चुदासी चौकडी compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 09 Dec 2014 15:34

7
gataank se aage…………………………………….

Mere choomma chaatee se uski bhi choot geeli thee....pehli choodai ka us par koi nishaan nahin thaa ..choot chamak rahee thee ..mujh se raha nahin gayaa ..maine jhookte hue uski choot ki phank ko ungliyon se phaila diya aur apne honth gulaabi phank mein laga boori tarah choosne laga ..Bindu uchal padee ,,uski choot se ras ki dhaar mere munh mein phoot padee

" Haaaaaaaaaaaiii re ..ooooh main mar gayeee..Bhai ..kya kar rahe ho....aaaaah mere andar kya kar diya re Bhai...aaaah " Kanp uthee Bindu ....uske chutad uchal rahe the..

Mujh se ruka nahin gaya ...

Maine choosna band kiya...apna louDaaa thaamaa aur rakh diya uski choot par ..uski chutad thaami aur ek jhatke mein andar pel diya .....aadhe se jyada louDaa andar fatch se phisalta hua ghoos gaya..

" Aaaaah Bhai ..jara sambhaal ke dard hota hai ...ufffff ..main mar jaoongi Bhai ..dheere karo na ..."

Mera louDaa uski tight choot mein phansaa thaa ..mujhe hosh aayaa ..maine kya kar diya ..ufff..bechaari ki choot abhi bhi poori tarah khuli naheen thee ..

Maine use apne se aur chipaka liya use choomne laga ..uski chuchiyaan sehlane laga

" Oh sorry Bindu ..kya karoon ..tu ne mujhe paagal kar diya thaa na..."Aur main use aur bhi choomne laga ..

" Bhai koi baat nahin ..main bhi to paagal ho gayee hoon na ..tere louDe ke liye ....main samajhtee hoon Bhai..par abhi nayee nayee choot hai na Bhai..jaraa aaraam aaraam se karo na ....main thodi na rokoongi.."

Ufff Bindu jaisi sharmilee ladaki ke munh se choot aur louDaaa sun ke main aur bhi josh mein aa gaya .. jawaani ke josh ne use kitna besharm kar diya thaa ..sab kuch bhool gayee thee Bindu ....

Maine ab dheere dheere se apne aur bhi kadak hue louDe ko andar pelna chaaloo kar diya ...is baar andar jane mein jyade taklif naheen hui ..Bindu ne bhi apne ko bilkul dheela chod diya thaa aur apni tangein aur phaila dee theen ...phir ek aur jhatka diya maine aur poore ka poora louDaa andar thaa .....aaaah uski choot se ab to ras ki ganga beh rahee thee ...mere louDe aur uski choot ki deewar ke beech se rees rahee thee ...

Maine ab dhakke lagane shuru kar diye ..andar bahar ..andar bahar ..poori jad tak ..fatch fatch ki awaaz aur Bindu ki siskaariyaan " Hai re ....uffff ..Bhai ....aaaah ..itna mazaa ...oooh Bhai haan re ... aaj meri jaan nikal do mere raja Bhai....aaaaaaaaaa ..ye kya ho raha hai...."

Aur mere dhakke bhi jor pakadte gaye ....aur jor ...

Aur phir Bindu ki seeskaareeyan cheekh mein badal gayee ..:" Bhai..Bhai .....oooh Bhai ..bas bas ...aaaaaaaaaaah " ..aur wo apni chutad uchaali..mere louDe par uski choot ke kanpne ka . jakadne ka aur dheelee hone ka aehsas hua ..aur Bindu bhee dheeli ho kar , tangein aur haath phaila kar soost pad gayee ..uski choot se gadhaa ras ka reesao mere tannaye lund par mehsoos hua ..main bhee do chaar jor daar dhakke lagata hua uski choot mein peechkaari chod diya ..garm virya ki dhaar se Bindu ka soost badan bhi ganganaa gaya ..sihar uthee Bindu ..aur main uske seene par hanfta hua dher ho gayaa...

Do do baar ghamaasaan choodai se main past hua so rahaa thaa ..ke mere seene par kuch geela pan mehsoos hua.meri ankhein khul gayee ..dekha to Bindu jag gayee thee aur meri ghoondiyan choose jaa rahee thee aur haath neeche kiye mere murjhaaye louDe se khel rahee thee ....

Main chup chap leta rahaa aur Bindu ko dekhta rahaa ...aur man hi man sochne laga ke louDe aur choot ka khel bhi kyaa cheez hai...Bindu jaisi sharmeeli ladki bhi dekho kaisi besharam ho gayee ...

Maine kahaa" Bindu ..tujhe mera louDaa itna achhaa laga re ..? Dekh na sab ke saamne to kitna sharmaati hai aur abhi kitne pyaar pyaar se sehla rahee hai...?"

Mujhe jagaa dekh wo thodi sharmai aur nazrein neechi kar lee par bol uthee

" Haan Bhai ...tu theek hi keh rahaa hai..dekho na mujhe kya ho gayaa..mera haath khud hi wahaan chalaa gayaa "...aur mere louDe ko joron se jakad liya " Aur tera louDaa bhi to kitna mast hai re ... kitna kadak , mota aur lambaa ...haath se pakadne mein badaa achaa lagta hai re ..tabhi to saali Sindhu jab dekho ise thaamti rehti hai.."

Maine use apne se chipaka liya " Bas ab kya hai..ye to bas tum sab ke liye hi hai re Bindu ..jab man aaye thaam liya kar ...."

Tabhi uski nazar deewaal par lage ghadi ki or gayee aur wo chaunkti hui boli ..

" Are bap re dekh to Bhai 1230 baj gaye ..are baba chal uth ...Maa aur Sindhu aate hi honge ..."

