कमरे की तलाशी लेना ज़रूरी था क्यूकी
साथ काम करने वालो से उसके बारे मे कोई भी काम की बात नही पता चली थी
लेकिन शिवा बंगल के अंदर रहता था & वो बंगल के अंदर घुसे कैसे,ये उसकी
समझ मे नही आ रहा था. तभी उसकी निगाह मे,जोकि बंगल से क्वॉर्टर्स की ओर
आते रास्ते पे थी,उसके हाथो की कठपुतली का अक्स उभरा.बंगल के अंदर काम
करने वालो के लिए देविका ने वर्दी बनवाई थी.नौकर तो कमीज़ & पॅंट &
सर्दियो मे कोट पहनते थे वही नौकरानिया या तो सारी या फिर घुटनो से नीचे
तक की काले रंग की पूरे या आधे बाज़ू की ड्रेस पहनती थी. रजनी ने भी इस
वक़्त आधे बाज़ू वाली ड्रेस पहनी हुई थी.रसोई मे काम करते वक़्त पहनने
वाला एप्रन अभी भी उसकी ड्रेस के उपर बँधा था & हाथो मे 1 छ्होटा सा बॅग
था जिसमे कभी-कभार वो लंच ले जाती थी.नौकरो को सारा खाना बंगले मे ही
मिलता था मगर रजनी & कुच्छ और लड़किया कभी-कभार अपने घर से भी कुच्छ
बनाके ले जाती थी ज़ेयका बदलने की गरज से. उसे देखते ही इंदर की आँखे चमक
उठी & वो अपनी कुर्सी से उठ फुर्ती से अपने दरवाज़े से निकल गया.
"आहह..!",रजनी ने दरवाज़ा खोल अभी क्वॉर्टर मे कदम रखा ही था की इंदर ने
उसे अपनी बाँहो मे दबोच लिया,"..कैसे चोरो की तरह आते हो?!!डर के मारे
मेरी तो जान ही निकल गयी थी!",इंदर ने दरवाज़ा बंद किया & 1 मद्धम रोशनी
वाला बल्ब जला दिया. "देखो,तो मेरा दिल कैसे धड़क रहा है.",शोखी से
मुस्कुराती रजनी ने अपने सीने की ओर इशारा किया.इंदर ने उसे दरवाज़े के
बगल की दीवार से लगा के खड़ा किया हुआ था & खुद उस से सॅट के खड़ा था.
"अभी शांत करता हू इसे.",उसने अपना दाया हाथ रजनी की कमर के पीछे कर उसके
एप्रन की ड्राइव को खोला & बाए से उसके हाथ का बॅग & क्वॉर्टर की चाभी
लेके बगल की दीवार मे बने शेल्फ पे रख दिया.डोर खुलते ही रजनी ने एप्रन
को गले से निकाला & अपनी बाहे अपने प्रेमी के गले मे डाल दी. इंदर का हाथ
रजनी की गंद पे फिर रहा था & जैसे ही उसने उसके गंद को दबा उसकी चूत को
अपने लंड से पीसा उसे रजनी की ड्रेस मे से उसकी कमर के पास कुच्छ
चुबा,"ये क्या है?",रजनी के खुले होंठ जोकि उसके होंठो की ओर बढ़ रहे
थे,सवाल सुन वही रुक गये. "ओह्ह..ये है.",उसने जेब मे हाथ डाल कर 1 चाभी
निकाली,"..ये तो बंगले की चाभी है." "क्या?",बड़ी मुश्किल से इंदर अपनी
हैरानी & खुशी को च्छूपा पाया,"..बंगल की चाभी तुम्हारे पास कैसे
आई?",उसका दाया हाथ रजनी की ड्रेस को उपर कर उसकी बाई जाँघ को उठा के उसे
सहला रहा था. "ये बंगले की रसोई के दरवाज़े की चाभी है.देविका मॅ'म ने
मुझे दे रखी है ताकि सवेरे जब मैं काम पे जाऊं तो उनकी नींद मे खलल ना
पड़े,वो थोड़ा देर से उठती है ना.",इंदर ने उस से चाभी ले ली & अपने होंठ
उसके होंठो से मिला दिए.उसने चाभी वाला हाथ 1 रजनी के ड्रेस की जेब मे
