मस्तानी ताई

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:43


मस्तानी ताई
दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त राज शर्मा आपके लिए एक और मस्त कहानी लेकर हाजिर हूँ . दोस्तो एक बार मे काफ़ी दीनो के बाद अपने गाँव जा रहा था . गाँव मे मेरे ताउजि जी का परिवार रहता है ताई जी का स्नेह मुझ पर कुछ ज़्यादा ही रहता था वो मुझे कई बार बुला चुकी थी अचानक ताउजि को फालिश ( पेरालाइसिस-मार गई तो मैं अपने आपको गाँव जाने से नही रोक पाया आज काफ़ी दिनो बाद मैं अपने गाँव जा रहा था .
में घर करीबन शाम के 4 बजे पोह्चा, ताइजी सुजाता और पूजा मुझे देखकर खुश भी हुई क्यूँ कि में उनसे काफ़ी समय के बाद मिल रहा था, पर इस हादसे के चलते खुद को रोने से रोक भी ना पाई और मेरे सामने रो पड़ी, मेने तीनो को संभाला और हौसला दिया के सब ठीक हो जाएगा, कुछ देर बाद वो शांत हो गये, और मा मेरे लिए चाइ बना के ले आई, जब मेने ताइजी से पूछा ताउजि के बारे मेने तो उन्होने बताया के काफ़ी दीनो से टेन्षन में थे, और काम का स्ट्रेस भी बाद गया था, सब से बड़ा टेन्षन उन्हे सुजाता की शादी का था, इसी वजह से उनको परॅलिसिस हुआ है, और अब डॉक्टर कहते हैं कि उन्हे ठीक होते होते कम से कम 1 साल लग जाएगा अगर आछे से देख भाल की तो, वरना मुश्किल है ताउजि का ठीक होना, और वो यह सब घर दो बेटियाँ, खेती का काम कैसे देख पाएगी, उपर से ताउजि की सेहत का ध्यान भी रखना था, ताइजी काफ़ी टेन्षन में थी, मेने ताइजी को भरोसा दिलाते हुए कहा के सब ठीक हो जाएगा और ताउजि की तबीयत भी ठीक हो जाएगी.




रात में सोते वक़्त में मा और पापा बैठ के बात कर रहे थे, और मेने जो ताइजी ने मुझसे कहा वो उन्हे बताया, तो पापा ने कहा बेटा हमे भी यह सब पता है पर इस का कुछ ना कुछ रास्ता निकाल ना ही पड़ेगा, में अपनी भाभी और 2 भतीजियो को ऐसे नही छोड़ सकता, कुछ देर बात करते करते पापा ने कहा बेटा तुम क्यूँ नही देख लेते यह सब जब तक ताउजि ठीक ना हो जाए, में अपना फाइनल एअर का एग्ज़ॅम दे चुक्का था बस अब रिज़ल्ट आने की देरी थी, ताकि में आगे पढ़ाई के लिए अड्मिशन ले सकूँ, और मेने पापा से कहा के में अपनी पढ़ाई कैसे छोड़ सकता हूँ, उन्होने मुझे काफ़ी समझाया बाद में मम्मी भी पापा के सुर में सुर मिलाने लगी और यह तय होगया के मेरे रिज़ल्ट आने तक जो 2 महीने बाद आने वाला था में ताउजि के घर पे ही रहूँगा और ताइजी की हर काम में मदद करूँगा.


