रश्मि एक सेक्स मशीन compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: रश्मि एक सेक्स मशीन

Unread post by raj.. » 08 Nov 2014 03:26


हम दोनो एक दूसरे से लिपटे हुए एक दूसरे के बदन को सहला रहे थे एक दूसरे के बदन को मसल रहे थे. तभी दरवाजे पर एक हल्की सी आवाज़ हुई और इससे पहले की हम कुच्छ समझ पाते दरवाजा खुल गया. अंदर आने वाले व्यक्ति को देख कर हम दोनो के चेहरे चमक उठे. दरवाजे पर सेवक राम जी खड़े थे.

"क्या बात है देवियों कैसे तुम लोग तड़प रही हो? कमरे के बाहर सिसकारियों की आवाज़ें आ रही थी तो मैने सोचा की एक बार देखूं तो सही की अंदर क्या चल रहा है. ह्म्‍म्म्म लगता है तुम लोगों का बदन कामग्नी सी सुलग रहा है. इस तड़प, इस आग को बुझाने के लिए किसी मर्द के लिंग की सख़्त ज़रूरत है. मुझे लगता है कि तुम्हारी सहयता करके कुच्छ पुन्य लाभ मुझे भी हो जाएगा."

" गुरुजी कुच्छ कीजिए. वो दोनो हमारी आग को शांत किए बिना ही अपना रस झाड़ कर भाग गये."



“कौन?”



“ जीतराम और मोहन ” दिशा सुलग रही थी कामग्नी मे.

" कुच्छ कीजिए सेवक राम जी नही तो बदन की ये आग हमे जला कर रख
देगी. ऊऊहह... ....." मैने तड़प कर कहा. और अपनी योनि को उनकी तरफ कर अपनी उंगलियों से उसे सहलाने लगी.

” ठीक है देवियों. जैसी आपकी इच्छा. आपके किसी काम आना मेरे लिए सौभाग्य की बात है.” सेवकराम जी ने एक झटके मे अपने वस्त्र को नोच फेंका और बिल्कुल नग्न अवस्था मे हमारे बिस्तर की ओर बढ़े. उनके लिंग का साइज़ देख कर मेरा मन खुश हो गया. उनका बदन काफ़ी बलिशट था और टाँगों के बीच घने जंगल के बीच उनका मोटा लिंग तन कर खड़ा था. उनका लिंग भी स्वामी जी की तरह काफ़ी लंबा और काफ़ी मोटा था. वो हमारे करीब आकर हम दोनो को अपनी बाँहों मे भर कर चूमने लगे.



हम दोनो तो उत्तेजित थी ही. हम बिना किसी लाग लप्पेट के उनसे लिपट गये. दिशा उनके लिंग को अपनी मुट्ठी मे लाकर उसे सहलाने लगी. मैं उनके लिंग के नीचे लटक रहे दोनो गेंदों को अपने मुट्ठी मे भर कर दबा रही थी.



सेवक राम जी हमारे स्तानो को मसल रहे थे. फिर उन्हों ने बिस्तर पर हमे वापस उसी
अवस्था मे डोगी स्टाइल मे झुकाया और पीछे से सबसे पहले मेरी चूत मे अपने लिंग को अंदर घुसेड दिया.

" आआआहह…….म्‍म्म्मम.... डीईीीइसस्स्शहााअ. ....म्‍म्म्मममम. ...मज़ा आ गय्ाआअ. क्य्ाआअ लंड हाईईईई. हाआँ ज़ोर ज़ोर से ज़ोर ज़ोर से....उफफफफफ्फ़….." मैं दिशा की ओर अपना चेहरा मोड़ कर बड़बड़ा रही थी.

दिशा उठ कर हम दोनो के खेल मे साथ देने लगी. वो बिस्तर से उठकर सेवकराम जी के नग्न बदन से लिपट गयी और उनके होंठों को चूसने लगी. उसकी उंगलियाँ मेरी चूत को ठोकते उनके लिंग पर फिर रही थी. कभी वो उनके लिंग के नीचे हिलते दोनो गेंदों को मसल्ति तो कभी उनके निपल्स पर दाँत गढ़ाती. कुच्छ देर बाद वो झुक कर मेरे होंठों को चूमने लगी. मेरे किसी पानी भरे गुब्बारों की तरह झूलते स्तनो को मसल्ने लगती, मेरे पीठ पर अपने होठ फिराती अपने दाँत गढ़ती. उसकी हालत से ही लग रहा था की वो किसी लिंग के लिए बुरी तरह तड़प रही है. उसकी उंगलियाँ सेवक राम के अंदर बाहर होते लिंग को सहलाने मे व्यस्त थी.