घुसाया मगर चाभी अंदर नही डाली बल्कि उस चाभी को अपने शॉर्ट्स की जेब मे
डाल लिया. रजनी का हाथ अब उसकी शॉट्स के उपर से उसके लंड को टटोल रहा
था,इंदर ने फ़ौरन उसे ढीला का नीचे गिरा दिया.वो नही चाहता था की रजनी को
चाभी के बारे मे पता चले,"जान,खाना खाया तुमने?" "हां.",इंदर के इस
मामूली से सवाल ने रजनी के दिल को बहुत खुश कर दिया.उसे अपने प्रेमी पे
बहुत प्यार आया..कितनी फ़िक्र करता था वो उसकी!उसने और गर्मजोशी से उसके
तगड़े लंड को अपनी गिरफ़्त मे कस लिया & उसे चूमते हुए हिलाने लगी.इंदर
भी उसकी कामुक हर्कतो का लुत्फ़ उठाने लगा,उसने तो सवाल इसलिए किया था की
कही रजनी उसे गरम करने के बाद खाना ना खाने लगे & उसे झड़ने के लिए
इंतेज़ार करना पड़े. इंदर ने भी उसकी पीठ पे लगी ड्रेस की ज़िप को नीचे
कर दिया था & अपने हाथ अंदर घुसा उसकी चूचियो से खेल रहा था.रजनी ने
बेचैन हो इंदर की टी-शर्ट निकाल दी & बड़ी बेताबी से उसके सीने पे अपने
हाथ फिराती हुई उसे चूमने लगी.उसके होंठ इंदर के चेहरे से नीचे उसके सीने
पे आए,"इंदर.." "हूँ..",इंदर उसकी पीठ & बाल सहला रहा था. "हम शादी कब
करेंगे?",रजनी उसके सीने से नीचे उसके पेट पे पहुँच गयी थी. "बहुत जल्द
मेरी जान,बहुत जल्द.",इंदर ने उसका सा नीचे अपने प्यासे लंड की ओर
धकेला,"..बस थोड़े पैसे जमा हो जाएँ ताकि शादी के बाद हनिमून के लिए मैं
तुम्हे किसी बहुत ही खूबसूरत जगह ले जा सकु. "ओह्ह..इंदर.इतना खर्च करने
की क्या ज़रूरत है?",रजनी इस बात को सुनकर फूली नही समा रही थी.उसने इंदर
के लंड को दोनो हाथो मे लिया & अपना सर बाई तरफ झुका लंड की बगल मे चूमने
लगी. "उन्न्न..!",..ये लड़की देखने मे जितनी साधारण थी चुदाई मे उतनी ही
मस्त!इंदर का दिल जोश से भर गया था,"..प्रसून जैसा आदमी अगर शादी कर मौज
उड़ा सकता है तो हम क्यू नही!",उसने रजनी के बालो को पकड़ उसके सर को लंड
पे दबाया. "उनकी बात और है..",रजनी लंड की जड़ पे जहा से इंदर के अंडे
शुरू होते थे,अपनी जीभ चला उसे पागल कर रही थी,"..वो रईस हैं,जान.देखो
ना,सर को गुज़रे अभी कितने ही दिन हुए हैं & अब मॅ'म की वकील उन्हे नयी
वसीयत बनाने के लिए कह रही है." "क्या?!",1 बार फिर इंदर बड़ी मुश्किल से
अपने हैरत भरे जज़्बातो को रजनी से च्छूपा पाया.रजनी ने लंड को अपने मुँह
मे भर लिया था & उसे हिलाते हुए चूस रही थी & इसलिए उसने फ़ौरन इंदर को
जवाब नही दिया.इंदर का दिल तो किया की लंड खींच उसे 2 तमाचे जड़े & उसे
पूरी बात बताने को कहे मगर ये मुमकिन नही था.वो रजनी के जवाब का इंतेज़ार
करता रहा. काई पॅलो तक लंड को जी भर के चूसने के बाद रजनी ने सांस लेने
के लिए उसे मुँह से निकाला,"..उस दिन उनकी वकील नही है..क्या नाम है
उसका.." "कामिनी शरण.",इंदर ने उसे उठाया & बाहो मे भर उसकी ड्रेस को
नीचे सरका दिया.ब्रा का बाया कप नीचे था & उसकी बाई चूची नुमाया थी.इंदर
