मस्तानी ताई

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 04:00



mein khush tha ke maa ke prati galat vichar ab mere mann mein nahi aarahe the, raat mein achanak meri neend khul gayi, meine dekha maa mere pass hi soyi hai, maa ne saree nikal di thi aur woh srf peticot or blouse mein so rahi thi, aur unka peticot ghutno tak aagaya tha, mein utha aur bathroom chale gaya, mere dimaag mein maa ko leke phir se kaamuk vichare aane lage the, meine bohat koshish ki par apne aap ko unke bare mein sochne se rok nahi paya, mein phir se apne bistar pe aaya aur sone ka prayas karne laga, par mein apne mann pe kaabu na pa saka, phir meine maa ko chhune ka socha, meine apne kaanpte hue haath maa ke haath pe rakhe, mujhe bohat darr bhi lag raha tha aur yeh sab karne mein ek maja bhi aaraha tha, maa meri taraf peeth kar ke so rahi thi, maa ke koi harkat na dikhane pe meine maa ke haath pe apne haath halke se ghumane laga, ohh kitna maja aaraha tha, mera lund pant mein tight hua ja raha tha, phir meine apna haath unke haath se hatake unki peeth pe rakh diya, unki peeth ka sparsh bada hi sukhdaayi tha, mein apna haath unki peeth pe ghuma raha tha, aur unki kamar pe bhi ghuma raha tha, mere under ka shaitan sirf apni vaasna ki bhook mitana janta tha, ab mujhe iss baat ki bhi parwah nahi thi ke woh bhook mein apni maa ko chhu ke bujha raha hun, meine dheere dheere apne aap ko unse sata diya, ab maa ki gaand mere lund se halka halka touch ho rahi thi, aur mera haath unki komal peeth ke sparash ka anand le raha tha, maa ne koi bhi harkat nahi ki aur meine apne lund ko maa ki gaand se thoda aur sata diya, ab unke chutad ki garmi mujhe apne lund pe mehsus ho rahi thi, aur mera lund unki gaand ki darar mein phans raha tha, ab meine apna haath unki kamar aur chutad ke area pe rakh diya aur unke chutad ko halke halke sehlane laga, aur saath saath koi harkat na hone pe unki gaand mein apna lund bhi dabaye ja raha tha, meine dheere dheere apna haath unki jhanghon pe ghumane laga, maa koi bhi harkat nahi kar rahi thi, to meine unka peticot upar uthana shuru kar diya, oh doston mujhe itna maja kabhi nahi aaya, mera lund maa ki moti munsal gaand mein phansa hua, mere haath unki jhanghon ko feel kar rahe the, aur mein apne aap ko satve aasman pe paa raha tha, meine dheere dheere maa ka peticot kamar tak utha diya tha, ohhh kitna maja aaraha tha unki chikne jhanghon pe haath ghumane mein, maa biklul nahi hil rahi thi aur na hi koi reaction de rahe hi, aur mein iss baat ka pura fayda utha raha tha, meine dheere dheere haath maa ki panty tak pohcha diya, aur jaise hi mera haath unki panty se touch hua mere sharer mein jaise bijli si daud gayi aur mera shayad precum chhut gaya, mujhe apni pant mein geela pan mehsus ho raha tha, meine apne aap ko maa se aur chipka liya ab mere pet ka hissa aur maa ki peeth jud chuki thi, maa ki chut ka sparsh panty ke upar se bada majedaar thi, maa ki chut fuli hui thi aur moti thi, meine halke halke maa ki chut bhi daba raha tha, oh kya bataun doston kitna maja aaraha tha, meine maa ki chut ko panty hata ke mehsus karne ka socha tabhi maa ne karwat badli, meri to saanse ruk gayi aur mein sone ka naatak karne laga aur mujhe pata hi nahi chala ke mujhe kab darr ke maare neend aagayi, subeh jab utha to dekha maa nahi thi, mein foran fresh hua aur neeche aagaya, maa aur taiji aur didi baith ke baat kar rahe the, mujhe dekh ke maa ne kaha uth gaya beta, unhone didi se kaha, sujata beta iske liye chai nashta le aao, didi wahan se kitchen mein chali gayi, aur ab mein maa aur taiji baithe the, maa ke vyvahar mein koi farak na dekh ke meri jaan mein jaan aayi, phir meri najar taiji pe padi, woh uss waqt paanv mode baithi hui thi aur unki saree ghutno tak unchi ho chuki thi, unki gori taange dekh ke mujhe unhe chodne ka mann kar raha tha, unhone