Maine use phir se jakadaa aur uski chuchiyaan dabaa dee ...aur kahaa

" To kya hua meri behena raani..ab to sab kuch ho gayaa sab se ..kya chupa hai..aane do na unhein bhi saath lita denge ...."

Us ne mere galon par halka sa thappad lagate hue kahaa

" Chup re besharam ..aisa bhi kaheen hota hai ... " Aur apne ko chhoodaane ki koshish kee

maine use aur bhi chipaka liya aur kahaa

" Bas dekhti jaa Bindu ye louDe aur choot ka khel kya kya rang dikhataa hai...hum chaar hi rahenge ..par ab saath rahenge har samay ..sab kaam saath saath karenge ...."

" Hai re Bhai..main to sharm se mar jaoongi re ..aisa mat bol ....."

" Ha ha ha ! dekh Bindu ..pehle tu akele mein bhi kitna sharmaati thee ..par dekh ab teri halat...? Bas waise hi dekhna kitna achhaa lagega ...."

" Theek hai Baba jab ki jab dekhi jayegi..abhi to uth aur kapde pehen ...."

Aur aisa bolti hui Bindu mujhe dhakelti hui uth gayee aur apne kapde uthaa kone ki or chali gayee ..

Main bhi uthaa aur haath munh dho kapde pehen khaat par baith gaya ..

Thodi der baad hi darwaaze par khat khat hui , main samajh gayaa dono aa gayee theen ..maine Bindu ki taraf dekha ..wo bhi kapde pehen chookee thee ..main darwaaze ki taraf gayaa aur darwaazaa khola ..

Dono Maa beti baahar khade the..

Darwaazaa khulte hi Maa to seedhe choolhe ki taraf chali gayee ..uske haath mein ek badaa sa polythene bag thaa ..aur Sindhu mere saamne khadi mujhe neeharte hue boli

" Bhai chehra bada thakaa thakaa lag rahaa hai tera ..lagtaa hai Bindu ki to tu ne achhe se le li .." Aur Bindu ki or dekh joron se hansne lagi ...

Tab tak Bindu bhee paas aa gayee thee ... uske chehre par woi sharmeelee muskaan thee ..

Sindhu bol uthee " Hai re dekh to kitna sharmaa rehi hai..saali poore ka poora lund le li aur ab sharmaa rehi hai...bol mazaa aaya na..? "

" Chup kar besharam ..kuch bhi bolti hai ..." Bindu bolte hue uski taraf badhti hai use thappad lagaane ko ..Sindhu us se bachte hue aur joron se hanste hue Maa ki or chalee jaati hai ..Main bhi muskuraa rahaa thaa ..

" Are baba ye hansi mazaak chodo aur aa jaao.....khaanaa lagaati hoon main khaanaa to khaa lo ...."Maa ki awaaz aayee .

Khaane ki baat se mujhe mehsoos hua ki sahee mein joron ki bhookh lagee hai ..main bhi Maa ki or badhaa ..

Wahan dekhaa to do thaaliyon mein kaphee kuch rakhaa thaa ..pulao aur sabjiyan aur kuch meethaiyan bhee thee ..

" Are waah Maa aaj itna sab kahaan se le aayee ..??"

" Are beta Mrs Kapoor ke yahan kal keetee (kitty) party thee ..kaphi saamaan bachaa thaa ..us ne mujhe diya tum sab ke liye ..."

Main man hi man sochaa chalo Bindu ki pehli choodai ka jashna bhi ho gayaa ...Sindhu ki sharaartee deemaag mein bhi shayad yei baat aayee..wo kahaan chup rehti

Mere bagal mein baithtee hui us ne mere lund ko kas ke pakad liya aur sab ko dikhaati hui boli

" Waah re Maa ..dekh is lund ka kamaal ...Bindu ki pehli choodaai aisi jabardaast kee aur itni mast kee us khushi mein dekho hamaare yahaan meethai aur pakwaanon ka dher laag gaya ".....aur usne meri or apna chehra kiye mujhe choom liya...

Bindu ki to ankhein phaati ki phaati reh gayee Sindhu ki is besharmi se ...aur Maa ki ankhon mein ek chamaak aur lund ki bhook dikhee ...par use chupane ki nakaam koshish mein hans padee...aur kahaa

"Are Bindu ... theek hi to keh rahee hai Sindhu ..aaj tera udghaatan ho gaya ..chal isi khushi mein hum sab meethai khaayenge ....samajh le bhagwaan bhi khush ho gaya hai ..warna meethai aur pakwaan ka sanjog aaj hi kyoon hota ....."

Bindu ka to chehra dekhne layak thaa ...gaal ek dum laal ho gaye the ....

Phir us ne apni sharmeeli awaaz mein kahaa...

" Kya Maa tu bhi kaisi kaisi batein karti hai...wo to hai hee besharam ...saali khud to sab se pehle Bhai ka mota lambaa louDaa andar le li ..aur ab udghaatan mera karwa rahi hai .... " Bindu ne bhi baraabari mein jawab diya ...

Maine taali bajaate hue kahaa " Sabbaash Bindu ....chal aaj tu ne bhi kuch to bola ...."

Maa bhee boli " Haan re dekh to aaj Bindu bhi bol rahee hai..."

Sindhu kahaan chup rehti ..us ne phir se mere louDe ko jakadte hue kahaa " Sab Bhai ke hathiyaar ka kamaal hai Maa ..."

Maa joron se hans padee.." Waah re Bhai ke lund ki deewaani..tujhe har baat mein uske hathiyaar ka kamaal nazar aata hai ..jara sunoon to wo kaise...?" Maa ki ankhon mein phir se woi chamak aur bhookh dikhee.

Sindhu ne mere lund ko aur bhi achhe se jakad liya aur Maa aur Bindu ki or karte hue kahaa

" Dekh ..is hathiyaar ne aaj Bindu ki choot khol dee ...aur saath saath uska munh bhi khul gaya ..kyoon theek kaha na maine,,..?"