तो पूरा नंगा ही था.उसने रजनी को गोद मे उठाया & उसके बेडरूम मे ले
गया.बिस्तर पे लिटा उसने उसकी पॅंटी उतारी & उसकी गंद की फांको के नीचे
अपने हाथ लगा उसकी झांतो को अपनी लपलपाति जीभ से चीर उसकी चूत मे घुसा
दिया. "आअनह...ऊन्णन्न्....!",रजनी तो जिस्म मे फुट रहे मज़े की
फुलझड़ियो मे अपनी कही बात भूल ही गयी थी मगर इंदर को तो उसके मुँह से
अभी बात निकलवानी ही थी. "तो क्या कह रही थी वकील कामिनी शरण?",वो अपने
घुटनो पे था & रजनी की गंद को थाम उसने हवा मे ऐसे उठा रखा था मानो उसका
वज़न कुच्छ खास ना हो. "ऊन्ंह....कह रही थी की मॅ'म को अब वसीयत
बना...आअनह..ले..नि..चाअ..हिई...हाइईईई..!",रजनी झाड़ आयी थी मगर इंदर की
लपलपाति जीभ अभी भी उसकी चूत के दाने को चाट रही थी. "तो मॅ'म ने क्या
कहा?" "उउन्ण..हहुन्न्नह....कहा की कुच्छ दिन रुक जाइए...ऊओह.....!",इंदर
ने उसकी जाँघो को अपनी जाँघो पे टीका लिया था & अपना लंड उसकी चूत मे
घुसा रहा था.रजनी ने बेचैन हो उसकी बाहो को थाम लिया था. "और कुच्छ नही
कहा उन्होने?" नही.",इंदर समझ गया की इस से ज़्यादा रजनी को कुच्छ नही
पता.रजनी ने उसकी बाँह पकड़ के नीचे खींचा तो इंदर ने उसकी बात मानते हुए
अपना उपरी बदन नीचे किया & उसे चूमने लगा.ये कठपुतली उसका सबसे बढ़िया
हथ्यार थी & वक़्त आ गया था की अभी दी गयी जानकारी के लिए उसे इनाम दिया
जाए.इंदर ने अपनी जनघॉ को फैलाया & रजनी के उपर लेट गहरे धक्के लगा उसे
मदहोश करते हुए उसकी चुदाई करने लगा.
------------------------------------------------------------------

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: Badla बदला

Unread post by rajaarkey » 04 Nov 2014 08:09

"आपको तो बस 1 ही बात सूझती है हर वक़्त!",कामिनी ने चंद्रा साहब को
तड़पाने की गरज से परे धकेला.कामिनी अपने दिल मे उठ रहे सवालो के जवाब
ढूँडने के लिए अपने गुरु के घर आई थी.मिसेज़.चंद्रा के इसरार पे वो खाने
के लिए रुक गयी तो चंद्रा साहब ने कहा की काम की बातें खाने के बाद
करेंगे.खाना ख़त्म होते-2 मूसलाधार बारिश शुरू हो गयी & दोनो मिया-बीवी
ने उसे रात को उनके यहा रुकने के लिए मना ही लिया.चंद्रा साहब की खुशी का
तो ठिकाना ही नही था. उन्हे देर रात तक काम करने की आदत थी & वो जानते थे
की अगर उस वक़्त कामिनी उनके साथ जितनी देर तक रहे उनकी बीवी को ज़रा भी
शुबहा नही होगा.मिसेज़.चंद्रा के सोने जाते ही वो कामिनी को बंगले के
दूसरे हिस्से मे बने अपने दफ़्तर मे ले गये & अंदर से दरवाजा बंद कर
दिया.कामिनी ने मिसेज़.चंद्रा की पुरानी नाइटी पहनी थी जिसका गला थोड़ा
बड़ा था & उसमे से अब उसका मस्त क्लीवेज झाँक रहा था.दरवाज़ा बंद करते ही
चंद्रा साहब ने उसे धर दबोचा था & अपने प्यासे होंठ उसके चेहरे पे घूमने