mujhe unki tango ki ore dekhte hue dekh liya tha, unhone mujhe ek naughty smile di aur apni taang dhakne ke bajay thodi aur khol di ab taiji ki jaangh ka najar saaf tha, mera lund pant mein khada ho raha tha, taiji iss stithi ka bharpur fayda utha rahi thi aur mujhe aur lalcha rahi thi, itne mein didi chai leke aa gayi, jaise hi woh mujhe chai de rahi thi, aur mein chai ka cup unke haath se lene ke liye jaise hi apna sar uthaya mein dekhta hi reh gaya, didi ke jhukne ki wajah se unke chuchiyan saaf dikh rahi thi, unhone kale rang ki bra pehni thi aur unki chuchiyan badi badi thi, mein soch raha tha, ke mera yahan aana hi galat ho gaya, kyunki pehle taiji phir maa phir parvati aur ab didi ko bhi mein vaasna bhari najar se dekhne laga tha, aur mein apne aap ko chai pite pite kos raha tha, tabhi taiji ne kaha chal beta chai pi li ho to jara kheton mein chakkar laga ke aajayen, meine kaha thik hai, itne mein maa ne bhi kaha ke mein bhi aati hun, taiji ke chehre pe to mayusi aagayi aur mere bhi, khair hum teeno kheton ki ore chal diye,


kuch hi der mein pump house aagaya, wahan parvati aur bhola dono the, unhone hume dekh ke pranaam kiya, phir taiji ne usse pucha ke sabke paise aagaye, uss ne kaha maalikn sirf 2 logo ke baaki hai, unhone aaj dene ka vaada kiya hai, phir taiji ne usse kaha ke jao abhi leke aao, woh taiji ki baat khatam hote hi nikal gaya, maa ne taiji se kaha ke mujhe aap humare aam ke bag dikhao na, to taiji ne kaha chaliye, mein wahin baitha tha, to taiji ne kaha tum nahi chaloge beta, meine kaha nahi mein yahin thik hun aap ho aayaiye, aur phir woh dono aam ke bagiche ki taraf chal diye, jaise hi woh thoda dur pohch gaye mein pump house ke under chala gaya, wahan parvati khana bana rahi thi, woh rotiyan sek rahi thi, usne mujhe dekha nahi tha, meine usse kaha kabhi hume bhi rotiyan sekne ka mauka de do, woh piche palti aur mujhe dekh ke ek kaatil muskaan di, kehne lagi ke sek lona saheb roka kisne hai, maa taiji aur didi ko dekhne ke baad mein chodaai ke liye tadap raha tha, meine parvati ka haath pakadkar usse khada kar diya, aur apni baahon mein le liya aur isse pehle ke woh kuch bolti mein apne honth uske honth pe rakh diya, woh samajh gayi ke aaj mein bohat josh mein hun, woh dehaat thi par kiss karna usse achi tarah aata tha, usne mera bharpur saath diya, aur apni jeebh mere muh mein daalke usse mere muh mein ghumane lagi, mein blouse ke upar se uski chuchiyon ko masal raha tha, woh bhi paagalon ki tarah mera saath de rahi thi, phir meine bina der kiye usse diwar se sata diya aur chumte hue hi uski saree upar karne laga, jaise hi saree kamar tak aayi, meine dekha usne panty nahi pehni thi aur uski chut pe kaafi baal the, meine usse pucha ke panty kyun nahi pehni woh boli aise hi acha lagta hai, meine usse kaha ke chut ke baal saaf rakha karo aur mujhe baalon wali chut pasand nahi woh boli agli baar nahi milenge, phir mein jara sa jhukha lund uski chut ke saamne aaya, meine puri teji ke saath lund uski chut mein pel diya, aadha hi gaya tha aur meri aur uski jaan nikal gayi, uski chut bohat tight thi, aur mera lund mushkil se aadha under gaya, woh kehne lagi saheb nikal lo bohat dard ho raha hai, meine apna lund pura bahar nikala uski jaan mein jaan aayi, meine phir puri teji se lund uski chut mein daal diya, uski cheekh nikal gayi, ohhhhh saaaahebbbbbbbb kyaaaaaaaa karrrrrr diyaaaaaaaa uuuuuuiiiiiiiiii maaaaaaa marrrrrrrrr gauiiiiiiii baharrrrrr nikalloooo sahebbbbbbbb, mera pura lund uski chut mein tha, aur sach bataun doston uski chut kisi kunwari ladki jaisi thi, jisse kabhi kisine choda nahi ho, meine usse pucha ke bhola ka lund chota hai kya, woh bolii haaaannn saaahheeebb, ussskaaa lundddd bohatttt chotaaa, woh buri tarah haanf rahi thi aur ab dheere dheere usko maja aane laga tha,
kramashah................