कोई पाँच मिनिट की चुदाई के बाद ही मेरा पूरा शरीर एंथने लगा और काफ़ी देर से जमा हुआ लावा मेरी योनि मे बह निकला. मैं वहीं बिस्तर पर पेट के बल पसर गयी और ज़ोर ज़ोर से साँसें लेने लगी. सेवक राम जी मेरे बदन के उपर पसरे हुए थे. उनके बोझ तले मेरा शरीर दबा हुआ था. दिशा उनके बदन के उपर पसरी हुई थी. उन दोनो के बदन के नीचे मैं दबी हुई थी. दिशा उत्तेजना मे सेवकराम जी की नंगी पीठ पर अपने स्तनो को रगड़ रही थी. उनकी गर्देन के पीछे अपने दाँत गढ़ा रही थी.



कुच्छ देर तक यूँही लेटे रहने से मेरी सारी उत्तेजना शांत हो गयी. कुच्छ देर बाद सेवक राम जी ने अपना लिंग मेरी योनि से खींच कर बाहर निकाल लिया.

ये देख कर दिशा झट से मेरी बगल मे लेट गयी और अपनी टाँगों को फैला कर गुटने से मोड़ कर अपनी कमर को छत की तरफ उठा कर सेवक राम जी को अपनी ओर खींचती हुई बोली,

" आजओ….. अब और देर मत करो. प्लीईस…."

सेवकरम जी ने अपना लिंग मेरी योनि मे से खींच कर निकाला. उनका लिंग अभी भी पूरे जोश मे था. वो उत्तेजना मे खड़ा खड़ा झटके खा रहा था. पूरा लिंग मेरे कमरस से सना हुआ चमक रहा था. अभी उसके लिंग से रेशमी सूत की तरह वीर्य का एक कतरा झूल रहा था.



“आआहह….गुरुउउुजि…..इसने तूओ आपकाअ पूऊरा रास निचोड़ लिया. कुच्छ बचा भी है क्या मेरे लिए.” उसने सेवक राम जी का लिंग अपनी मुट्ठी मे भर लिया. उनका लिंग इतनी ज़ोर दार चुदाई की वजह से ढीला पड़ता जा रहा था. दिशा ने उसे अपने हाथों मे लेकर सहलाया तो उनका ढीला होता लिंग वापस पूरे जोश से खड़ा हो गया.



मैं उनके लिंग के निकल जाने के बाद सीधी होकर बिस्तर पर पसर गयी. मेरी साँसे किसी ढोँकनी की तरह चल रही थी. मेरी उन्नत चूचियाँ तेज़ी से उपर नीचे हो रही थी. मेरा गला सूख रहा था. मैं अपने सूखे होंठों पर जीभ फेरती हुई उन दोनो के मिलन का मज़ा लेने के लिए तैयार हो रही थी.

सेवकराम अपने तने हुए लिंग को सहलाते हुए दिशा की ओर बढ़े. दिशा ने
अपना एक हाथ बढ़ा कर उनके लिंग को थाम लिया और दो बार अपने हाथों
से सहलाया. फिर एक हाथ से अपनी योनि की फांको को अलग करते हुए उनके लिंग को योनि की ओर खींचा.



“ एक मिनूट रुकिये गुरुदेव. ये इतना गीला हो रहा है कि मज़ा नही आ पाएगा. लाओ इसे पहले पोंच्छ दूँ. वरना सेक्स का मज़ा ही नही आएगा.” कह कर उसने पास पड़े अपने गाउन से उनके लिंग को पोंच्छा. उनके लिंग पर चढ़ा मेरे वीर्य की परत सॉफ हो गयी.



“ दीशू मेरा लंड तो सॉफ कर दिया लेकिन अपनी गीली चूत को भी तो सॉफ कर.” कह कर उन्हों ने दिशा के हाथ से कपड़ा लेकर खुद ही उसकी योनि से टपकते रस को पोंच्छ कर सॉफ करने लगे. दिशा ने अपनी टाँगे चौड़ी कर के अपनी उंगलियों से योनि को जितना फैला सकती थी फैला दिया. योनि की लाल सुरंग सेवक राम के सामने थी. सेवक राम ने अपनी दो उंगलियों की मदद से उस कपड़े से योनि को अंदर तक सॉफ किया.



जब योनि भी साफ हो गयी तब दिशा ने खुद अपनी टाँगें चौड़ी कर ली और अपने हाथों से अपनी चूत को फैला कर सेवकराम जी के लिंग के स्वागत का इंतेज़ार करने लगी.