Is baat par hum sab ke saath saath Bindu bhi joron se hans padee aur kahaa ....

" Ufffff.Sindhu..tu bhi na.... baat mein tujh se koi jeet nahin saktaa.."

Waise baat Sindhu ki bilkul sahi thee ...ab dheere dheere Bindu bhi kaphi khulti ja rahee thee ..aur ghar mein ek badaa hi mast mahaul hota jaa raha thaa ....

Sindhu abhi bhi mere bagal baithe mere hathiyaar ko jakde thee ....

Main aagey ki or jhookta hua thaali se meethai uthaya aur Bindu ko kahaa

" Paas aa na Bindu ...chal teri udghaatan ki khushi mein tera munh meetha karta hun ... aa na re .."

Bindu chaahe kitni bhi khul jaye par uski nazaakat to rahegi hi..us ne sharmate hue ...ankhein neechi karte hue apna chehra meri or kiya aur munh khol diya ..

Maine pehle uske honth choome aur meethai munh mein daal diya ...

Sindhu uchal padee .." Waah Bhai ..maan gaye ...tussi great ho...".aur us ne mere louDe ko chodte hue meethai uthaai aur mere munh mein daal diya ..maine bhi us ke aur Maa ke munh mein meethai daali aur phir sab ke sab khaane par toot pade...

Khaate waqt khushi ke maare Maa ki ankhon se aansoo tapak rahe the ..

" Aaj pehli baar itni khushi is ghar mein aayee hai..beta main to nihaal ho gayee .... tere jaisa beta aur bhai sabhi Maa aur bahano ko mile ..." Maan ne apne aanchal se apne aansoo ponchte hue kahaa ..

Is baar Bindu bhi bol uthee " Haan Maa tu kitna sach bol rahee hai...Bhai ho to mere Jaggu Bhaiyya jaisa .."
Aur us ne mere gaal choom liye .

Sindhu ne bhi mere se chipakte hue meri doosri gaal choom lee ...

Hum sab hansi , majaak ke mahaul mein khanaa khaate rahe...

Kehte hain na choodai ke baad louDe ki bhookh to shaant ho jaati hai ..par pet ki bhookh jaag uth ti hai..mujhe bhi Bindu ki chudai ke baad joron ki bhukh lagee thee , aur aaj hi badhiyaa khaana bhi thaa ..chhak ke khayaa maine ...aur shayad sab ne ....

Khaane ke baad main to khaat pe jaate hi let gayaa aur , baaki sab bhi neeche bistar lagaa let gaye ..Maa mere baraabar neeche leti thee ...main usi or karwat liye use dekh rahaa thaa ...bharaa bharaa gadraayaa badan ... Maa kaam se thaki thee ..so rahee thee ...uski karwaat doosri taraf thee ..uski chutad meri or thee ... aaj pehli baar uski chutad itne itminaan se dekh rahaa thaa..kya golai liye hue thee ...gol gol ... aur saaree uske chutad ki phank mein ghoosi hui ... uske chutad ke ubhaar bilkul achee tarah dikh rahe the... man to kiya ke apna munh chutad mein ghoosa doon aur khaa jaaoon ...

Uski har cheez mere liye nayaab thee ... Maa ko dekhte hi mujhe us se lipat jaane ko jee karta ..usmein samaa jaane ko jee karta thaa ...us din kitna sukoon milaa thaa Maa ke saath ..yei to fark thaa us mein aur Bindu aur Sindhu mein ...Bindu aur Sindhu ko chodne ka baad mere louDe ki aag aur bhi bhadaak jatee par Maa ke paas meri pyaas aur louDe ki aag shaant ho jaati...Maa ki raseelee choot mein louDaaa shaant ho jataa aur uski choochiyon choosne se deemag shaant ...Bindu ko chodne ke baad mere andar abhi bhi aag lagee thee ...main boori tarah Maa ke paas jaanaa chah raha thaa ...jahan meri shanti thee ..haan Maa sahee mein meri Shanti thee ...

Aisa sochte sochte hi mera louDaa tannaa reha thaa ...ek dum kadak ..aur main Maa ki or dekhta hua apne haath se louDe ko thaame dheere dheere hilata jaa rahaa thaa ...dono behenein gaadhee neend mein theen, main bhi louDaa hilata jaane kab so gayaa ..

Neend khuli to dekhaa meri phooljhadi Sindhu mere louDe ko thaame mujhe uthaa rahee thee ..

" Bhai utho , chalo chai pee lo ...sab tumhaare liye baithe hain ..."

Achhee neend ki wazeh se main kaphi halkaa mehsoos kar rahaa thaa aur Sindhu ki harkaton ka jawaab dene ko taiyyar thaa ..

Maine use apni hathon se thaamaa aur apne upar laataa hua joron se bheench liya aur uske honth choosne lagaa ...wo bhi mujh se lipat gayee ...akhir Sindhu jo thee ..use to bas mauka chahiye ..

Udhar choolhe ke paas Bindu aur Maa baithe the hamaare liye ..

Bindu boli " Dekh na Maa ..tu ne Sindhu ko Bhai ko uthaane ko bheja ..saali use kya uthaigi..khud chipak gayee hai Bhai se .. "

Maa hansne lagi aur awaaz dee .." Jaggu beta chal uth .. aa ja jaldi chai pee le aur ek aur achhee baat hai aaj ki ..aa jaa sunaati hoon.."

Is baat par hum sab chaunk pade .." Achhee baat..?? kya hai Maa ..?? " Maine Sindhu ke chehre ko alag karte hue kahaa

Sindhu ne bhi kahaa " Waah Bhai ..kya mauka dekh tu ne Bindu ka udghaatan kiya re..."