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 04:01

गतान्क से आगे...............

फिर मेने उसके हाथ अपने कंधे पे सेट किए ताकि उसे लटकने में आसानी हो, और तेज तेज झटके मारने लगा, सुबेह के नज़ारे की वजह से में बोहत ज़्यादा उत्तेजित हो चुक्का था, और पार्वती मेरी हवस का शिकार बन रही थी, वो भी अपने आप को मुझसे चिपकाए कह रही थी, अयाया साअहीब्ब्ब्ब आअपकीए लुंद्ड़द्ड मेंन्न्न् जादुउऊ हाइईइ, आइससिईइ चुदाइईइ मेरिइइ आज्ज्जज तक्क्क्क कीसीईईई नीई नहियिइ कििई, आआअहह ऊऊऊओह उूउउइइइम्म्म्ममाआ, आआओउउउर्र्रर जोर्र्र्रर सीईई, हाआनन्न आआओरर्र उंड़रररर डलूऊओ साआहेबब्बबब आआआः, उउउउउइम्म्म्म्माआ, मेने उससे कहा ले मेरी रानी औरर्र ले ली, और तेज तेज झटके मारने लगा, वो भी पूरा साथ दे रही थी, उसकी चूत के दीवाल मेरे लंड को निचोड़ रही थी, फिर मेने अपना हाथ उसकी कमर के नीचे लगाया और उसकी गांद पकड़ के उपर नीचे करने लगे, ऑश दोस्तों में बता नही सकता कितना मज़ा आरहा था, वो भी मेरे साथ उछल रही थी, और चुदाई का पूरा मज़ा ले रही थी, फिर मेने उसके मूह पे अपना मूह रखा और जितनी ताक़त से झटके मार सकता था मारने लगा, वो मेरे मूह से अपना मूह हटा के कुछ बोलने की कोशिश कर रही थी, पर मेने कुछ नही कहने दिया, और अपने होंठ उसके होंठ से चिपकाए रखे, वो ग्रोन और मोन कर रही थी, हमम्म्ममममममम हूऊऊऊऊऊओ आआआआआआअहह अब मेरा पानी छूटने वाला था, मेने अपने होंठ हटाए तो वो कहने लगी के क्याआअ जाआन लूऊगीई मेरिइई, मेरिइई चुतटत्त पुरीई फ़ाआद्दद्ड दीई है,,, मैने कहा मेरी जाआन्न मेंन्न्न् झाआढ़नईए वलाआ हूँ, वोह बोली उंड़रररर नहीइ निकलल्ल्ल ना, फिर मेने उसे बिठाया और अपना लंड उसके मूह में दे दिया, वो भी मस्त होके लंड को लोल्ल्यपोप की तरह चाटने और चूसने लगी, मेने उसका सर पकड़ा और उसके मूह को चोदने लगा, वो भीई रंडड़ीई की तरह पूरा साथ दे रही थी, फिर मेने अपने झटके उसके मूह पे तेज किए और उससे कहा, ओह्ह्ह्ह मेरिइइ रनीईइ मेईन्न्न्न् एयेए रहा हूँ, वो भी और ज़ोर से चूसने लगी, कुछ ही पलों में मेरे लंड से गरम फावरा उसके मूह में छूट गया, मेने उसका सर अपने हाथ से पकड़ रखा था, वो पूरा रस पी गयी और कुछ उसके मूह से बाहर आगेया था, में थक के चूर हो चुक्का था, में वहीं खाट पे लेट गया और पार्वती हाथ मूह धोके अपने काम में लग गयी, कुछ देर बाद जब मेरी आँख खुली तो मेने देखा के पार्वती घर में अकेली है और अभी तक भोला नही आया था, वो घर का काम कर रही थी, वो थोड़ा अपनी टाँगो को चौड़ा कर के चल रही थी, उसने मुझे जगा हुआ देख के कहा, देखा साहेब आपने मेरी चाल बिगाड़ दी अब मुझे घर का काम करने में तकलीफ़ हो रही है, मेने उससे के मुझे बता दो में कर देता हूँ तुम्हारा काम, वो बोली रहने दो, मेने उससे कहा के तुमने आज मुझे खुश कर दिया है बोलो तुम्हे क्या चाहिए, वो कहने लगी के साहेब आप सच में