कामुक-कहानियाँ शादी सुहागरात और compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: कामुक-कहानियाँ शादी सुहागरात और हनीमून

Unread post by raj.. » 10 Nov 2014 16:34

मैं बोली ठीक है मिल जाएँगें, लेकिन अभी थोड़ा और उपर और फिर तो रजनी और अंजलि ने मिल के पूरा कमर तक उठा दिया. मेने चड्धि ज़रा सी सरकई. जहाँ कस के चड्धि ने जाँघो को दबोच रखा था, वही पे तिल था. (और ये बुआ भतीजी की मिली भगत का नतीजा था, गुड्डी ने खुद ही मुझे बता दिया था.) और अब अंजलि का नंबर था. जैसे ही मेने उसका हाथ पकड़ा, वो बोली, तुम दोनो तो फेल हो गयी, देखना मैं भाभी से 100 रुपये जीत के ही रहूंगी. उसका हाथ मैं बड़े ध्यान से देख रही थी. मेने भी किरो और बेनेहम पढ़ रखा था. ये साफ हो गया कि उपर से तो वो थोड़ी बनाती रहेगी लेकिन अंदर से वो सेक्सी होगी और उसका सम्बंध शादी के पहले ही कयि लड़को से हो जाएगा, लेकिन इसमे किसी का हाथ भी होगा. वो बोली,

क्यो भाभी नही दिखा ना. मेने बन के बोला, मुश्किल लग रहा है. उसका चेहरा चमक गया. कुछ और देख के मैं बोली, पीठ पे, उपर की ओर (ये मेरे आब्जर्वेशन का नतीजा था.) और उसने फ्रॉक थोड़ा नीचे किया, पीठ की ओर. वही था शोल्डर ब्लेड्स केनिचे ब्रा के स्ट्राइप्स के नीचे. देखते देखते छेड़खानी मे गुड्डी ने उसके ब्रा के स्ट्राइप्स खींच दिए. अंजलि बोली, पीठ का तो दिख भी सकता है, एक बार फिर से. और मैं दुबारा हाथ देखने का नाटक करने लगी. थोड़ी देर देख के मैं बोली, है तो लेकिन मैं बताउन्गि नही. बताइए बताइए, रजनी और गुड्डी हल्ला करने लगी. ये बुरा मान जाएगी,

मेने कहा. नही नही मैं बुरा नही मानने वाली, सच तो ये है कि कोई है ही नही और आप हारने के डर से बहाने बना रही है." अंजलि बोली. मेने फिर हाथ उपर उठा के एक दम आँख के पास ले जाके देखा, और फिर मूह बना के अपनी जेठानी से कहा, "ऐसा हाथ और ये तिल का निशान मेने आज तक नही देखा था, सिर्फ़ एक बार किताब मे पढ़ा था.

मुझे विश्वास नही हो रहा है." बताइए ना, रजनी और गुड्डी ने ज़िद की. "अरे कही होगा तो बताएँगी ना भाभी." अंजलि ने कहा. तो ठीक है मेने 100 रुपये और निकाल के जेठानी जी को देते हुए कहा, अगर कही भी होगा तो दिखाना पड़ेगा. अरे डरती थोड़ी हू दिखा दूँगी वो मुस्करा के बोली. मेने कहा कि ये एक दम सेजगह पे है इसलिए मेने बाजी बढ़ा के 200 की कर दी. ये तुम्हारे ठीक वहाँ, गुलाबी पंखुड़ियो के उपर है और पैंटी उतार के दिखाना पड़ेगा. अब वो बेचारी सहमी, लेकिन गुड्डी और रजनी उसके पीछे पड़ गयी कि हमारा तो फ्रॉक और टॉप उठाया था तो मैने भी समझाया कि ज़रा देर मे चेक हो जाएगा, 200 रुपये की बात है. अंत मे वो इस शर्त पे तैयार हुई कि वो दूसरी ओर मूह करके खुद उतारेगी, और खुद ही देखेगी. मैं इस पे भी राज़ी हो गयी.

झुक के उसने पैंटी उतार के रजनी को पकड़ाया और रजनी ने चुपके से मुझे दे दिया.

झट से मेने पार्स मे रख लिया. उधर वो अपने को निहार के बोली,

"कोई तिल विल नही है."

"अरे ठीक से देखो, झुरमुट मे छिपा होगा," मैं बोली और झटके से उसकी फ्रॉक उठा दी.