Aur wo mere upar se uth te hue mera haath pakad mujhe bhi uthaaya aur mujhe apne se chipakaate hue unki or mujhe khichaate hue chal padi ..

Hum dono bhi wahaan Bindu aur Maa ke saamne baith gaye ..Sindhu mere se chipaki baithee thee ...main uske pet sehla rahaa thaa ..

Bindu khaa jaanewaali nigahon se hamein dekh rahee thee ..

Sindhu ne kahaa .." Are aise kya dekh rahee hai..aa na tu bhi chipak jaa ...Bhai ka dil aur hathiyaar dono bahut badaaa hai..kyoon hai na Bhai..??" Aur mere louDe ko bhi dabaa diya ..main sihar gayaa ..

" Chal besharam kaheen ki , kuch bhi bakwaas kartee hai ..." Bindu ne chai ka glass mujhe thamaate hue kahaa

Maine ek haath se chai ka glass sambhaalaa , doosra haath Sindhu ke badan se kkhel rahaa thaa ..

aur Sindhu bhi ek haath se chai pee rahee thee aur doosre haath se mere louDe se khel rahee thee ..Maa aur Bindu hamein dekh maje le rahe the..

Maine kahaa " Haan Maa bataa na kya achhee khabar hai ..?"

Maa ne kehna shuru kiya" Beta Missez (Mrs.) Kapoor hai na , unke bangle ka servant quarter khaali hai abhi..unhone hamein kahaa hai wahaan aa jayein ..."

Sunte hi main uchal padaa ..." Ye to sahee mein badi achhee baat hai Maa.."

Mrs Kapoor jinke yahaan Maa abhi sirf jhaadoo poncha aur bartan ka kaam karti thee ..kaphi paisewaali ek adhed umra ki aurat thee...unka bangla kaphi badaa thaa ...unki sirf ek ladki thee jo apne pati ke saath bahar rehti thee ..pati ki maut kisi beemaari ki wazeh se teen chaar saal pehle ho gayee thee ..bechaari akeli thee ...aur kitty party aur aisi hi partiyon se apna man lagaati ..

" Par Maa unke yahan to ek naukraani hai na ..?"" Maine kahaa

" Haan re thee to , par uski chori ki aadat se pareshan ho us ne use nikaal diya , aur ab mere ko bolti hai aa jaane ko ..koi khaas kaam nahin hai ..sirf unka khaanaa banana ..bartan ,kapde , jhaadoo poncha ..aur jo bhi upari kaam..par mujhe baaki kaam chodna padega..sirf unka hi kaam karna hai ..."

Sindhu Bindu to bahut khush the

Bindu ne kahaa " To kya hai Maa ...ghar bhi to achha hai na..is jhopde se to lakh darze achha hoga ...achha bathroom to hoga na wahaan..?'

Sindhu ne pucha " Kamre kitne hain Maa..??"

" Haan re bathroon bhi hai , kitchen bhi hai aur do kamre bhi hain..."

Bathroom ke naam se Bindu kheel uthee aur do kamron ke naam se Sindhu ...

" OOOhhh Maa ..do kamre..?? Ufff mazaa aa gaya ....ek kamre mein Bhai rahega aur bas hum teenon mein jis ka bhi man kare Bhai ke saath ......uhhhh bas Maa tum haan kar do ..."

Hum sab Sindhu ki baat se thahaake maar rahe the ...

" Ye Sindhu bhi ..bas iske deemag mein to hamesha ek hi baat rehti hai.." Bindu ne bhunbhoonate hue kahaa ..

" Are baba tum dono ladna band karo ...... main unhein haan kar deti hoon aur Missez Kapoor kahein to hum sab kal hi wahan chale jayenge .." Maa ne aakhri faisla suna diya..
kramashah…………………………………………..


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 11 Dec 2014 03:16

8

गतान्क से आगे…………………………………….

हम सब कितने खूश थे..'

सिंधु ने आख़िर बोल ही दिया..." ये सब भाई के लंड और दीदी की चूत का कमाल है...चाहे जो भी हो दीदी ..तेरी चूत है कमाल की..ऐसी खुली ..साली अपनी तो किस्मत ही खुल गयी ...भाई अब से तुम रोज इसकी चूत खुली की खुली ही रखना ..."

बिंदु उसे मारने को दौड़ी ..पर मैने उसे पकड़ लिया . और उसे चूम लिया ...और कहा " सिंधु ठीक ही तो कह रही है बिंदु..तू सही में कमाल की है.."

" उफफफफ्फ़..भाई तू भी ना.." और शरमाते हुए अपना चेहरा मेरे सीने पर रख दिया..बिंदु ने अपनी अदा दिखा ही दी ...

और फिर मा और सिंधु भी हम से चिपक गये .. हम सब नये घर की खुशियाँ एक दूसरे से बाँटने में जुटे थे....

दूसरे दिन मा ने मिसेज़. केपर से बात कर ली और हम सब अपने थोड़े से सामान के साथ अपने नये घर शिफ्ट हो गये ...नये घर के साथ हमारी एक नये जिंदगी की शुरुआत हुई....

सब बड़े खुश थे..सिंधु तो झूम रही थी खुशी के मारे ..उसे इस बात की खुशी थी के अब अपने प्यारे भाई के साथ इतमीनान से चुदाइ कर सकती है..बिंदु भी काफ़ी खुश थी पर उसकी खुशी में बाथरूम ने चार चाँद लगा दिए थे....उसे नाले की ओर जाने में बड़ी मुश्किल होती थी ...

और मैं..? मुझे तो बस मा का इंतेज़ार था ..कब मैं इस घर की चारदीवारी में , एक शकून भरे माहौल में उस के साथ खो जाऊं ..उसकी बाहों में , उसके सीने में समा जाऊं ....उसे इतना प्यार करूँ के हम दोनो सब कुछ भूल एक दूसरे में समा जायें ....मैं सिहर उठा इस सोच में ..मैं मा से लिपटने , उसमें समा जाने को तड़प रहा था ...