मुझे कुछ तोहफा दोगे, मेने कहा हां बोलो, तो वो कहने लगी के साहेब अबकी आप शहेर जाओ तो मेरे लिए कुछ सारी ले आना, मेने कहा ठीक है, में वहाँ से चलते समय उसे 500 रुपीज़ दिए वो खुश हो गयी और मुझे एक बड़ी से किस की, फिर में जैसे ही घर की तरफ बढ़ रहा था तो मुझे याद आया के मा और ताइजी आम के बाग की तरफ गये हैं तो में भी वहीं जाने लगा, कुछ देर चलने के बाद मेने देखा के मा और ताइजी भी लौट रही थी, उन्होने मुझे देखा और पूछा क्या किया अब तक मेने कहा कुछ नही, और फिर हम तीनो घर के ओर चल दिए, दोपेहेर हो चुकी थी, हम घर पोहचे तो देखा दीदी ने सारा काम कर लिया था और खाना भी तैयार था, अब पहली बार मेने दीदी को ध्यान से देखा, उनका कद करीबन 5,,6 इंच होगा, और उनका शरीर ना मोटा ना पतला एक दम फिट था, और उनकी चुचियाँ भारी भारी थी और उनकी गांद का शेप भी मस्त था, अचानक दीदी मुझे किसी विश्वा सुंदरी जैसी लगने लगी थी, में अपने आप कोस भी रहा था यह सब करने पे, और अंडर ही अंडर मुझे मज़ा भी आरहा था, में जानता था के मेरे अंडर का शैतान जाग चुक्का है, और अब मुझे हर औरत्को वासना की नज़र से देखने की आदत हो चुकी थी, अब वो औरत चाहे मेरी मा हो बेहन हो या ताइजी या कोई और, मतलब तो शरीर की अनंत भूख मिटाने से था, दीदी जब चल ती थी तो उनके चूतड़ देखने लायक होते थे, खैर हम सब ने साथ में खाना खाया और में अपने रूम में जाके लेट गया,

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: मस्तानी ताई

Unread post by raj.. » 05 Nov 2014 04:02



थकान की वजह से मेरी आँख लग गयी, कुछ देर बाद मा ने मुझे उठाया शाम करीबन 4.00 - 4.30 बजे थे, मा ने मुझे कहा हाथ मूह धोले और नीचे आके चाइ पी ले, में फ्रेश होके नीचे चला गया, मा ताइजी और दीदी बैठे थे, तभी ताइजी ने कहा के वो आज शाम की आरती के लिए पास ही के एक प्रसिद्ध मंदिर में जाना चाहती है, मा ने कहा ताइजी से, दीदी में भी चलूंगी और दीदी भी जाना चाहती थी, ताइजी ने कहा के में उन्हे मंदिर ले चलूं, और ताइजी ने मुझ से कहा के जाके पार्वती और भोला को बुला आओ ताकि घर में ताउजी का ध्यान रख सके, और पार्वती घर का काम और खाना बना सके, में तुरंत पंप हाउस की ओर चल पड़ा, वहाँ देखा पार्वती और भोला खेतों में काम कर रहे हैं, मेने उन्हे बताया के ताइजी ने घर बुलवाया है, वो दोनो तुरंत मेरे साथ घर की ओर चल पड़े, भोला आगे चल रहा था उसके पीछे पार्वती और उसके पीछे में, मेरा ध्यान पार्वती की गांद पे पड़ा, वो एक दम गोल थी और सारी के अंडर नाच रही थी जब वो चल रही थी, फिर वो पीछे मूडी और देखा में उसकी गांद को देख रहा हूँ, एक कातिल मुस्कान देके पूछने लगी क्या देख रहे हो साहेब, भोला हमारी बात नही सुन सकता था, मेने कहा तुम्हारी गांद बड़ी लाजवाब है, अगली बार इससे ज़रूर मारूँगा वो कहने लगी, के ना बाबा आपका वो बोहत बड़ा है, मुझे अभी भी दर्द हो