“ लो अब किस बात की देर है.” दिशा ने सेवक राम से कहा और उसे अपनी ओर खींचा.



“ इतनी उतावली क्यों हो रही हो?”



“आपका लिंग मेरे लिए कोई नया तो है नही. ना ही मेरी चूत को आप पहली बार चोद रहे हो फिर शर्म किस बात की. मुझे तो चोद चोद कर आप लोगों ने अपना अडिक्ट बना दिया है. आज मेरी हालत ऐसी कर दी है कि दिन मे दो चार बार संभोग ना हो तो बदन जलने लगता है. ये लड़की नयी है लेकिन इसकी हालत मुझसे कोई ज़्यादा अच्छि नही है. जिस तरह ये उत्तेजना मे चुदवा रही थी उसे देख कर लग रहा है की ये आश्रम की जान बन कर रहेगी.”
क्रमशः............


raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: रश्मि एक सेक्स मशीन

Unread post by raj.. » 09 Nov 2014 15:33


रश्मि एक सेक्स मशीन पार्ट -38

गतान्क से आगे...

सेवकराम दिशा की दोनो टाँगों के बीच घुटनो के बल बैठ गया . दिशा ने अपनी फैली हुई टाँगों को घुटनो से मोड़ कर अपनी कमर को उँचा किया जिससे सेवकराम जी के लिंग तक पहुँच जाए.



“ लो …..लो… इसकी भूख मिटा डालो…..आआहह” दिशा अब वो सुन्दर सी च्छुईमुई सी लड़की नही लग रही थी. अब वो सेक्स की भूखी कोई शेरनी सी दिख रही थी. सेवक राम ने दिशा की कमर के नीचे अपने हाथ लगा कर उसकी कमर को उठाया. दिशा का बदन धनुष की तरह मूड गया था.



सेवकराम जी ने दिशा को अपनी ओर खीचा और उसकी योनि मे अपने लिंग को सताया. उन्हे अपने लिंग को राह दिखाने की ज़रूरत नही महसूस हो रही थी. ये काम दिशा खुद ही कर रही थी. उसने उनके लिंग को अपनी योनि पर सेट किया और अपनी कमर को उपर उठा कर उनके लिंग को अंदर ले लिया. उनका तगड़ा लिंग अंदर घुसता चला गया . दिशा इस वक़्त डॉग्गी स्टाइल मे थी उसके बड़े बड़े स्तन किसी पके फल की तरह झूल रहे थे. मैं अपने हाथों से उसके निपल्स को थाम कर उन्हे मसल रही थी. मेरे मसल्ने से दूध की कुच्छ बूँदें बिस्तर पर टपकने लगी. ये देख मैने उसके निपल्स को छ्चोड़ दिया.



“ हा….हा…..ऱास्श्मीइ……क्याआ हुआअ? कयूओं छ्चोड़ दियाआ? अयाया इन्मी बहुऊट खुज्लीई हो रहिी हाईईइ. लीयी इन्हे अपणीी उंगलीयूओं से मसाल दीए.” दिशा खुद अपने निपल्स को कुरेदने लगी थी. मैं उसके स्तनो के दूध को बहा कर खराब नही करना चाहती थी इसलिए मैने उसका एक निपल मुँह मे भर लिया और उसे चुसकने लगी. सेवकराम उसे पीछे से चोद रहा था साथ साथ उसके जिस स्तन को मैं चूस रही थी उसे मसलता भी जा रहा था जिससे उसके स्तन से दूध बाहर निकलता रहे. जब एक स्तन का सारा दूध मैने पी लिया तो मैने दूसरे स्तन को अपने मुँह मे भर लिया.



इस तरह की हरकतें करते हुए मैं खुद उत्तेजित हो गयी. तो मैने अपनी योनि के क्लाइटॉरिस को अपनी उंगलिनो से मसलना शुरू कर दिया. दूसरे हाथ से मैं अपने स्तनो को ही मसल रही थी. कुच्छ देर मे ही मेरा दोबारा स्खलन हो गया.



कुच्छ धक्के इस तरह मार्कर उन्हों ने दिशा को वापस बिस्तर पर पीठ के बल लिटा दिया और खुद दिशा के बदन के उपर लेट गया . कुच्छ पल दोनो के बदन स्थिर रहे.



सेवकराम दिशा के होंठों को अपने मुँह मे खींच कर उनको चूसने लगा. दिशा
की टाँगे सेवकराम जी के बदन के दोनो ओर फैले हुए थे. कुच्छ पल इसी प्रकार रहने के बाद सेवक राम जी ने अपने लिंग को वापस दिशा की योनि मे पेल दिया और अपने बदन को हरकत देदी.