एक दम साफ सफाचट, चिकनी कसी कुँवारी गुलाबी पुत्तिया, उसने अपनी जांघे भींच ली और जल्दी से फ्रॉक नीचे गिरा दी लेकिन तब तो हमने दरशन कर ही लिया.

मेने जेठानी जी से कहा कि पहली बार मैं ग़लत हुई हू और उन्होने 200 रूपरे अंजलि को दे दिए. मुझे याद था कि जब कुहबार मे 'झलक' देखी थी तो 'घास फूस' थी. मेने उसे छेड़ा,

"हे कल मेरे भाई आ रहे है क्या इसी लिए, उनके स्वागत मे शेव करके चिक्कन मुक्कन कर लिया." वो क्या बोलती, थोड़ी नाराज़ थोड़ी मुस्कराती बैठी रही.

मेने अपने पार्स मे से 500 का एक नोट निकाल के बढ़ा दिया, उसे थाम के, उसकी सवाल भरी निगाहो ने पूछा.

"100 रुपये तुम्हारी पैंटी के. और 200 रुपये मे तुमने पैंटी उतार दी ना तो कल जब मेरे भाई आएँगे तो 200 रुपये पैंटी उतारने के और 200 टाँग उठाने के. एडवांस."

तब तक बाहर से बुलाहट हुई और जेठानी जी और सब जाने लगे. मेने उसका हाथ पकड़ के रोक लिया और समझाया, "हे बुरा मत मानना, ननद भाभी मे तो मज़ाक चलता ही रहता है. और हाँ ये देखो,"पार्स खोल के मेने दिखाया , उसकी दूसरी पैंटी ( वो जो कुहबार के पहले, मेरे भाइयो ने छेड़खानी मे अंधेरे मे उतार ली थी और जब संजय मुझे यहाँ छोड़ के जा रहा था तो उसने मेरे पार्स मे रख दिया था.) " ये तुम्हारी एक और पैंटी जो शायद तुम बारात मे आई थी तो वही छूट गयी थी. लेकिन घबडाओ नही, कल संजय आएगा ने, मैं उससे बोल के तुम्हारे लिए दो खूब सेक्सी पैंटी मँगवा दूँगी." वह मेरा हाथ छुड़ा के बाहर चली गयी.

क्रमशाह……………………………………
शादी सुहागरात और हनीमून--28

gataank se aage…………………………………..

chameli bhabhi ne usaka hath khinch ke khada kar liya, nechane ko. meri jethani ne dholak samhali. dulari ne gane shuru kiya lekin gane ke pahale boli, ye gane nei bhauji ke haal ka hai. aur phir gane shuru ho gaya,

gavane ki raat dukh dayi re abahu ne bhule.

barah baje sun seya ki boliya,kauno nanadiya khidkiya ne khole,

raat bhar peraila harajai re, abahu ne bhule,

( are perela ki pelaila, meri jethani ne ched ke pucha) rah bedardi choli mora masake, bala jobaneva dabave duno kas ke.

mar gayi hay mori main re, gavane ki raat dukh dayi re abahu ne bhule.

lut lihale hamare neihar ke malava, sineva pe chadhake dabave dono galava ( are bhabhi mal lutavane hi to itane saj smvar ke ayi thi ab kya shikayat, nanade mere piche pad gayim) kat lehale jaise nen khatai re, abahu ne bhule gavane ki raat dukh dayi re abahu ne bhule.

aur gane ke sath sath pura ekshan, dono ne ek dusare ki sadi saya sab utha liya, aur phir ragad ragad ke, poj badal badal ke pura tripal eks eksn tha. wo to bahar se meri saas ne avaj di to wo band hua aur daravaja khula. bahar maharajin khadi thi ki neshta ban gaya hai. kuch log bahar gaye lekin mere aur jethani ji ke liye vahi guddi aur rajani le ke ayi. ham log neshta khatam hi kar rahe the ki mere nmdoyi ashvani,unki patni, majhali nanad, aur anjali ayi.

wo bole kya khaya piya ja raha hai akele akele. mene unhe aphar kiya to hans ke unhone mane kar diya, ki raat bhar ki mehanet ke baad tumhe takat ki jyada jarurat hai. uske sath hi phir hansi majak shuru ho gaya. main dekh rahi thi ki kal ke baad rajani me ekadam phark aa gaya hai aur wo unese chipaki huyi hai aur unke shuddh nen vej joks ka ham logo ke sath maja le rahi hai. majak majak me unhone meri jethani se kaha,

"bhabhi, aap ko mere naam ka matalab malum hai."

"are kitani baar to aap bata chuke hai" wo boli.