रहा है, बातें करते करते हम कुछ देर में घर पोहच् गये देखा ताइजी दीदी और मा तैयार थी, मा ने क्रीम कलर की सारी और मॅचिंग ब्लाउस पहना था, और ताइजी ने पीले रंग की सारी पहनी थी और दीदी ने गुलाबी कलर का सूट पहना था, तीनो ही कातिल लग रही थी, और पार्वती की गांद ने मेरी भूख और बढ़ा दी थी, हम मंदिर के लिए चल पड़े, मंदिर करीबन आधे घंटे की दूरी पे था और मैं रोड से रिक्शा या बस मिल जाती थी, में जान बुझ के तीनो के पीछे चल रहा था, मुझे तीनो की मतवाली गांद को देखने मिल रही थी, सबसे बड़ी ताइजी की थी फिर मा और दीदी की उन दोनो से छोटी थी, ताइजी ने पीछे मूड के देखा, और इशारे से पूछा क्या हुआ, मेने इशारे में उनसे कहा किस दो, वो इशारे में बोली बाद में, कुछ देर चलने के बाद हम मैं रोड पे आगाये और हमे एक रिक्शा भी मिल गयी, अब हम 4 लोग थे और किसी एक को किसी ना किसी की गोदी में बैठना था, पहले ताइजी बैठी और फिर दीदी ताइजी की गोद में बैठ गयी फिर मा और में, मा मेरे राइट साइड बैठ थी, और हमारा बदन एक दूसरे से चिपका हुआ था, और मा के बदन का स्पर्श मुझे उत्तेजित कर रहा था, मा के शरीर से एक भीनी भीनी खुश्बू आराही थी, में थोड़ी थोड़ी देर में अपने आप को मा से चिपका लिया करता था, और ऐसे बिहेव करता जैसे रोड खराब होने की वजह से ऐसा हो रहा है, मा मेरे राइट में होने की वजह से में जान बूझकर किसी ना किसी कारण मा के बूब्स को अपनी कोहनी से टच कर रहा था, कुछ देर ऐसा करने पे जब मा ने कोई रिक्षन नही दिया तो में कोनी मा की चुचियों पे घिसने लगा, मा ने कुछ रिक्षन नही दिया, और वैसे ही बैठी रही, में समझ नही पाया के उन्हे एहसास हुआ के नही, के में अपनी कोनी से उनकी चुचियों से खेल रहा हूँ, मा की चुचियाँ कोमल और मुलायम थी, मुझे रास्ता कैसे कटा पता नही चला और हम मंदिर पोहच् गये, वहाँ बोहत भीड़ थी, और वो एक बोहत पुराना मंदिर था, और बोहत से लोग दर्शन के लिए आए हुए थे, और बड़ी लंबी लाइन थी दर्शन की, स्टील के पाइप्स से लाइन बनाई हुई थी, खैर हमने पूजा की थाली ली और लाइन में खड़े हो गये, भीड़ को देख के लग रहा था के कम से कम 1 से 1-1.30 घंटा लग जाएगा, ताइजी सबसे आगे खड़ी हुई थी और फिर दीदी और फिर मा और में लास्ट में खड़ा हुआ था, हम लाइन में घुसे तो भीड़ कम थी पर धीरे धीरे जैसे जैसे आरती का समय नज़दीक आ रहा था, भीड़ बोहत बढ़ गयी और खड़े रहने को खाली जगह नही थे, अब मा और मेरे बीच में एक इंच का फासला था, कुछ देर आगे बढ़ने के बाद, भीड़ बोहत ज़्यादा होने लगी, और लोग धक्का मुक्की करने लगे, और गर्मी भी हो रही थी, अब में ना चाहते हुए भी मा से जुड़ गया, और इसमे मेरा कोई हाथ नही था, यह भीड़ की वजह से हो रहा था, अब धीरे धीरे पीछे से धक्के बढ़ने लगे और भीड़ भी बोहत बढ़ गयी, अब मेरा शरीर मा से चिपक हुआ था, अचानक देखा मेरे लंड में हुलचूल हो रही है, और उसका कारण था मा की