लगे थे. "तुम्हे देख के कुच्छ और सूझ सकता है भला.",कामिनी बड़े सोफे पे
बैठ 1 किताब के पन्ने पलटने लगी तो वो उसके पीछे आ बैठे & उसके कंधो पे
हाथ रख उसके बाल चूमने लगे.कामिनी ने उन्हे और तड़पाना चाहा & वाहा से भी
उठने लगी मगर इस बार चंद्रा साहब होशियार थे & उन्होने उसे अपनी बाहो मे
कस लिया. "उम्म....क्या करते हैं!छ्चोड़िए ना!",चंद्रा साहब उसकी कमर को
कस के थामे उसके होंठो को अपने होंठो से ढूंड रहे थे. "इतनी मुश्किल से
हाथ आती हो,तुम्हे कैसे छ्चोड़ दू!",उन्होने कामिनी के सर को अपने दाए
हाथ को उसके सीने के पार ले जाते हुए घुमाया & उसके होंठ चूमने
लगे.कामिनी को भी मज़ा आ रहा था.चंद्रा साहब उसकी नाइटी मे नीचे से हाथ
घुसाने लगे तो वो च्चटपटाने लगी मगर उन्होने उसे अपने चंगुल से नही
निकलने दिया & हाथ अंदर घुसा ही दिया.उनका हाथ सीधा उसके सीने पे जा
पहुँचा & उसकी चूचियो से खेलने लगा. चंद्रा साहब का जोश अब बहुत ज़्यादा
बढ़ गया था & वो उसके कपड़े उतारने की कोशिश करने लगे,"..कही आंटी ना आ
जाएँ.",कामिनी ने घबराई आवाज़ मे कहा.उसे घबराया देख उसके गुरु का जोश
दुगुना हो गया. "कोई नही आएगा यहा हम दोनो के मिलन मे खलल डालने.",वो
फुर्ती से उसकी नाइटी खिचने लगे.कामिनी समझ गयी की अब वो मानने वाले नही
हैं.थोड़ी ही देर मे वो अपने गुरु के साथ सोफे पे नंगी बैठी थी.चंद्रा
सहभ की गोद मे बैठी कामिनी उनके सीने के बॉल सहला रही थी & चंद्रा साहब
अपने जिस्म के उपर पड़ी उस हुस्न परी को पाँव से लेके सर तक चूम रहे
थे,सहला रहे थे. उनके लंड को हिलाते हुए कामिनी ने उन्हे सहाय परिवार के
बारे मे सब कुच्छ बताया.शिवा पे शक़ होना & देविका का उस से मिला होने
वाली बात भी उसने उन्हे बताई.उसकी सारी बात सुन के जो बात चंद्रा साहब ने
कही उसे सुन के कामिनी का चेहरा शर्म से लाल हो गया. "ह्म्म..यानी वीरेन
सहाय भी तुम्हारे हुस्न के तीर से घायल हो चुका है!",कामिनी ने उन्हे ये
नही बताया था की उसने वीरेन की कॉटेज की खिड़की से झँकते साए को जब देखा
था उस वक़्त वो उस कॉटेज मे क्या कर रही थी मगर चंद्रा साहब पहुँचे हुए
वकील थे,उन्हे ये भाँपने मे ज़रा भी वक़्त नही लगा की उनकी शिष्या को 1
नया प्रेमी मिल गया है,"..लगता है इसलिए हमारे लिए वक़्त नही हैं
तुम्हारे पास आजकल?" कामिनी उनसे चुदती थी & उनकी शिष्या नही अब तो
प्रेमिका थी मगर फिर भी थी तो वो 1 लड़की ही & उसे उनकी बात से शर्म आ
गयी थी.उसने अपना उपरी बदन मोड़ उनके गले मे बाहे डाल उनके दाए कंधे पे
अपना सर रख उनकी गर्दन मे चेहरा च्छूपा लिया था. "ऐसे मत बोलिए..",उसने
उनके कंधे पे सर रखे-2 उनका गाल चूमा,"..1 तो काम की मसरूफ़ियत उपर से
आंटी का डर.मेरा जी नही करता क्या आपकी बाहो मे सोने को!..मगर मजबूरी
है." "मैं तो छेड़ रहा था,तुम तो संजीदा हो गयी!",उन्होने कामिनी का