हमारे नये घर का माहौल ही अलग था ..कहाँ वो भीड़ भाड़ वाली झोपड़ी..जहाँ बाहर भी भीड़ और शोर-गुल ..और अंदर भी चार चार लोगो की जमात .... यहाँ हर तरफ बिल्कुल शांत था , अंदर भी बहार भी ..

म्र्स केपर के बंगले के चारों-ओर काफ़ी खुली जगह थी ...पेड़ पौधों से भरी..एक माली इनकी देख भाल करता... हमारा क्वॉर्टर बंगले के पीछे था , बंगले से लगा ...सामने भी खुला था और अपने पीछे भी खुला ...बड़ा मस्त था यहाँ का माहौल ...

मा म्र्स. केपर से पूछ कर उनके यहाँ से कुछ पूराने और बेकार पड़े फर्निचर लेती आई..दो तीन स्टील की कुर्सियाँ ..एक पुराना सा स्टील का पलंग ..जैसा हॉस्पिटल्स में होता...और एक स्टील का टेबल भी ...

इन्ही सब की सेट्टिंग और सॉफ सफाई में एक दिन निकल गया ...

मा सुबेह ही हमारी चाइ बना , बंगले पर चली जाती और वहाँ के काम निबटा ..करीब 12 बजे आ जाती ...खाने की चिंता नहीं रहती..खाना म्र्स केपर के यहाँ से लेती आती ...उनका बचा खुचा भी हमारे लिए बहुत था ...फिर शाम को करीब 4 बजे फिर जाती और रात का खाना साथ लिए करीब 8-9 बजे आ जाती ...

बिंदु और सिंधु भी अपने काम से सुबेह जा कर 12-1 बजे तक आ जाती थीं ..मैने भी अपना काम इसी हिसाब से सेट कर लिया था ...दो पहर के बाद मैं भी फ्री रहता था ..

मा की चाहत अपने चरम पर थी ...मैं पागल होता जा रहा था ...शायद मा का भी कुछ वोई हाल था ..सिंधु जब भी मेरे लौडे को थाम्ती ..बड़ी भूखी निगाहों से मा मेरे लंड को देखती. ..

रात हम सब खाना खा कर मा के कमरे में लेटे थे..मा स्टील वाले पलंग पर लेटी थी और मैं नीचे बीचे बिस्तर पर अपनी दोनो प्यारी बहनो के बीच..

अभी तक नये घर में चुदाई नही हुई थी ..आज मेरा मन चुदाई का उद्घाटन करने का था ..

मैं मा की ओर चेहरा किए लेटा था हम दोनो एक दूसरे को बड़ी ललचाई नज़रों से देख रहे थे ...और सिंधु मेरी ओर करवट लिए मेरी जाँघ पर अपना पैर रखे मेरे लौडे को मेरे पॅंट के उपर उपर से ही सहलाए जा रही थी ..और बिंदु मेरे से सटी हुई लेटी लेटी ही सिंधु की हरकतों का मज़ा ले रही थी ...

मैं गरम होता जा रहा था ..और लगातार मा को ही देखे जा रहा था..मा ने मेरी हालात समझ ली ..उस ने अपने ब्लाउस और ब्रा उतार कर अपनी चूचियों नंगी कर दीं ..और मुझे दिखा दिखा मसल्ने लगी ....उनकी निगाहें मेरे पॅंट के उभार की ओर थी

मैने मा की ओर देखते हुए कहा

" मा क्या देख रही है...देख ना सिंधु मुझे पागल कर रही है.." मैने कहा

मा ने जवाब दिया " अरे जग्गू वो बेचारी देख ना कितना प्यार करती है तेरे से...तभी तो ऐसा कर रही है .."

मा का जवाब सुनते ही सिंधु का मेरे लौडे से खेलना और भी ज़ोर पकड़ लिया ...और उसकी तंग मेरे जांघों के और भी उपर आ गये , उसका घूटना मेरे बॉल्स को दबा रहा था मैं मचल उठा ..

'"ऊफ्फ सिंधु...क्या कर रही है रे .." मैने कराहते हुए कहा ..

" क्या करूँ भाई..तेरा लंड है ही इतना मस्त..हाथों मे लेती हूँ ना..मुझे ऐसा लगता है मानो ये मेरी चूत के अंदर है .." सिंधु ने कहा और उसकी पकड़ और भी टाइट हो गयी

"मा सिंधु की किस्मत कितनी अच्छी है..उसे जो अच्छा लगता है कितने आसानी से मिलता जा रहा है .." मैं मा की ओर देखते हुए कहा ...मेरी नज़रों में मा ने अपने लिए तड़प देखी , और कहा

" अरे तो मेरे बेटे को किस ने रोका है....तेरा भी जो मन आए कर ना ..."

और ऐसा कहते हुए मा ने अपनी सारी भी कमर तक उठा दी ..और मेरी ओर थोड़ा और झूकती हुई अपनी टाँग घूटने से मोडते हुए उपर कर ली और फैला दी ..उसकी चूत , मुँह खोले मेरे सामने थी ..मैं तो पागल हो उठा .......

सिंधु और बिंदु भी बोल उठी " हां भाई ..तेरे को किस ने रोका ...हम सब तेरे लिए ही तो हैं ना .."

" सच्च ..?" ...मैने सब से पूछा .. मेरी नज़र अभी भी मा पर ही थी ..मा एक टक मुझे ही देखे जा री थी , उसका चेहरा तमतमाया और आँखें सूर्ख लाल , उस ने कुछ कहा नहीं...वो शायद अपने बेटे के अगले कदम का इंतेज़ार कर रही थी..