मुझे बिल्कुल अछा नही लगा पापा मम्मी का यह ड्सिशन पर मेने कुछ नही कहा और छत पर चला गया, रात के तकरीबन 11 बजे चुके थे सब सो गये थे, में यह सोचने में बिज़ी था के में अपना टाइम कैसे बिताउन्गा, तभी मेरी नज़र ताउजि के रूम पे पड़ी, छत से उनके रूम की खिड़की सॉफ दिखाई देती थी, मेने देखा ताइजी ताउजि की तेल से मालिश कर रही थी, दोस्तों तब तक मेरे मंन में ताइजी या किसी और घर की लेडी के बारे में कोई ग़लत विचार नही था, मेने देखा ताइजी ने सारी पहन रखी थी और वो ताउजि के बॉडी पे मालिश कर रही थी, वैसे आपको ताइजी के बारे में बता दूँ उनकी उमर करीबन 45 साल है और वो थोड़ी खूबसूरत है, उनकी बॉडी थोड़ी हेवी है, ख़ास करके उनकी गांद और थाइस का एरिया और उनके बूब्स भी बड़े हैं, अचानक मेने देखा के तेल की बॉटल जो कि बिस्तर पे पड़ी हुई थी वो गिर गयी, सारा तेल बिस्तर पे फैल ना जाए इसलिए ताइजी उसे सॉफ करने में लग गयी, और इस चक्कर में थोड़ा तेल ताइजी की सारी पे भी लग गया, ताइजी सब साफ कर के बाथरूम में चली गयी, शायद अपनी सारी सॉफ करने गयी होंगी, जब वो बाहर आई तो सिर्फ़ पेटिकोट ओर ब्लाउस में थी, ताइजी का फिगर मेरी आँखों के सामने था, और सच बताउ दोस्तों उन्हे देख के मेरे अंदर अजीब से हुलचूल मच गयी, कुछ मिनिट में ही मेरा उनको देखने का नज़रिया बदल गया, फिर उन्होने लाइट बंद की और सो गयी, में बोहत निराश हुआ और सोने चला गया, मुझे पूरी रात नींद नही आई और में ताइजी के बारे में ही सोचता रहा...


किसी तरह सुबेह हुई छोटे दोनो चाचा उनकी फॅमिली अपने घर जाने को तैयार थे, तभी पापा ने सबको बुलाया और बताया कि कुछ महीने में यहीं रहूँगा और ताउजि के घर और घरवालों की देख भाल करूँगा, सब यह सुन कर सब खुश हुए ख़ास करके ताइजी क्यूँ की वो यह सब अकेले संभाल ने में घबरा रही थी, फिर पापा ने ताइजी से कहा के आप निश्चिंत रहे यह आप लोगो की देख भाल आछे से करेगा, बस कुछ देर बाद नाश्ता करके दोनो चाचा ने अपने घर चलने की तैयारी की, दोपेहेर को सिर्फ़ में पापा मम्मी और ताउजि की फॅमिली थी, में पूरा दिन ताइजी को ही देखता रहा क्यूँ कि अचानक वो मेरे लिए किसी हेरोयिन की तरह हो गयी थी, जिसे पाने के लिए में बेताब था, जब वो झाड़ू लगा रही थी तो पीछे से उनकी मोटी गांद देख कर मंन कर रहा था के अभी जाके अपने हाथों में भर लूँ उनके चूतड़ और उनकी गांद मार दूं, पर यह सब किसी सपने जैसा ही था, क्यूँ की में जान ता था रास्ता आसान नही है.


जब रात को सब सो गये तो में भी छत पे चला गया और ताइजी के रूम में आने का इंतज़ार कर रहा था, तभी कुछ देर बाद ताई रूम में आई, आज उन्होने मालिश से पहले एक खराब कपड़ा बिस्तर पे रखा और वहीं खड़े खड़े अपनी सारी उतार दी, गर्मियों का वक़्त भी था और शायद ताइजी अपनी सारी के खराब होने के डर से भी उसे निकाल ना ठीक समझा होगा, ताइजी काले रंग के ब्लाउस और पेटिकोट में थी, उनका रंग सॉफ था इसलिए खूबसूरती और भी निखर के सामने आ रही थी, जब भी वो झुकती तो उनकी चुचियाँ जो के बाहर आने को तड़प रही थी सॉफ नज़र आ रही थी, और उनकी गांद ने मुझे बेकाबू कर दिया था, में वहीं छत पे बैठे बैठे अपने लंड को मसल रहा था, और कैसे ताइजी को चोद सकूँ उस बारे में सोच रहा था, फिर जब ताइजी ने मालिश ख़तम की तो वो बाथरूम में चली गयी, और जब बाहर आई तो मे देखता ही रह गया, ताइजी सिर्फ़ पेटिकोट में बाहर आई उन्होने ब्लाउस निकाल दिया था, और अब वो मेरे सामने सिर्फ़ ब्रा जो कि काले रंग की थी और पेटिकोट में थी, मेने जितना सोचा था उससे ज़्यादा बड़ी चुचियाँ थी उनकी, तभी उन्होने गाउन पहन लिया और सो गयी, अब मेरा सिर्फ़ एक ही अरमान था किसी तरह ताइजी को चुदवाने के लिए तैयार करने करूँ