"are saph saph kahiye ne ki neye mal ko dekh keare aap ki salahaj hai, isase kya parada. naam kya sidhe 'vahi' dikha dijiye." nanad ne ukasaya.

"are dikha to deta lekin bachchi hai kahi bhadak ne jaye aur vaise bhi abhi din raat salle ka dekh rahi hai."

"dekho tum apne is nendoyi se bach nahi paogi, abhi bach bhi gayi ne to holi me to ye bin choli khole manenge nahi"

main chupachap muskara rahi thi, phikk se hans di. ashvin bhi khul ke hansate huye bole " are hansi to phansito main bata du naam ka matalab.." meri nanad, unki patni boli,

"main hi samajha deti hu ashv ka matalab ghoda..to tumhare nanadoyi ka ye kahane hai ki ashvani ka matalab hua, ghode jaisa" jethani ji ne kaha unki baat puri hone ke pahale hi main nanadoyi ji ki himayat karati huyi boli,

"are didi ji, isame bichare nanadoyi ji ko kyo doshh deti hai. apni sasu ji ko boliye ne. wo kabhi amdhere me ghudasal chali gayi hongi aur kisi ghode ka "

meri baat khatam hone ke pahale hi hansi se kamara gumj gaya. mene raat ka hisab barabar kar diya tha. thodi der ke hansi majak ke baad unhone mera hath pakad liya,

dekhane ke naam pe.

"are bhabhi dekhiye, jija hath pakadane ke bahane phir kahi kohani tak nahi pahunch jayem" anjali boli.

"aur phir kohani se sidhe jubane tak." nanad ne chidhaya.

"are meri salahaj aisi darane vali nahi hai, aur main tum logo ke phayade ki baat dekh raha hu."

"kya jiju ham logo ka kya phayada hoga" anjali boli.

"are neg to milega ne, tum logo ko bua banane par. yahi ki tum log kab aur kitani baar bua banogi."

"to kya dekha apne, ab tak." nanad ji ne pucha.

"yahi ki chidiya ne chara to ghontane shuru kar diya hai, aur apni or se puri koshish kar rahi hai." wo bole " to tokya 9 mahine me khush khabadi" ek aur nanad ne banevati khushi se mujhese pucha.

"to chidiya itane chara ghont rahi hai, to usaka pet jald hi phulega." anjali ne aur palita lagaya.

"are nahi yar ye chidiya bahut chalak hai. aaj kal aisi goliya ati hai , ye din raat chara ghontegi aur pet bhi nahi phulega. to bataiye ne kya hoga." nanad ne nanadoyi ji se pucha.

"are wo to puche jisaka pet phulane hai, use bataunga."

"kahiye to pair chu ke puchu" jhukane ka netak karate hue main hansate huye boli.

"wo thik hai lekin kaun sa pair chuogi." ek nanad boli.

"are wo bhi koi puchane vali baat hai. beech vala vahi, ghode vala. are sirph chune se prasad nahimilega, use thik se pakado, dabao, masalo thi baba prasann hongem" meri majhali nanad boli.

thi tak vastav me wo hath se kohani tak pahunch gaye the, aur mere chehare ko dekhate hue bole,

"main dekh raha hu ki tum apni jethani ke sath ek baba ke yaha ho. tumhari jethani puch rahi hai baba, 6 mahine ho gaye bataiye kya hoga. baba ne tumhara pet chua,

phir sine tatola aur kaha pata nahi chal pa raha . jethani ji ne baba ke sare pair chuye,

phir baba ne inka saya uthaya aur dhyan se andar jhank kar kaha, khush raho ladaka hoga. jethani ne pucha, baba aap dhany hai. aap ne vaha kya dekha. wo bole, are mujhese kaise koyi bach sakata hai. wo jhank raha tha mene usaki mumche dekh li."

aur phir meri nanado ki or dekh ke bole, isaka matalab bhatija hoga, neg badhiya milega."

sab log jor jor se hansane lage. main jhemp gayi aur jhemp mitane ke liye jaldi se boli,

"nahi nahi, mere to , mera matalab mere to vaha bal hi nahi hai." phir dubara sab log hansane lage aur main apni baat ka matalab samajh khud sharama gayi.