सिंधु अब मेरे से चिपक गयी थी और मुझे चूम रही थी उस ने अपने खेल को आगे बढ़ाते हुए मेरे पॅंट की ज़िप खोल मेरे लौडे को आज़ाद कर दिया . मेरा लौडा और भी कड़क होता हुआ उसकी मुट्ठी से जकड़ा था ...

बिंदु की नज़रें फटी की फटी थीं ... उस ने मेरे सीने में अपना सर रखे अपना मुँह छुपा लिया ..

मैं सीधा लेटा था और उसकी मुट्ठी में मेरा लौडा हवा से बातें कर रहा था..

मेरा मन तो मा को चोद्ने का था ..पर सिंधु के पागलपन और बिंदु की अदाओं को देख मैने सोचा चलो पहले इन्हें शांत कर दूँ ...फिर मा के साथ अपने कमरे में.......उफफफफ्फ़..मा के साथ होने की बात से ही मुझे झुरजुरी आने लगी...

मैने सिंधु को सीधा कर अपने बगल कर दिया..और उसकी सलवार का नाडा खोल दिया ..उसके सलवार को उसकी घुटनों तक कर दिया ..उसकी गीली चूत नंगी थी..और अपनी उंगलियाँ उसकी फाँक के उपर नीचे करने लगा ..सिंधु सिहर उठी ..और अपनी पकड़ और भी मजबूत कर ली मेरे लौडे पर...

बिंदु को अपने सीने से लगे रहने दिया और अपना दूसरा हाथ उसकी सारी के अंदर ले जाता हुआ उसकी चूत की फाँक पर भी मैं अपनी उंगली फेरने लगा ....

दोनो बहनो की चूत इतनी गीली थी ..मेरी उंगलियाँ फीसलती हुई उपर नीचे हो रही थी ..मेरी नज़र बराबर मा की ओर ही थी ...मैं "ऊवू मा ..ऊवू मा' की रट लगाए जा रहा था..मा अपने हाथों से अपनी चुचियाँ मेरी ओर किए मसल्ति जा रही थी ..

सिंधु सिसकारियाँ ले रही थी..मा मेरे लौडे को ही देखे जा रही थी और बिंदु मेरे से और भी चिपकती जा रही थी

मेरा लौडा सिंधु की हथेली में कड़क और कड़क होता जा रहा था ..मा मेरे लौडे को देख अपनी चूत और भी फैलाती जाती ..उसकी गुलाबी चूत से रस रीस रहा था ..और मा की नज़रें लगातार मेरे पर थी ...

अब सिंधु का भी हाथ और ज़ोर पकड़ता जा रहा था ..जैसे जैसे मेरी उंगलियाँ उसकी चूत पर उपर नीचे होती उसका हाथ उतनी ही तेज़ी से मेरे लौडे की चॅम्डी को उपर नीचे करती ..और बिंदु तो बस सिसकारियाँ लिए जाती और मुझ से ज़ोर और जोरों से चिपकती जाती ...और मेरे होंठ चूस्ति जाती ..उसने अपनी टाँग मेरी जाँघ पर रख दी थी ...और मेरी जाँघ अपने पैर से दबाती जाती ..

मुझ से रहा नहीं जा रहा था ....मेरा लौडा सिंधु की हथेली में कड़क होता जा रहा था ...मुझे ऐसा महसूस हुआ अब फॅट पड़ेगा ....मैं .."मा, मा..." कर रहा था ...सिहर रहा था ..."अया आ " कर रहा था ..सिंधु समझ गयी मैं झड़ने वाला हूँ, उसने अपने हाथ चलाने में और तेज़ी कर दी..तेज़ और तेज़ , मेरी उंगलियाँ भी उनकी चूत पे और भी तेज़ी से उपर नीचे होने लगी ...और फिर मेरा लौडा सिंधु की मजबूत पकड़ के बावजूद झटके पे झटका खाता खाता वीर्य का जोरदार फ़ौव्वररा छोड़ दिया , साथ साथ मेरे हाथ भी दोनो बहनो की चूत पर इतने जोरों से घिसाई की दोनो " हा हााईयईईईईईईईईईईईई हाइईईईईईईईईईई हाइईईईईईईईईईईई " करते चूतड़ उछालते उछालते अपनी अपनी चूतो के रस से मेरे हाथ गीले कर दिए और दोनो अकड़ते हुए ढीली पड़ गयीं ...हाँफने लगीं ...

मैं " मा मा "की रट लगाए उसे देखता देखता पस्त पड़ गया ...

मा की चूत से भी रस बूरी तरह टपक रहा था ..उसकी आँखें भी नशीली थीं ..मुझ से चूद्ने को बेताब ....

थोड़ी देर बाद मेरी सांस ठीक हुई ..दोनो बहेनें अभी भी सुस्त पड़ी थीं ..

मैं उठा ..मा की तरफ बढ़ा ..उन्हें अपनी गोद में उठाया , मा ने अपनी बाहें फैलाए अपने बेटे के गले को थामते हुए अपना सर मेरे कंधे पर रख दिया

" हां बेटा ..ले चल मुझे ..ले चल ....बहुत प्यासी है रे मेरी चूत...चल तेरे कमरे में ..." मा ने मेरे कान में धीमी आवाज़ में फूसफूसया ..

और मैं मा को उठाए ,उसके सीने को अपने सीने से लगाए ...उसकी चुचियाँ अपने सीने से चिपकाए था ...मा की टाँगें मेरे कमर के गीर्द थीं ..मुझसे बूरी तरह चिपकी ...मैं उन्हें बेतहाशा चूमे जा रहा था ..और अपने कमरे की ओर बढ़ता जा रहा था...