पूरी रात ताइजी के ख़यालों में ही निकल गयी, सुबेह जब उठा तो आँखे थोड़ी सूजी हुई थी और लाल भी थी, में जब अपने कमरे से बाहर आया तो सबसे पहले मुझे मेरी ताइजी ही मिली, मेने उन्हे देखकर स्माइल दी, तब उन्होने का कहा बेटा तुम्हारी आँखें सूजी हुई क्यूँ है और लाल भी है, और मेने उनसे कहा ताइजी आपके बारे में सोच सोच कर नींद नही आती, उनकी आँखें भर आई उन्हे लगा के में उनके लिए इतना सोचता हूँ पर उन्हे क्या पता था के में उन्हे चोदने का प्लान बना रहा हूँ, फिर जब में नीचे आया तो देखा के पापा मम्मी भी घर जाने की तैयारी कर रहे थे , मेने मम्मी से पूछा के इतनी जल्दी तभी उन्होने बताया के पापा के ऑफीस में ज़रूरी काम है अब वो और नही रुक सकते, इस तरह दोपेहेर तक पापा मम्मी भी चले गये.


अब हम 5 लोग ही बचे थे घर में, पूजा अपने किसी दोस्त के यहाँ गयी थी क्यूँ कि उसके भी एग्ज़ॅम कुछ दिनो में थे, सुजाता घर का सब काम देखती थी और ताइजी खेत खलियान और ताउजि को का, दोपेहेर को मेने देखा के ताइजी एक बड़ा सा पोतला जिसमे बोहत सारे कपड़े थे वो लेके खेत की तरफ जा रही थी, मेने उन्हे आवाज़ लगाई तो वो रुक गयी और पूछा क्या है बेटा, मेने कहा ताइजी इतनी धूप में आप कहाँ जा रहे हो, उन्होने कहा बेटा यह सब चदडार और बाकी घर के कुछ कपड़े है वो देने जा रही हूँ, मेने कहा किसे देने जा रही हैं आप, तब ताइजी ने बताया के हमारे पंप हाउस पे एक मजदूर रखा है वो वहीं रहता है अपनी बीवी के साथ, उसी की बीवी को धोने के लिए देने जा रही हूँ, मेरे पास भी कोई काम नही था तो मेने कहा लाओ ताइजी में ले लेता हूँ, मेने ताइजी के हाथ से पोतला ले लिया और उन्हे कहा चलिए, ताइजी मेरे आगे चल रही थी, ताइजी ने ब्लू कलर की सारी और मॅचिंग ब्लाउस पहन रखा था, और गर्मी की वजह से उन्हे बोहत पसीना आरहा था, इससे उनकी वाइट ब्रा भी दिख रही थी, वो मेरे आगे चल रही थी और उनके मटकते हुए चूतड़ देख के मंन कर रहा था उन्हे वहीं चोद दूं, पर में मजबूर था, दोस्तों में जानता हूँ और स्टोरी की तरह मेरी स्टोरी काफ़ी स्लो है पर हक़ीक़त और कल्पना में बोहत फरक होता है, खैर जब हम पंप हाउस पर पोहचे तो वहाँ कोई नही था, ताइजी ने आवाज़ लगाई उस औरत का नाम पार्वती था, पर काफ़ी देर तक जब कोई नही आया.

तभी एक दूसरा मजदूर आया और उसने बताया के भोला और पार्वतीके किसी रिश्तेदार के यहाँ मौत हो गयी है वहाँ गये हैं, कल तक आ जाएँगे, तो मेने ताइजी से पूछा अब घर वापस चले तो उन्होने कहा अब यहाँ तक आ ही गये हैं तो कपड़े धो ही लिए जाए क्या भरोसा यह लोग कल आए के ना आए, उन्होने कहा क्या तू मेरी मदद करेगा मेने तुरंत हां कर दी, फिर ताइजी पंप हाउस में गयी वहाँ से कपड़े धोने का सामान ले आई और हम ट्यूबिवेल के पास चले गये, वहाँ जाते ही ताइजी ने अपनी सारी को थोड़ा उँचा कर उसे कमर में फसा दिया, ताकि उनकी सारी गीली ना हो, उनकी गोरी टांगे देख कर मंन कर रहा था उन्हे छू लूँ और किस करूँ