"are to isame itane sharama kyo rahi ho, jaise ladakiyo ko mumch dadhi se chumma chati me jhanjhat hoti hai, vaise ladako ko bhi hoti hai, hai ne. vaise niche vale honth pe abhi chumma chati shuru huyi ki nahi." nanadoyi ji ne aur cheda.

wo to aur chedate, lekin bahar se meri sasu ji ne avaj lagayi aur unki patni unhe hamk ke bahar legayi. andar sirph mere sath meri jethani, anjali, guddi aur rajani bache.

jethani ji naanjali se kaha ki wo daravaja band kar le jisase ham log thodi der aram kar sake. daravaja band kar ke wo mere paas ai aur mera hath apne hath me dekhane lagi.

ham sab log ab aram se baith the. anjali mere hath ko dekhate huye boli,

"bhabhi, apka hath dekh ke jiju ne kitani majedar bate batayi."

"hath to main bhi dekh leti hu, lekin main wo baat batati hu jo aksar hath dekhane vale nahi batate."

"kya, bhabhi." sab ek sath bol padi aur usme guddi bhi shamil thi."

"main hath dekh ke til bata sakati hu aur aisi jagah ka til jaha sab ki nigah nahi padati."

"ye kaise ho sakata hai, ye to aaj tak mene sune nahi" rajani ary se boli.

"are meri banno ab tum us umar me pahunch gayi ho jaha roj neyi nei cheej dekhane aur sikhane ko milegi. agar tumhe nahi vishvas hai to main ye 100 rupare ka not jethani ji ke paas rakh deti hu. main hath dekh ke til bataungi, tum log dikhane, agar main galat hui to 100 rupare har galati pe tumhare. manjur? tino ek sath boli, manjur.

mene 100 rupare ka not jethani ji ke paas rakh diya aur unhone use pars me rakh liya.

sabase pahale mene anjali ka hath thama. thodi der tak hath dekhane ka netak karane ke bad, mene usase kaha ki tere pair ke taluye me til hai. usne chappal utar ke dikhaya. vakayi me til tha.sab kahane lagi ki bhabhi ye toan gaye lekin kahi apne iske pair aise uthe hue dekh liye honge. mene rajani ko cheda, he kiske samane taang uthayi tumane, itani jaldi yaha takawo bichari to sharma gayi lekin baki dono chillane lagi ye nahi chalega, aap dubara bataiye. khair mene phir anjali ka hath mene phir pakada aur phir kuch der tak dekhane ke bad, main boli main bataungi to lekin tumhe kapada kholane padega dikhane ke liye. wo boli, thik hai 100 rupare ka saval hai. tumhare baye bubs ke thik niche, uske bes pe. wo boli, nahi vaha koyi til nahi hai, main roj shishe me dekhati hu. are, are to banno roj dekhati hai ki jubane pe kitane ubhar aya, kitane gadaraye. bechari sharama gayi. lekin anjali aur guddi boli,

dikhao, dikhao. thoda usne top uthaya, baki anjali aur guddi ne mil ke saraka diya,

bra tak. koyi til nahi tha. dono jor se chillayi, bhabhi har gai. rajani ne bhi 100 rupare ke liye hath badhaya. mene usaki bra thoda sa upar saraka di. khub gore mulayam ubhar aur baye bubs ke bes ke thoda upar, ek kala til. (asal me kal sham ko jab mene usaki bra ke niche push ap paid lagaye the to mene ye til dekh liya tha). ab uske baad guddi ka nembar tha. pahale to mene uske pith pe ek til bataya, lekin phir sab ne kaha ye koyi badi baat nahi hai. phir mene der tak usaka hath dekhane ka netak karati rahi phir main boli, bataum. tino ek sath chillayi, bataiye. mene kaha lekin dikhane padega. ab guddi bechari thodi jhijhki. "frock ke niche, jaangh ke upar." wo bechari kas ke frock ko dabati rahi lekin rajani aur anjali ne mil ke frock upar sarakani shuru kar di. anjali hans ke boli, "are yar dikha de hami log to hai 100 rupare ka saval hai". usaki khub bhari bhari gori jaanghe dikh rahi thi lekin til ka kahi ata pata nahi tha. ab tino bolane lagi, 100 rupare, 100 rupare.

main boli thik hai mil jayengem, lekin abhi thoda aur upar aur phir to rajani aur anjali ne mil ke pura kamar tak utha diya. mene chaddhi jara si sarakayi. jaha kas ke chaddhi ne jaangho ko daboch rakha tha, vahi pe til tha. (aur ye bua bhatiji ki mili bhagat ka natija tha, guddi ne khud hi mujhe bata diya tha.) aur ab anjali ka nembar tha. jaise hi mene usaka hath pakada, wo boli, tum dono to phel ho gayi, dekhane main bhabhi se 100 rupara jit ke hi rahungi. usaka hath main bade dhyan se dekh rahi thi. mene bhi kiro aur beneham padh rakha tha. ye saph ho gaya ki upar se to wo thodi baneti rahegi lekin andar se wo sexy hogi aur usaka smband shadi ke pahale hi kayi ladako se ho jayega, lekin isame kisi ka hath bhi hoga. wo boli,