गांद, मेरा लंड मा की गांद से जुड़ा हुआ था, और धीरे धीरे बड़ा हो रहा था, मा की गांद मुलायम थी, और मेरे लंड को बड़ा मज़ा आरहा था, अब जब भी पीछे से धक्का आता में अपने आप को मा से और सटा लेता और अपना लंड उनकी गांद पे घिस देता, मुझे डर था के इस हरकत शायद मा नाराज़ होगी और शायद मुझे डाँट भी पड़ने वाली है, पर ऐसा कुछ नही हुआ, और मा भी कुछ नही बोल रही थी शायद उन्हे लग रहा होगा यह सब भीड़ की वजह से हो रहा है, धीरे धीरे भीड़ और बढ़ गयी और धक्के बोहत ज़्यादा आने लगे थे, अब मा की गांद और मेरा लंड एक दम सटा हुआ था, हवा तक के जाने की जगह नही थी, में भी भीड़ का फयडा उठा के मा की गांद से अपना लंड घिस रहा था, और उस स्तिति का आनंद ले रहा था, कुछ समय बाद मेरा लंड पूरी तरह खड़ा हो गया था और अब में जानता था मा उसको महसूस भी कर रही होगी, में उनके रिक्षन का इंतज़ार करने लगा, कुछ देर बाद मा पीछे मूडी और मुझे देखा, उस वक़्त ना मा के चेहरे पे स्माइल थी ना गुस्सा था, में समझ नही पा रहा था के वो क्या सोच रही है, अब जैसे जैसे हम मंदिर के अंडर दाखिल हुए भीड़ के धक्के और बढ़ गये, मंदिर की एंट्रेन्स पे सीडी थी, मा दो सीडी चढ़ गयी और में नही चढ़ पाया क्यूँ की जगह नही थी, और अब धक्का लगने पे मेरे मूह मा की पीठ से टच हो जाता, मेरा मूह मा के ब्लाउस के नीचे वाले हिस्से पे लग रहा था, मा का पसीना मेरे लिप्स पे टच हुआ और उनके पसीने से एक अजीब से खुश्बू आरहि थी, मेने उनके पसीने का स्वाद पहली बार चखा था और मुझे बड़ा अछा लगा, मेने भी स्तिति का फयडा उठा के उनके पीठ से अपना मूह हर धक्के पे चिपका दे देता है, और मेने कई बार मा की पीठ को किस किया और एक बार तो अपनी जीभ से लीक भी किया, मुझे ऐसा करने में बड़ा मज़ा आरहा था, अब धीरे धीरे हम मंदिर के अंडर आगाये, और आरती शुरू हो चुकी थी, सब का ध्यान आरती पे था और मेरे ध्यान मा पे था, मेने हिम्मत करके अपना एक हाथ मा की कमर पे रखा और ऐसे जताया जैसे धक्के की वजह से में अपना बॅलेन्स बनाने के लिए उनकी कमर का सहारा लिया वो कुछ नही बोली, और आरती में अपना ध्यान दे रही थी, मा की कमर की स्किन बोहत मुलायम थी, में धीरे धीरे अपना हाथ उनकी कमर पे घुमा रहा था, फिर जब आरती ख़तम हुई हम सब बाहर आए, हम बोहत थक चुके थे, मेने देखा मा मेरी तरफ देख नही रही है ना मुझ से बात कर रही है, और जब हमने घर के लिए लौटने के लिए रिक्क्षा पकड़ ली, मा मेरे पास ही बैठी हुई थी, में घबरा गया था, इसलिए लौट ते वक़्त मेने कुछ भी नही किया, कुछ देर में हम घर पोहच् गये और वहाँ पूजा पार्वती दोनो थे, पार्वती ने बताया के भोला सब काम करके घर चला गया क्यूँ की उस की तबीयत ठीक नही है, खैर हम सब ने हाथ मूह धोया और खाना खाने बैठ गये, खाना खाते वक़्त मेने देखा मा मेरी तरफ अभी भी देख नही रही थी, और मुझे बोहत चिंता हो रही थी के आगे क्या होने वाला है,