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:44


ताइजी एक पत्थर पर बैठ गयी और सारे कपड़े एक तरफ रख दिए, मेने उनसे पूछा ताइजी मुझे क्या करना है, तो उन्होने कहा के यह सारे कपड़े भिगो दे और फिर एक एक कर के देता जा, मेने झट से सारे कपड़े भिगो दिए और थोड़ा वॉशिंग पाउडर भी डाल दिया, ताइजी कहने लगी तुझे सब पता है, मेने कहा ताइजी हॉस्टिल में सारा काम खुद ही करना पड़ता है, कपड़े भिगोने के बाद में ताइजी के साइड में बैठ गया और उन्हे एक एक कर के कपड़े दे रहा था, ट्यूबिवेल के आस पास की जगह पत्थर से बनाई हुई थी, कुछ काम ना होने की वजह से मेने कहा लाओ में भी ब्रश मारने में आपकी मदद कर देता हूँ, उन्होने कहा रहने दे बेटा में कर लूँगी मेने कहा ताइजी ऐसे तो शाम हो जाएगी, उन्होने स्माइल दी और अपना काम करने लगी, फिर में ताइजी के सामने आके बैठ गया, और भिगोये हुए कपड़ो को धोने लगा, तभी अचानक बाल्टी में हाथ डाल ते वक़्त मेरे हाथ में ब्रा आ गई, जब मेने उसे निकाला तो ताइजी थोड़ा शर्मा गयी, मेने कहा ताइजी आप तो कह रहे थे चदडार और दूसरे घर के कपड़े हैं, तो वो शरमाते हुए बोली बेटा यह भी कई दिनो से धुले नही थे इसलिए सोचा इन्हे भी धुल्वा दूँगी..

फिर जब में ब्रा को गौर से देख रहा था तो उन्होने हिचकिचाते हुए पूछा क्या देख रहा है, में अचानक चौक गया हड़बड़ा ते हुए कहा कुछ नही, उन्होने प्रेशर दिया तो मेने कह दिया के डिज़ाइन काफ़ी मॉडर्न है इसलिए देख रहा था, फिर डरते डरते मेने पूछा क्या यह आपकी है, वो शरमाते हुए कहने लगी हां यह मेरी है, वो ब्लश करने लगी, उसके बाद हमारे बात करने के तरीके में डबल मीनिंग आ रहे थे, ताइजी ने कहा तुझे बड़ा पता चलता है डिज़ाइन के बारे में तो में कुछ नही बोला और मुस्कुरा दिया, मेने हिम्मत करके कह दिया ताइजी यह तो आप पे खुद सजती होगी, वो मेरी तरफ देखती ही रह गयी और जैसे ही मेने उनकी तरफ देखा वो शर्मा गयी, अब इन सब बातों में उन्हे भी मज़ा आरहा था, वो अचानक खड़ी हुई के मेरी कमर अकड़ गयी है ज़रा सीधा कर लूँ, फिर थोड़ी देर बाद बैठ गयी पर जब बैठी तो उन्होने अपनी सारी और उपर कर ली, अब सारी घुटनो के उपर तक आ गई थी, ताइजी के गोरे पैर और थोड़ी थोड़ी झांगे दिख रही थी, मुझे पता ही नही चला के में ताइजी के टांगे देखने में इतना मस्त था के कब उन्होने मुझे देखते हुए पकड़ लिया, जब मेरी नज़र उन पर पड़ी तो वो मेरी तरफ ही देख रही थी, में थोडा डर गया पर उन्होने कुछ नही बोला और स्माइल दे कर अपना काम करने लगी.