kyo bhabhi nahi dikha ne. mene ban ke bola, mushkil lag raha hai. usaka chehara chamak gaya. kuch aur dekh ke main boli, pith pe, upar ki or (ye mere abjarveshan ka natija tha.) aur usne frock thoda niche kiya, pith ki or. vahi tha shoulder blades keniche bra ke straips ke niche. dekhate dekhate chedkhani me guddi ne uske bra ke straips khinch diye. anjali boli, pith ka to dikh bhi sakata hai, ek baar phir se. aur main dubara hath dekhane ka netak karane lagi. thodi der dekh ke main boli, hai to lekin main bataungi nahi. bataiye bataiye, rajani aur guddi halla karane lagi. ye bura man jayegi,

mene kaha. nahi nahi main bura nahi manene vali, sach to ye hai ki koyi hai hi nahi aur aap hairaane ke dar se bahane bane rahi hai." anjali boli. mene phir hath upar utha ke ek dam ankh ke paas le jake dekha, aur phir muh bane ke apni jethani se kaha, "aisa hath aur ye til ka nishan mene aaj tak nahi dekha tha, sirph ek baar kitaab me padha tha.

mujhe vishvas nahi ho raha hai." bataiye ne, rajani aur guddi ne jid ki. "are kahi hoga to batayengi ne bhabhi." anjali ne kaha. to thik hai mene 100 rupara aur nikal ke jethani ji ko dete huye kaha, agar kahi bhi hoga to dikhane padega. are darati thodi hu dikha dungi wo muskara ke boli. mene kaha ki ye ek dam sejagah pe hai isaliye mene baji badha ke 200 ki kar di. ye tumhare thik vaham, gulabi pankhudiyo ke upar hai aur painty utar ke dikhane padega. ab wo bechari sahami, lekin guddi aur rajani uske piche pad gayi ki hamara to frock aur top uthaya tha toaine bhi samajhaya ki jara der me chek ho jayega, 200 rupare ki baat hai. ant me wo is shart pe taiyaar huyi ki wo dusari or muh karake khud utaregi, aur khud hi dekhegi. main is pe bhi raji ho gayi.

jhuk ke usne painty utar ke rajani pakadaya aur rajani ne chupake se mujhe de diya.

jhat se mene pars me rakh liya. udhar wo apne ko nihar ke boli,

"koyi til vil nahi hai."

"are thik se dekho, jhuramut me chipa hoga," main boli aur jhatake se usaki frock utha di.

ek dam saph saphachat, chikani kasi kumvari gulabi puttiyam, usne apni jaanghe bhinch li aur jaldi se frock niche gira di lekin thi to hamane darashan kar hi liya.

mene jethani ji se kaha ki pahali baar main galat huyi hu aur unhone 200 rupare anjali ko de diye. mujhe yad tha ki jab kohabar me 'jhalak' dekhi thi to 'ghas phus' thi. mene use cheda,

"he kal mere bhai aa rahe hai kya isi liye, unke svagat me shev karake chikkan mukkan kar liya." wo kya bolati, thodi naraaj thodi muskaraati baithi rahi.

mene apne pars me se 500 ka ek not nikal ke badha diya, use tham ke, usaki saval bhari nigaho ne pucha.

"100 rupare tumhari painty ke. aur 200 rupare me tumane painty utar di ne to kal jab mere bhai ayenge to 200 rupare painty utarane ke aur 200 taang uthane ke. edavams."

thi tak bahar se bulahat hui aur jethani ji aur sab jane lage. mene usaka hath pakad ke rok liya aur samajhaya, "he bura mat manene, nanad bhabhi me to majak chalata hi rahta hai. aur ha ye dekho,"pars khol ke mene dikhaya , usaki dusari painty ( wo jo kohabar ke pahale, mere bhaiyo ne chedakhani me andhere me utar li thi aur jab sanjay mujhe yaha chod ke ja raha tha to usne mere pars me rakh diya tha.) " ye tumhari ek aur painty jo shayad tum baraat me ayi thi to vahi chut gayi thi. lekin ghabadao nahi, kal sanjay ayega ne, main usase bol ke tumhare liye do khub sexy painty mangava dungi." va mera hath chuda ke bahar chali gayi.
kramashaah……………………………………



lalaora
Rookie
Posts: 36
Joined: 07 Nov 2014 09:25

Re: कामुक-कहानियाँ शादी सुहागरात और हनीमून

Unread post by lalaora » 11 Nov 2014 07:42

Fine

raj..
Platinum Member
Posts: 3402
Joined: 10 Oct 2014 01:37

Re: कामुक-कहानियाँ शादी सुहागरात और हनीमून

Unread post by raj.. » 12 Nov 2014 04:46

शादी सुहागरात और हनीमून--29

गतान्क से आगे…………………………………..