चेहरा अपने सामने किया & उसे चूम लिया.कामिनी ने अपनी ज़ुबान उनके मुँह
मे घुसा दी.षत्रुजीत सिंग,करण & वीरेन तीनो को उसने इतना जता दिया था की
वो अपनी मर्ज़ी की मालकिन है & कोई ये ना समझे की वो उसपे अपना हक़ जता
सकता है..अगर वो उनके साथ सोती है तो उसका ये मतलब नही की वो उनकी बीवी
या फिर रखैल बन गयी जिसपे वो रोब गाँठ सकते हैं..ये दूसरी बात थी की तीनो
वैसे मर्द थे भी नही & उस से जितनी मोहब्बत करते थे उतनी ही उसकी इज़्ज़त
भी करते थे & उसकी ज़िंदगी मे 1 हद्द से ज़्यादा दखल देने की उन्होने कोई
कोशिश भी कभी नही की थी लेकिन चंद्रा साहब वो अकेले मर्द थे जिनकी कामिनी
सबसे ज़्यादा इज़्ज़त करती थी & अभी उसे 1 पल को डर लगा था की कही वो उस
से खफा ना हो जाएँ या फिर कही जलन के मारे कुच्छ उल्टा-सीधा ना बोल दें
मगर उन्होने ऐसा कुच्छ नही किया. इस बात से कामिनी के दिल मे उनके लिए
इज़्ज़त और भी बढ़ गयी & उसे उनपे बहुत प्यार आया.वो उन्हे चूमे जा रही
थी & वो भी उसके जिस्म के उभारो को अपने हाथो मे तोल रहे थे.अचानक
उन्होने उसे अपनी गोद से नीचे करते हुए सोफे पे लिटाया & फिर कमर मे हाथ
डाल उसे उल्टा का पेट के बल लिटा दिया.कामिनी ने भी झट से अपनी कमर थोड़ा
उपर कर दी.चंद्रा साहब ने 1 कुशन उसके पेट के नीचे लगा दिया ताकि वो आराम
से लेट सके & उसकी चूत भी & उभार के उनकी आँखो के सामने आए. वो बेचैनी से
उसकी गंद की भरी फांको को मसालते हुए गंद की दरार पे लंबाई मे जीभ चलाने
लगे.दफ़्तर मे कामिनी की आहे गूंजने लगी. "वो साया तो 1 राज़ है मगर मुझे
बहुत ख़तरनाक लग रहा है.",उनकी जीभ उसके गंद के छेद को सहला रही
थी.कामिनी की चूत कसमसाने लगी थी,उसने अपना दाया हाथ पीछे किया & चंद्रा
साहब के बाल सहलाए,"..देविका पे भी शक़ की तुम्हारी वजह काफ़ी ठोस है &
शिवा को भी शक़ के दायरे से बाहर नही रखा जा सकता." कामिनी की गंद का छेद
जीभ के एहसास से कभी बंद होता कभी खुलता.बेताबी से कामिनी ने अपने पेट के
नीचे दबे कुशन को थोड़ा नीचे सरकाया & अपनी चूत को कमर हौले-2 हिला उसपे
दबाने लगी.चंद्रा साहब समझ गये की पहले उन्हे उनकी शिष्या की चूत को शांत
करना पड़ेगा उसके बाद ही वो इतमीनान से उसकी गंद से खेल पाएँगे.उन्होने
जीभ को थोड़ा नीचे किया & उसकी चूत पे लगा दिया. "..वसीयत करने मे देरी
इस शक़ को और पुख़्ता करती है.",उन्होने अपनी जीभ को उसकी चूत मे घुसा
दिया & तब तक चलते रहे जब तक वो झाड़ नही गयी.सोफा काफ़ी बड़ा था.चंद्रा
साहब ने कामिनी की टाँगो को फैलाया & अपना लंड उसकी चूत मे घुसा
दिया.गीली चूत मे लंड सरर से घुस गया.2-3 धक्को के बाद वो उसकी पीठ पे
लेट गये.कामिनी ने अपनी गर्दन दाई ओर घुमाई & उन्हे चूमने लगी. "..लेकिन
1 बात है जो मुझे परेशान कर रही है.",चंद्रा साहब ने अपनी शिष्या के होंठ