आधे कपड़े हम धो चुके थे, और आज तक जिंदेगी में मुझे कपड़े धोने में इतना मज़ा कभी नही आया, धूप तेज होती जा रही थी और गर्मी भी बढ़ रही थी, ताइजी फिर खड़ी हुई कहने लगी के अब उमर हो गयी है इसलिए यह कमर भी जवाब दे रही है, मेने कहा ताइजी किस ने कहा आपसे के आपकी उमर हो गयी है, आप तो अभी भी किसी भी जवान लड़की को पीछे छोड़ दे, वो ब्लश करने लगी और कहने तू तो पागल है, मेने कहा सच ताइजी आपको देख कर उमर का अंदाज़ा नही लगाया जा सकता, वो मुस्कुरई और कहने लगी पता नही तुझे ऐसा क्यूँ लगता है, फिर कहने लगी देख तो मेरी सारी भीग गयी और पेटिकोट भी, मेने कहा ताइजी यहाँ आपके और मेरे सिवाय कोई नही है, थोड़ी देर में कपड़े भी ख़तम हो जाएँगे तो आप अपनी सारी उतार के सूखा दो, पहले तो वो हिचकिचाई पर मेरे बोलने पे उन्होने एक कोने में जाके सारी निकाल दी और सुखाने डाल दी, जब वो आई तो में उन्हे देखता ही रह गया, ब्लू ब्लाउस और पेटिकोट में बड़ी कामुक लग रही थी, वो जान चुकी थी के में उनके शरीर को उपर से नीचे तक देखे जा रहा हूँ पर कुछ बोली नही, वो बैठने जा रही थी तभी मेने कहा अर्रे ताइजी संभाल ना कहीं पेटिकोट और गीला ना हो जाए, इस पर वो बैठने से पहले उसे थाइस तक उपर कर के बैठ गयी, अब जब वो बैठी तो मिड थाइस तक सॉफ नज़र आरहा था, और उनकी सफेद रंग की पॅंटी भी दिख रही थी.

मेने कहा ताइजी कमर ज़्यादा दुख रही है क्या, तो उन्होने कहा हां दुख तो रही है बेटा पर कोई उपाय नही है, काम तो करना है ना, मेने कहा में मालिश कर देता हूँ आपको अछा लगेगा, बोली रहने दे बेटा तू इतना काम करवा रहा है वोही बोहत है, मेने ज़ोर देते हुए कहा इसमे क्या हुआ, वैसे भी पापा ने मुझे कहा है के में आपका आछे से ध्यान रखूं, तो यह तो मेरा फ़र्ज़ है ना, वो मान गयी और कहने लगी पहले कपड़े धो लेते हैं फिर देखते हैं, मेरी नज़र उनकी थाइस से हट ही नही रही थी, उन्होने कहा कहाँ खोया है तू, मेने कहा जगह बोहत अछी है यह, अछा लग रहा है, और में यह सब कह रहा था ताइजी की थाइस की तरफ देख के, वो कहने लगी चल अब यहाँ वहाँ देखना छोड़ और यह कपड़े सुखाने में मेरी मदद कर, हमने सारे कपड़े लिए और झदिओ पे सुखाने लगे, ताइजी का पेटीकोत पूरा भीग चुक्का था और पॅंटी भी इसलिए कपड़ा उनके चूतड़ से चिपक गया था, उन्होने जान बुझ कर कपड़े सही नही किए, वो मेरे आगे खड़ी थी और में उन्हे कपड़े पास कर रहा था सुखाने के लिए, फिर में हिम्मत करके ताइजी के दम पीछे खड़ा हो गया अब उनकी गांद और मेरे लंड में सिर्फ़ एक या दो इंच का फासला था, और उनके पसीने की स्मेल ने मुझे पागल कर रखा था, जब वो कपड़े लेने के लिए पीछे पलटी तो उनकी चुचियाँ मेरी छाती से टकरा गयी, वो थोड़ा मुस्कुराइ पर पीछे नही हटी, और कपड़े मेरे हाथ से ले कर सुखाने लगी, जान बुझ कर वो भी थोड़ा पीछे आई, अब उनके चूतड़ हल्के हल्के मेरे सख़्त लंड से टकरा रहे थे.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 03:44



फिर जब सारे कपड़े सुखाने डाल दिए वो बोली आ कुछ देर आराम करे, हम पंप हाउस में चले गये, वहाँ थोड़ा बोहत रसोई का समान था और एक खाट थी, पंप हाउस की चाबी भोला और ताइजी के पास ही होती है, खैर जब हम अंदर गये तो मेने ताइजी को पानी दिया उन्हे बोहत गर्मी हो रही थी, मेने हाथ पंखा उठा या और उन्हे हवा देने लगा, उन्हे बड़ा आराम मिल रहा था, और मुझे उनकी मदमस्त चुचियों को देख कर बड़ा आराम मिल रहा था, उन्होने आँख खोली तो देखा मेरी नज़र उनकी चुचियों की तरफ है, पर कुछ ना बोली और कहने लगी के में बाथरूम हो कर आती हूँ.