मुझे बाद मे लगा कि, मुझसे कितनी बड़ी ग़लती हो गयी.

कमरे मे सिर्फ़ मैं और रजनी बचे थे.

तब तक दरवाजे पे ये नज़र आए. सुबह से दो बार झाँक गये थे, लेकिन उनकी भाभीया बैठी थी इसलिए हिम्मत नही पड़ी. लेकिन अभी सिर्फ़ रजनी थी इसलिए,पहले तो उन्होने बाहर से ही इशारे किए एक दो बार , मुझे उपर कमरे मे आने के. और थोड़ी देर बाद उनकी और हिम्मत बढ़ी तो कमरे मे अंदर आ गये. लेकिन जैसे ही वो अंदर घुसने को हुए मेरी एक जेठानी, ( वही जिन्होने चालाक दारोगा की तरह मुझसे सब कुछ कबुल करवा लिया था). आ के मेरे पास बैठ गयी. बेचारे दरवाजे पे ही रफू चक्कर हो गये. थोड़ी देर तक तो मैं बैठी रही फिर मेने अपनी उन जेठानी जी से कहा कि मुझे कुछ काम याद आ गया है, ज़रा उपर अपने कमरे से हो के आती हू. मुस्करा के वो बोली जाओ.

मैं सीढ़ियो पे चढ़ि ही थी कि वो सामने सीढ़ियो पर ही उपर मेरे पास आते ही उन्होने मुझे बाहे भींच लिया और कस के अपने सीने से दबा के मेरे होंठो पे एक जबरदस्त पूच्छकयचपच्छाक तब तक नीचे से सीढ़ियो से रजनी की आवाज़ आई, " भाभी" वो तो ऐसे झटके जैसे किसी बिल्ले को मलाई पे मूह मारते पकड़ लिया गया हो. मेने ही बात बनाई और उन्हे पकड़े पकड़े कहा, आँख मे एक फुक और मारिए, अभी निकला नही. उन्होने इशारा समझ के मेरी पलको को खोल के एक बार फुका. आँख की किरकिरी निकालने के नाम पे आँख मे तो कुछ था नही. हाँ उन के फुक मारने से ज़रूर किरकिरी होने लगी. वो बेचारे निराश हो के उपर कमरे मे चले गये और मैं नीचे सीढ़ियो पे रजनी ने छेड़ कर पूछा,

"भाभी निकला कि नही." मेने भी उसी तरह द्विअर्थि ढंग से जवाब दिया, " डालने के तो तुमने पहले ही टोक दिया तो निकलेगा कैसे." और उसे कस के भींच लिया. उसने मेरा कम बिगाड़ा था तो मैं उसे कैसे छोड़ती, मेने उसके टॉप मे सीधे अंदर हाथ डाल दिया और ब्रा को उचका के सीधे उसके उरोजो को दबोच लिया. खूब मुलायम, रूई के फाहे जैसे, छोटी छोटी लेकिन उसके किशोर उभार, कस के उभर रहे थे. मसलते हुए मेने पूछा, बोल क्या बात है.

नीचे कुछ औरते आई थी, मुझे मूह दिखाई के लिए बुलाया था. लंबा घूँघट काढ़ के मैं पहुँच गयी.

मूह दिखाई के बाद दुबारा उपर जाने का सवाल ही नही था. अभी रसोई छूने की रसम होनी थी. इस रस्म मे दुल्हन खाना बनाती है, बल्कि बन रहे खाने मे कल्चूल चला देती है. इस तरह वो घर के काम काज मे हिस्सा लेना शुरू कर देती है और दुल्हन से बहू बनने की दिशा मे ये महत्वपूर्ण कदम होता है. जो भी खाना वो 'बनाती' है,

उसे उसको अपने दूल्हे के साथ साथ खाना होता है, जिससे माना जाता है कि उनका प्रेम पक्का होगा. उसकी 'बनाई' हर चीज़ दूल्हे के लिए खानी ज़रूरी है.