छ्चोड़ उसकी मखमली पीठ पे किस्सस की झड़ी लगा दी.उनके धक्के कामिनी की
चूत को पागल कर रहे थे.वो बेचैनी से अपने घुटनो से मोड़ टाँगो को उपर उठा
रही थी.उसकी चूत मे वही मीठा तनाव बन गया था. "..अगर देविका चाहे अकेले
या फिर शिवा के साथ मिलके सुरेन जी को रास्ते से हटाने के लिए उनकी दवा
से कुच्छ छेड़ चाड करती है तो फिर वो उस डिबिया को फ़ौरन गायब कर
देगी.",चंदर साहब अब अपने हाथो पे अपना भार संभाले उछलते हुए धक्के लगा
रहे थे. "ऊन्ंह.....आनह....ऐसा...हाइईईईईई....ऐसे ही
करिए..बस...तो..दी...देर...आआहह.....!",कामिनी झाड़ गयी थी मगर चंद्रा
साहब का काम अभी बाकी था.थोड़ी देर बाद उन्होने लंड को बाहर खींचा,फिर
अपने थूक से कामिनी की गांद का च्छेद भरा. "..मैं कह रही थी की ऐसा भी तो
हो सकता है..",कामिनी ने अपनी गंद हवा मे उठा दी & अपना उपरी बदन आगे को
झुका के सोफे का हत्था था अपने गुरु के हमले के लिए तैय्यार हो गयी,"..की
कामिनी डिबिया हटाना भूल गयी हो." "नही..",चंद्रा साहब ने गंद के छेद को
अच्छी तरह से गीला किया & फिर धीरे-2 लंड को अंदर घुसाने लगे,"..अगर
सुरेन जी की मौत दवा से छेड़ खानी की वजह से हुई है तो वो डिबिया इस केस
मे मर्डर वेपन है & कोई भी गुनेहगर सबसे पहले जुर्म मे इस्तेमाल हुए
हथ्यार को ही ठिकाने लगाता है." "एयीयैआइयियीईयीईयी..!",लंड का 2 इंच
हिस्सा गंद से बाहर था & चंद्रा साहब ने उसकी गंद मारना शुरू कर दिया
था.थोड़ी देर पहले झड़ने के वक़्त कामिनी की चूत के सिकुड़ने-फैलने की
मस्त हरकत के दौरान बड़ी मुश्किल से उन्होने अपने लंड को काबू मे कर उसे
झड़ने से रोका था.इतनी बार कामिनी को चोदने का बाद भी वो उसके जिस्म के
मादकता के आदि नही हुए थे.उसकी गंद का छेद बहुत ज़्यादा कसा हुआ था &
बड़ी मुश्किल से उन्होने 1 बार फिर अपने को झड़ने से रोका हुआ था.
"ऊहह...तो..हाइईइ..आपका..कह..ना..है..की...कोई...और
भी...है...वाहा....सहाय ख़ान..दान..का...दुश्मन....हाई
राआंम्म्म....!",चंद्रा साहब के धक्के तेज़ हो रहे थे & उनका दाया हाथ
कामिनी की चूत भी मार रहा था. "बिल्कुल सही समझा तुमने.",चंद्रा साहब भी
अपनी मंज़िल के करीब पहुँच रहे थे,"..मेरा ख़याल है की सुरेन सहाय की मौत
के पीछे कोई और है & देविका & शिवा,चाहे वो सुरेन जी की मौत चाहते
हो,उन्हे केवल पैसो से मतलब है." "औउईईई..मान्न्न्न्न्न........मगर
प्रसून का क्या...ऊहह..होगा फिर...ऊऊऊहह.....!",कामिनी के होंठ "ओ" के
आकर मे गोल हो गये थे & उसके गले से आवाज़ भी नही निकल रही थी.उसके झड़ने
मे इतनी शिद्दत थी की उसे कुच्छ होश नही था की वो कहा & किसके साथ है.वो
सोफे पे निढाल हो गयी थी.उसके उपर आहे भरते हुए चंद्रा साहब अपने गाढ़े
रस से उसकी गंद को भर रहे थे मगर वो अपनी ही दुनिया मे खोई हुई थी जहा
चारो तरफ बस फूलो की खुश्बू थी & बदन मे मदहोश करने वाला एहसास.