जब वो वापस आई तो वहीं आके बैठ गयी, पर मेने देखा के उन्होने ब्लाउस के दो हुक खोल दिए हैं और आँख बंद कर बैठ गयी में फिर से हवा देने लगा और उनकी चुचियों को देखने लगा, अब तक में जान गया था के वो भी इंट्रेस्टेड है पर पहल करने में शायद शर्मा रही थी, तभी मेने कहा आपका कमर का दर्द कैसा है, तो वो कहने लगी अब तो कमर के साथ पूरा शरीर टूट रहा है, में समझ गया मेने कहा आप लेट जाइए में मालिश कर देता हूँ थोड़ा आराम मिलेगा, वो कहने लगी बेटा रहने दे तू भी तक गया होगा मेने कहा नही ऐसी कोई बात नही, और बार बार कहने पे वो खाट पे लेट गयी, में सबसे पहले उनके पाँव की तरफ आके बैठा और उन्हे दबाने लगा, उनके पाँव काफ़ी मुलायम थे, उन्हे काफ़ी अछा लग रहा था, कह रही थी बड़ा आराम मिल रहा है, मेने कहा ताइजी आप देखते जाओ में आपको किसी चीज़ में तकलीफ़ आने नही दूँगा, फिर में कपड़े के उपर से घुटनो के नीचे तक दबा रहा था, वो आँखें बंद कर लेटी हुई थी, फिर थोड़ी देर बाद मेने उनसे कहा ताइजी कपड़े गीले होने की वजह से में सही तरीके से दबा नही पा रहा हूँ, अगर आप कहे तो में थोड़ा उपर चढ़ा दूं, उन्होने कहा बेटा तुझे जैसे ठीक लगे कर मुझे काफ़ी आराम मिल रहा है तेरे दबाने से.

फिर मेने पेटिकोट को घुटनो तक सरका दिया और दबाने लगा और अपना हाथ उनकी नंगी टाँगो पे घुमाने लगा, वो बीच बीच में सिसकिया ले रही थी, फिर मेने बिना पूछे पेटिकोट उनके घुटनो के उपर तक, यानी लोवर थाइस तक चढ़ा दिया अब आधे से ज़्यादा टाँगे नंगी थी, मेने कभी दबाता और कभी उनकी टाँगे और लोवर थिग्स फील कर रहा था, मेरा लंड मेरे पाजामे में टाइट हो चुक्का था, पर ढीले कपड़े होने के वजह से बाहर दिख नही रहा था, फिर कुछ देर ऐसे ही करने के बाद पेटिकोट को उपर थाइस तक चढ़ाने गया तो उन्होने कहा क्या कर रहा है मेने कहा ताइजी उपर तक दबा देता हूँ बोली नही ठीक है इतना काफ़ी है, मेरा मंन किया के अभी उनका बलात्कार कर दूं, पर सोचा के में अभी जल्द बाजी करके गेम खराब नही करता हूँ, फिर मेने उनसे कहा आप उल्टे लेट जाओ में थोड़ी कमर दबा देता हूँ, वो उल्टा हो के लेट गयी, में हल्के हल्के कमर दबा रहा था उन्हे मज़ा भी आ रहा था और आराम भी मिल रहा था, फिर मेने कहा ताइजी यह पेटिकोट का नाडा बीच में आरहा है, मेने ठीक से मालिश नही कर पाउन्गा तो उन्होने हल्के से अपने पेट उठाया और नाडा खोल दिया उससे पेटिकोट ढीला पड़ गया, कहने लगी अब जैसे चाहिए वैसे कर ले, मेने कहा अगर में खाट पे बैठ जाउन्गा तो आछे से कर पाउन्गा, वो बोली क्या मतलब मेने कहा अगर में घोड़े वाले पोज़ में आपके उपर आ जाउन्गा तो आछे से कर पाउन्गा, वो बोली ठीक है, फिर में उनके उपर आगया, मेने अपनी बॉडी उनसे दूर रखी ताकि उन्हे गुस्सा ना आए.
क्रमशः................