मेरी सास ने मुझे किचेन मे भेजा , ननदो के साथ. वहाँ अंजलि के साथ साथ मेरी मझली ननद भी थी. मेने सोचा कि शायद एक कड़ाही मे कल्चूल चलानी होगी, पर उन दोनो ने तो मुझसे हर बर्तन मे कल्चूल चलवाई और अंजलि ने आँख नचाके कहा भाभी आज आप को भैया को ये सब खिलाना होगा.

उस समय तो मैं नही समझी, पर जब दुलारी एक बड़े से थॉल मे खाना निकल के ले आई और उस के साथ मैं सीढ़ी पे चढ़ि तो मुझे सारा खेल समझ मे आ गया. पीछे पीछे अंजलि भी थी. ये मुझे मालूम था कि ये खाने के मामले मे थोड़े 'फिनिकि' है. लेकिन जब से मैं ससुराल मे आई थी मेरी हर ननद खास तौर पे अंजलि ये बताती रहती थी कि भैया को ये नही अच्छा लगता वो नही अच्छा लगता (प्योर् वेजिटेरियन, और टी टोटलर तो घर का हर आदमी बताता रहता था, मेरे मायके की आदतो से एकदम अलग). लेकिन कुछ चीज़े एकदम ' नो नो ' थी उनके लिए. अगर उनके खाने की कोई'निगेटिव विष लिस्ट' हो तो ये सारा खाना उसी तरह बनाया गया था और वो सारी ' नो नो' चीज़ें, मुझसे छुल्वाइ गयी थी. मेरे माथे पे तो जाड़े मे पसीने आ गया. ये सब चीज़े उन्हे खिलानी होंगी और न खिलाया तो मेरी आँखो मे आँसू नाच रहे थे.तब तक हम दरवाजे पे पहुँच गये थे. दरवाजा खुला तो वो टी वी पे कोई वीडियो देख रहे थे और उन्होने उसे झट से बंद कर दिया.मेने पहले तो बड़ी स्टाइल से अपने आँचल से,

उनके मूह पे एक झोका दिया और दुलारी से कहा कि थाली टेबल पे रख दो . खाने के बाद मैं बगल के किचेन मे रख दूँगी. बाहर का दरवाजा खुला रहेगा, तुम उसी ओर से आ के ले जाना. उसके निकलते ही मेने दरवाजा बंद कर दिया.

पहले तो उनको दिखाते हुए बड़ी अदा से मेने एक स्ट्रिपर की तरह अपनी साड़ी उतार दी.

फिर उनके पास जाके, उनकी गोद मे बैठ के मेने कहा कि आज मेने रसोई छुई है.

मैं आप को अपने हाथ से खिलाउन्गि. लेकिन मेरी एक शर्त है तुम को मतलब है आप को सब खाना पड़ेगा. हाँ मैं आपकी आँख बंद कर दूँगी. वो मुझे बाहो मे बाँध के बोले मंजूर, लेकिन मेरी भी एक शर्त बल्कि दो शर्त है. पहली तो आज से तुम,

मुझे 'तुम' कहोगी और दूसरी तुम मुझे अपने हाथ से ही नही अपने होंठो से भी खिलाओगी और मेरे हाथ एक दम आज़ाद होंगे चाहे जो भी कुछ करने के के लिए.

मंजूर, हंस के मेने कहा और उनकी भी टी शर्ट उतार दी और उनकी आँखो पे पट्टी बाँध दी. उन का हाथ पकड़ के मैं डाइनिंग टेबल पे ले आई और कुर्सी पे बैठा दिया. मैं भी उनकी गोद मे बैठ गयी और खाने का थॉल अपनी ओर खींच लिया.

पहले तो मेने अपने गुलाबी होंठ हल्के से उनके होंठो पे रख दिए और फिर कस के एक चुम्मि ले ली. फिर उनके होंठ खींच कर मेने अपने गालो पे रखे, फिर अपनी ठुड्डी पे और फिर ब्लाउस से बाहर छलकते रसीले जोबन पे. जब तक उनके होंठ मेरे जोबन का स्वाद चखने मे बिजी थे, मेने, अपने होंठो मे एक कौर बना के रखा और उनका सर उपर कर के सीधे उनके होंठो के बीच. पहले उन्होने होंठो का स्वाद चखा फिर खाने का. थोड़ी देर मे ही उनका लिंग भी खड़ा हो के लगा रहा था उनका शर्ट और मेरा पेटिकोट फाड़ के अंदर घुस जाएगा. कभी मेरे होंठ उनके होंठो को खाना थमा देते और कभी खुद उनके होंठ गपक लेते. इसी बीच जब उनके होंठ मेरे उरोजो का स्वाद चख रहे थे मेने ज़ोर से पूछा, क्यो कैसा लग रहा है, वो बोले बहुत अच्छा. और स्वाद मेने अपने जोबन उनके होंठो पे प्रेस कर के पूछा, (मेरे अंतर्मन को लग रहा था कि शायद कोई बाहर खड़ा हो हम लोगो का हाल चाल जानने के लिए और बाद मे पता चला कि मेरा शक सही था),