कमरे में जाते ही मैने मा को अपनी खाट पर बिठा दिया ..उसके पैर खाट से नीचे थे ..मेरा मुरझाया लौडा मा को गोद में लेने और उनकी जांघों के बीच घीसने से तन्न था..मैने अपना पॅंट उतार फेंका ..अपनी शर्ट भी उतार दी ...और मा का ब्लाउस तो पहले से ही उतरा था ...मैं उसके पैर की तरफ झूकता हुआ ..उसकी सारी और पेटिकोट भी उतार दी ...मा चुपचाप बैठी मेरी हरकतें देख रही थी ...अपने को अपने बेटे के हाथों नंगी होती देख उसके बदन सिहर रहे थे.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: चुदासी चौकडी

Unread post by raj.. » 11 Dec 2014 03:17

हम दोनो बिल्कुल नंगे थे ...बिल्कुल उस तरह जैसा उनकी चूत से पहली बार इस दुनिया में आया था ...उफ़फ्फ़ मा के सामने नंगा होना भी कितना सुखदायी होता है...कोई शर्म लीहाज़ नहीं ....सब कुछ कितना अपनापन लिए होता है...पर मा को नंगी देखना ...ये शायद दुनिया का सब से अद्भूत नज़ारा था ....जहाँ से मैं निकला था ...उसे देखना ....एक कंपकपी सी आ रही थी मेरे पूरे बदन में .. ...उसके सामने खड़ा हो कर देखे जा रहा था .अपनी मा को ...उसके नायाब बदन को ...भारी भारी चुचियाँ ...गोल गोल घुंडिियाँ ...घुंडीयों के चारो ओर काले काले सिक्के जैसी गोलाई ....और उसके बीच घुंडी ...भरा भरा पर सपाट पेट और पेट के नीचे उसकी भारी चूतड़ ..बैठने से उसके चूतड़ खाट पर फैले थे... जंघें भी फैली थी ..उस ने अपनी टाँगें भी थोड़ी फैला दी थीं...उफ्फ चूत की फाँकें गुलाबी फाँक ....मैं उन्हें एक टक देखे जा रहा था ..

" बेटा ...कब तक देखता रहेगा ...मैं क्या तुझे इतनी अच्छी लगती रे..??" मा ने कहा ..

अब मैं मा की ओर अपना चेहरा किए उसकी गोद पर आ गया .मेरी टाँगें उसकी कमर को लपेटे खाट पर थी ..अपने लौडे को उसके पेट पर दबाता हुआ उस से लिपट गया ...और उसकी कान में कहा ....

" हां मा ..तू तो दुनिया की सब से खूबसूरत औरत है...तेरा सब कुछ कितना सुन्दर है मा .."

उसकी चुचियाँ हल्के से पकड़ लिया ..दबाया ...और मसल्ने लगा ... अपने होंठ उसके होंठों से लगा चूसने लगा ...

मा तड़प उठी ..मा की चूचियों में कितना प्यार भरा था ..उफफफ्फ़ ..जितनी बार दबाता ..मुझे ऐसा महसूस होता जैसे उसका प्यार छलक के उसकी घूंदियो से बाहर आ जाएगा ...

मा ने अपने हाथ मेरी पीठ पर रखते हुए मुझे अपनी ओर खिचा और वो भी मेरे होंठ चूसने लगी ..अपने बेटे के होंठ ...मा बेटा दोनो एक दूसरे का प्यार अपने में समेट लेने को बेताब थे ..तड़प रहे थे ...

हम सिसकारियाँ ले रहे थे , अया ..उउउः किए जा रहे थे..हम और , और और भी एक दूसरे से चिपके जा रहे थे

मेरा लौडा और भी कड़क होता जा रहा था ..मा के पेट में मानो घूसने को तैय्यार ...

मा ने अपना एक हाथ नीचे करते हुए मेरे लौडे को बड़े प्यार से थामा ..और सहलाने लगी ...जैसे उस ने हाथ लगाया , मेरा लौडा और भी तंन हो गया ..और उसकी चूत से पानी टपकने लगा ..

" आअह..... बेटा सिंधु ठीक ही कहती है..तेरा लौडा कमाल का है..हाथ में लो तो ऐसा लगता है जैसे ये मेरी चूत के अंदर है ...उफफफफफ्फ़ ...बेटा ..अब आ जा ना मेरे अंदर ...देख ना मेरी चूत कितना रो रही है तेरे लौडे से अलग होने पर...डाल दे ना अंदर ..मेरे बच्चे ...डाल दे ना ...." मा मस्ती में बोली जा रही थी

मैं उसकी चुचियाँ चूस रहा था ...मा की चूची ..सब से नशीली चूची ..मैं नशे में था ..

मैने उसे अब लिटा दिया

उसके पैरों के बीच बैठ गया ..मा की आँखें बंद थीं ... अपने बेटे को उसने अपने आप को सौंप दिया था ...

मा की टाँगें फैली थीं...उसकी चूत इतनी गीली थी ..उसकी चूत के होंठ , चमक रहे थे गीलेपन से

मैं झुकता हुआ उसकी फाँक अपनी उंगलियों से अलग किया ..अया कितनी गुलाबी थी अंदर ..कितना मांसल था और कितना मुलायम ...फूली फूली चूत ...

मैने अपने होंठ वहाँ रखे और उसकी चूत को होंठों से जाकड़ लिया और जोरों से चूस्ता रहा ..उसका पूरा रस मेरे अंदर एक ही बार पतली धार बनाता हुआ चला गया ..मा की चूतड़ उपर उछल पड़ी

" आआआः ....हाआाआआं रे ...अया ले ले बेटा ..अपनी मा की चूत खा जा ..पूरा रस पी जा ...अच्छा लगा ना ..? सब कुछ तो तेरा ही है बेटा ..इसी रस से तो तू बना था .. इसे तू पी जा ..पूरा पी जा ..हा रे ..हाआंन्‍नननननननननननणणन् ....ऊवू ..कितना अच्छा लग रहा है...." मा बद्बडाये जा रही थी ..