दिशा अपनी बाहों मे सेवकराम का बदन कस कर पकड़ रखी थी.सेवकराम जी काफ़ी देर तक उसी अवस्था मे दिशा को चोद्ते रहे. एक बार उनका वीर्य मेरी योनि मे निकल जाने के बाद दूसरे दौर मे वो तस्सली से निकालने के मूड मे थे.



दिशा ने अपनी टाँगों से सेवकराम की कमर को जाकड़ लिया. वो नीचे से धक्के लगा रही थी. एक साझा ट्यूनिंग के साथ सेवकराम की कमर नीचे आती तो उससे मिलने के लिए दिशा की कमर उपर उठ जाती. दोनो काफ़ी जोश मे एक दूसरे को निचोड़ने मे लगे हुए थे. दोनो चुदाई करते हुए एक दूसरे को बेतहासा चूम रहे थे.



मैं बगल मे लेटी लेटी उनकी चुदाई देख रही थी. कुच्छ देर बाद मैने करवट बदल कर अपना जिस्म उनसे सटा दिया. और दिशा की चूचियाँ वापस अपने हाथों मे लेकर सहलाने लगी. दिशा ने अपने चेहरे को मोड़ कर मेरे होंठों को चूम लिया. अब हम तीनो अपनी अपनी जीभ निकाल कर एक दूसरे की जीभ से अटखेलिया कर रहे थे.

कुच्छ देर बाद सेवकराम जी ने अपनी पोज़िशन चेंज की. उन्हों ने पहले मुझे चित लिटाया फिर दिशा को मेरी योनि पर झुका दिया. वो खुद बिस्तर के पास खड़े होकर दिशा को पीछे से चोदने लगे. मैने अपनी टाँगें फैला रखी थी. दिशा मेरी टाँगों के बीच झुकी हुई मेरी योनि को अपनी जीभ से चाट रही थी.

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: रश्मि एक सेक्स मशीन

Unread post by raj.. » 09 Nov 2014 15:34


मेरी योनि मे भरे मेरे वीर्य को वो चाट चाट कर सॉफ कर रही थी. मैने उसके सिर को अपनी योनि मे दबा रखा था. सेवकराम जी के हर धक्के के साथ दिशा की नाक या जीभ मेरी योनि मे घुस जाती थी. ऐसा लग रहा था मानो वो अपनी नाक से ही मुझे चोद रही हो. हम तीनो कोखूब मज़ा आ रहा था. पूरा कमरा हमारी उत्तेजना भरी सिसकारियों से और चूत पर पड़ते धक्कों की आवाज़ से गूँज रहा था.



कुच्छ देर बाद दिशा ने अपना सिर उठाया. उसके खुले बालों के पीछे से उसका चेहरा
दिखाई नही पड़ रहा था. मैने उसके बालों को पकड़ कर पीछे की ओर कर दिया. मैने देखा की दिशा के होंठों पर मेरा रस लगा हुआ है और दिशा उसे अपनी जीभ से चाट रही थी.



सेवक रामजी ने उसके बालों को अपनी मुट्ठी मे थाम लिया और उसे चोद्ते हुए अपनी ओर
खींचा जिससे दिशा का सिर पीछे की ओर मूड गया. दिशा को उस हालत मे चुदवाते देख ऐसा लग रहा था मानो सेवकराम घुड़सवारी कर रहा हो.

काफ़ी देर तक यूँ ही चोदने के बाद सेवकराम ने एक झटके मे अपना लिंग दिशा की योनि से निकाला फिर हम दोनो को खींच कर अपने सामने घुटनो के बल बिठा कर अपने वीर्य की तेज धार हम दोनो के चेहरे पर, हमारे मुँह और चूचियो पर छ्चोड़ दिया. हम दोनो अपना मुँह खोल कर उनके वीर्य को अपने मुँह मे भर लेने की कोशिश करने लगे. इस कोशिश मे हमारे चेहरे पर, नाक, गाल और स्तनो पर वीर्य के कतरे झूलने लगे. उनके लिंग ने ढेर सारा वीर्य हम दोनो के उपर उधेल दिया. मेरे निपल्स से तो दिशा की ठुड्डी से वीर्य झूलता हुआ बिस्तर पर टपक रहा था.



सेवकराम हम दोनो के चिपचिपे हो रहे बदन को अपनी बाँहों मे खींच लिया. उसने हमारे चेहरे और बदन पर पड़े वीर्य के थक्कों को पूरे बदन पर लगाने लगा. हम तीनो एक दूसरे के नग्न बदन से अपने बदन को रगड़ने लगे.