वो खूब खुश होके बोले बहुत अच्छा, बहुत स्वादिष्ट. उनके हाथ साथ मेरे उरोजो का स्वाद लेने मे व्यस्त थे.. इसी बीच लगता है कोई ऐसी चीज़ जो उन्हे सख़्त नापसंद हो मेरे होंठो से उनके मूह मे पहुँच गयी, और उनके चेहरे पे नापसंदगी का भाव एकदम पल भर के लिए गुजर गया और वो थोड़े ठिठक से गये (इस मामले मे वो बड़े उनके मन मे जो कुछ भी होता, वो उनके चेहरे पे झलक जाता.). मैं समझ गयी और थोड़ी देर लिए के खिलाना रोक के मेने कस के उन्हे अपनी बाहो मे भर लिया और लगी कस कस के चूमने, उनका हाथ खुद पकड़ के मेने अपने बुब्स पे दबा दिया. अगली बार जब मेने कौर लिया तो मेने चालाकी की ज़्यादा हिस्सा मेने खुद खाया और थोड़ा हिस्सा सिर्फ़ नाम करने को अपने होंठो से उनके मूह मे दिया. पर उनके आगे किसकी चालाकी चलती. उन्होने मेरे मूह मे जीभ डाल के मुस्कराते हुए वो भी निकाल लिया और गपक कर गये. इससे मुझे एक आइडिया सूझा, ननदो की चाल का मुकाबला करने का.

मेने तय किया कि जो मुझे चैलेंज दिया गया है, मैं उसे ईमानेदारी से ना सिर्फ़ पूरा करूँगी बल्कि उससे भी ज़्यादा करूँगी. मैं 'सब कुछ' उनेको खिलाउन्गि और आधे से भी ज़्यादा.

मैं ने उनके होंठो को अपने गाल का स्वाद दिया और वो ना सिर्फ़ चूम रहे थे बल्कि मेरा गाल अपने होंठो से दबा के कस के चूस भी रहे थे, चुभला भी रहे थे और हल्के से दाँत भी लगा देते. मैं उन का सर पकड़ के कान मे धीरे से कहती, अब दूसरा गाल लेकिन उनके मूह को अपने रस भरे मस्त किशोर उरोज के उपर लगा देती. वो तो बस मारे खुशी के कभी चूमत, कभी चुसते कभी कस के काट लेते.

इसी बीच मैं खाने के कौर को अपने दाँत से काटती, कुचलती, मूह मे चभालाटी,

अपने मुख रस मे लिसेड देती और फिर उनका चेहरा उठा के अपने हाथ से कस के उनका गाल दबाती जैसे ही उनके होंठ खुलते, मेरे होंठ उनके होंठो से चिपक जाते और मैं उनके होंठो के बीच कौर डाल देती या फिर कूचा, चुभालाया, मेरे मुख रस से लिथड़ा, लिसडा कौर अपनी जीभ के संग उनके मूह मे पूरी ताक़त से थेल देती. फिर तो वो खाने के साथ वो मेरी जीभ को भी कस के चुसते. अगर कभी उनकी जीभ मेरे मूह के पकड़ मे आ जाती तो मैं भी वही करती, जैसे मेरी योनि उनके मोटे सख़्त लिंग को कस के भींच लेती थी, वही सतकर मेरा मूह उनकी जीभ का करता. और खाने के साथ जब उनके हाथ मेरे जोबन छेड़ते तो वो भी उचक के उनका साथ देते और साथ मे उनके फनाफनाते लिंग पे मैं कस के अपने सेक्सी चूतड़ रगड़ देती. ज़्यादातर खाना तो उन्होने ही खाया और एक बार भी बिना ना नुकुर के. यहाँ तक कि जो कुछ बचा खुचा था, कटोरियो के किनारे पे लगा था, वो सब भी उंगली से पौंछ कर, उनके मूह मे अपनी उंगली डाल के चटा दिया. खाने मे उनका हाथ तो लगा नही था हाँ उनके होंठो को मेरे होंठो ने अच्छी तरह चाट चुट के साफ कर दिया.