मैने उसके चूतड़ के नीचे हाथ रखे उपर उठाए उसकी चूत और भी अपने मुँह से चिपका लिया ..चूसे जा रहा था ...उफफफफफ्फ़ ..कितना सुख था उसकी चूत में ..मेरी सारी दुनिया थी वहाँ ... मेरा पूरा प्यार , पूरा सुख और सारी खुशियाँ मा की चूत में थी ..मैं सब कुछ अपने अंदर ले लेना चाहता था ..सब कुछ ...

मा तड़प रही थी ... बड़बड़ा रही थी ...अपनी चूतड़ उछाले जा रही थी ...

आख़िर मुझ से रहा नहीं गया ...मैं अब उसकी चूत के अंदर जा कर उसका सब कुछ महसूस करना चाहा ..उसकी चूत में अपनी उंगली डाल दी ....आआआआः मानो किसी गर्म , नर्म और मुलायम सी मक्खन के कटोरे में उंगली घूसी हो ...

मैं अपनी उंगलियों को अंदर ही अंदर घूमाता रहा ..और उसे महसूस करता रहा ...

मा की तड़प बढ़ती जा रही थी ..मछली की तरह ...

" बेटा ....अब डाल दे ना ...मैं मर जाऊंगी रे ...आआआः ....."

मुझे भी अब उसके अंदर अपने लौडे से महसूस करने की ललक हो रही थी ..

मैने अपनी अब तक उसके रस से सनी और चेपचीपी उंगलियों और हथेली को मा को देखाता हुआ चाट लिया ..फिर उसी हाथ से अपने लौडे को थामता हुआ उसकी फडक्ति चूत के मुँह पे रखा ..

मा ने फ़ौरन अपनी चूतड़ उपर की और मैने भी अपने लौडे को अंदर दबाया ...एक ही बार में फिसलता हुआ लौडा मा की नर्म , गर्म और मक्खन जैसी चूत के अंदर था ...

दोनो को राहत मीली..

" हां बेटा ..अब जितनी देर मेरे अंदर रहना है रह ..बस डाले रह मेरी चूत में ....रखे रह अपना लौडा मेरी चूत में ..जिंदगी भर ...आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह..सारी जिंदगी बेटे के लौडे को लिए रहूंगी ..हां बेटा .."

और मैं भी अपना लौडा अंदर किए किए ही उस से चिपक गया ..बूरी तरह ...उसने भी मुझे अपने से चिपका लिया ...अपनी टाँगें मेरे चूतड़ पर रख दबाती रही ..ज़ोर और ज़ोर लगाती हुई..

मैं कभी उसकी चुचियाँ चूस्ता ...कभी उसके होंठ चूस्ता ...और अपना लौडा और भी अंदर तक दबाने की कोशिश करता ..मेरी जंघें , बॉल्स और लौडे की जड़ मा की चूत से चिपकी थी ..हम दोनो एक दूसरे से और , और और भी चिपकते जाते ..इतना की शायद एक दूसरे के अंदर समा जाने की कोशिश में तड़प रहे थे .

ये ऐसा सुख था ..जो शायद मा की चूत में ही मिल सकता था ..और कहीं नहीं ...

फिर मैने अपने लौडे को बाहर किया और झट से फिर से अंदर .... लंड के बाहर निकलते ही मा ने अपनी चूतड़ उपर उठा ली ..मानो उसे फिर से अंदर लेने की तड़प रही हो..मैने भी झट अंदर डाल दिया अपना गीला लौडा ...

उफ़फ्फ़ ये अंदर बाहर का खेल ..कितना नायाब था ... लौडा बाहर निकलते ही अंदर जाने को पागल हो उठता ..और मा की चूत भी उसे निगलने को छटपटा उठ ती ...

हम दोनो पागल हो रहे थे...

अंदर डालते ही मेरा पूरा बदन सिहर उठता , मा भी कांप उठ टी ...सिसकारियाँ लेती जाती ...

" ओऊओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ..जग्गू ...उफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफफ्फ़ ..कितना सुख है रे तेरे लौडे में ..हां रे कितना आराम है ...ऐसा लग रहा है ..अंदर कितना खाली खाली था ...अब तू ने भर दिया ...सब कुछ दे दिया ..मैं निहाल हो गयी रे ..हां ..रे ..आआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह ...."

मा की सिसकारियाँ सुन सुन मैं और भी तड़प उठ ता ..और भी जोश में आता जा रहा था ...धक्के पे धक्का लगाए जा रहा था ...

फतच फतच और ठप ठप की आवाज़ों से हमारा नया कमरा गूँज रहा था ..कितना मज़ा आ रहा था ..कोई डर नहीं , किसी के सुन ने की परवाह नहीं ...वहाँ बस सिर्फ़ मैं था और मेरी मा ...

उसकी चूत कितनी गीली और गर्म थी ...

उसकी टाँगों की जाकड़ मेरे चूतड़ पर बढ़ती जा रही थी ..बढ़ती जा रही थी ...मेरा लौडा अंदर फीसलता हुआ जा रहा था ...इतनी गीली थी उसकी चूत ..

"हा ..बेटा ...हां रे ...अयाया ...ऊवू ..मैं मर जाऊंगी रे ..सहा नहीं जा रहा बेटा ....उफफफफ्फ़ ..क्या हो रहा है..ऐसा कभी नहीं हुआ रे ...अयाया ...क्या हो रहा है.." .और मा की चूत की पकड़ मेरे लौडे पर बहुत टाइट हो गयी ...फिर एक दम से ढीली ..फिर टाइट , फिर उसके चूतड़ ने उछाल मारी ..एक बार , दो बार और मेरा पूरा लौडा उसके गाढ़े रस से सराबोर होता गया ..और फिर मा के हाथ पैर ढीले पड़ गये ..

क्रमशः…………………………………………..