" अब तुम दोनो आराम कर्लो. आज शाम की तुम दोनो की चुदाई का कार्यक्रम है." सेवकराम जी ने कहा "दो-तीन आफ्रिकन आने वाले है उनकी सेवा तुम दोनो को करना है. सारी रात उन दोनो की …… हा तुम दोनो अपनी टाँगे खुली रखना. दुआ करो कि वो दोनो नही आएँ और तुम बच जाओ."



“ इसमे बचने की क्या बात है. उन दोनो से नही होगी तो किसी और से होगी हमारी ठुकाई. तुम लोग क्या ऐसे ही छ्चोड़ दोगे. वो नही तो कोई और होगा हमारे साथ” दिशा ने कहा.



“ अरे ये बात नही है, कभी देखे है उनके लंड. साले आफ्रिकन्स के लंड एक फुट से भी ज़्यादा लंबे होते हैं. और चौड़ाई किसी बेस बॉल के बॅट की तरह. जब ठोकते हैं ना तो लगता है कि मुँह से बाहर निकल आएगा.” सेवकराम हम दोनो को तसल्ली दे रहे थे या डरा रहे थे समझ मे नही आ रहा था.

उनकी बातें सुन कर हम तीनो हँसने लगे. सेवक राम उनके लिंग का आकार अपने हाथ से दिखा रहे थे.



" ये नीग्रोस चोदने मे भी बहुत उस्ताद होते हैं घंटो एक स्पीड मे धक्के लगा सकते हैं. कोई साधारण महिला उनको झेल नही सकती. कई दिनो तक के लिए चाल ही बदल जाती है. कोई अंजान आदमी भी देख कर बता सकता है कि ये महिला जम कर चुदी गयी है. तुम दोनो भी एक बार चुदने के बाद कई दिनो तक और किसी को अपने अंदर लेने लायक नही बचोगी." सेवकराम जी ने कहा.



“ मगर हम ही क्यों?” मैने पूछा.



“ तुम दोनो खूबसूरत हो और गोरी चिटी एवं बला की सेक्सी हो. स्वामी जी उनकी खिदमत मे ऐसी महिलाओं को लगाना चाहते थे जो उनके आकार को झेल ले और उनको सेक्स का मज़ा दे सके. “ हंसते हुए वो बिस्तर से उठ गये और अपने वस्त्र को बदन पर डाल कर कमरे से बाहर निकल गये.

हम दोनो उसी तरह काफ़ी देर तक पड़े रहे.



“ चलो बच गयी बन्नो. नही तो आज हमारी चूत फट ही जाती.” दिशा ने कहा.



“ आज बच गयी. लेकिन कल क्या करोगी? कल तो वो नीग्रो आ ही पहुँचेंगे हमे नोच खाने के लिए. साले हमारी एक एक हड्डी तोड़ कर रख देंगे और डकार भी नही लेंगे.” मैने उससे कहा.

“ कल की कल देखेंगे. अरे हम औरतों के सामने तो अच्छे अच्छे पानी भरने लगते हैं तो ये नेगो क्या चीज़ हैं. चल कुच्छ रेस्ट कर लेते हैं.” दिशा ने कहा.


"सेवक राम जी मे भी अच्च्छा स्टॅमिना है. हम दोनो का तो दम ही निकाल दिया." मैने हंसते हुए दिशा से कहा.

" वो तो है ही. मुझे तो सेवकराम जी ने इतनी बार चोदा है की उतना तो मैं अपने हज़्बेंड से भी नही चुदी होंगी. ये सेवकराम जी के लिंग के आकर्षण मे बँधकर ही तो मैने ये आश्रम जाय्न किया था." दिशा ने कहा

" अच्च्छा?कैसे? कैसे तुम इस आश्रम मे आई?"


" अब क्या बताऊ, वो एक लंबी स्टोरी है." दिशा ने मुझे टालते हुए कहा.

" कोई बात नही तुम तो सूनाओ. वैसे भी अभी हम दोनो के पास कोई काम नही है सोने के सिवा."



दिशा बहुत कहने के बाद अपने इस आश्रम मे शामिल होने की घटना सुनाने लगी. उसे मैं यहाँ दिशा की ही ज़ुबानी सुना रही हूँ. उसकी कहानी कुच्छ इस तरह थी……….



मैं शादी के बाद अपने ससुराल मे रहने आई. घर मे मेरे पति के अलावा एक जेठ जी थे जो कि अमृतसर मे रहते हैं. उनके घर हमारा कम ही आना जाना होता है. जेठ जी की कुच्छ बुरी आदतें जिनकी वजह से मैं उनसे दूर रहना ही पसंद करती हूँ.

क्रमशः............