कमीना compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 05 Nov 2014 04:54

payal-ab bathroom me jakar usko peshab bhi karwayega kya,

ravi- muskura kar baithte hue, didi aakhir hua kya hai jo tum is tarah gussa dikha rahi ho aur yah koi tarika hai soniya

se bat karne ka vah to tumhari khas dost hai na, ek to bechari tumhare kahne par yaha chali aai aur tum ho ki uske sath

jane me bhi nakhra kar rahi thi

payal- ravi ko peth par marte hue mujhe jyada gyan dene ki koshish mat kar samjhe, aur ravi ki aankho me ghur kar

dekhti hui, kamina kahi ka,

ravi- didi tum bhi na, tumhara chota bhai kya ho gaya tum to jab dekho mujhe marti hi rahti ho, kabhi to apne bhai se

pyar bhi kar liya karo

payal- ravi ki bat sun kar use gusse se apni aankhe nikal kar dekhti hai aur

ravi- usko dekh kar muskurata hua hay didi meri jan aise na dekho tum jab apni katil najro ke teer mujh par aise chalti

ho to mera dil karta hai ki tumhe pakad kar chum lu,

ravi ki bat sun kar payal apne munh ko samne kar leti hai aur man hi man thoda khus ho jati hai,

ravi- sach didi jab tum is kadar apni najre mujh par marti ho to tum bahut khubsurat lagti ho, tumhari isi ada ne to

tumhare bhai ko hi tumhara deewana bana diya hai, uski bat sun kar payal phir se usko dekhti hai to ravi uske samne

uske mote-mote gadaraaye doodh ko dekh kar muskurane lagta hai aur payal uske baju me has ke dhakka marti hui,

kamina kahi ka, aur itne me jaise hi payal soniya ko aate dekhti hai to uski hasi phir gayab ho jati hai aur vah soniya ke

aane se pahle hi

payal- ravi ko dekh kar khada ho

ravi- payal ko dekh kar kyo

payal- me kahti hu khada ho

ravi- apni seat se khada hokar lo ho gaya ab

payal- kahdi hokar ravi ko thoda aage ki dhakel kar use soniya ki seat par baitha deti hai aur khud ravi ki seat par baith

jati hai aur jab soniya uske pas aati hai to

payal - soniya yaha baith ja, soniya payal ko kuch ajeeb najro se dekhte hue baith jati hai ab ravi aur soniya payal ke ass

pas baithe the, uski is harkat par jaha ravi thoda muskurata hai vahi soniya confuse najar aati hai, lekin payal kaphi khus

najar aati hai,

movie phir se shuru ho jati hai aur ravi apne man me sochta hua, didi kitna jal rahi hai, isko aur jalana chahiye tabhi

iska dimag thikane aayega aur ravi chupchap movie dekhne lagta hai. udhar payal nahi janti ki vah kis cheej ka intjar kar

rahi thi lekin uski najre barabar ravi ki aur kankhiyo se dekh rahi thi, shayad vah yah expect kar rahi thi ki ravi uske sath

bhi soniya jaisi koi harkat karne ki koshish kare, lekin ravi apne irade ko pakka karte hue apni gadaraai bahan ko hath bhi

nahi lagata hai aur payal baithe-baithe hi na jane kis tarah ki aag me jal rahi thi, ek do bar to usne movie dekhte hue

bhi ravi ko ek do lappad uski peeth me mare lekin ravi mand-mand muskurata hua parde ki aur dekhta raha, ant me

movie khatam ho gai aur payal ka bheja us cinema hall me fry ho gaya, un teeno ne ek nai movie dekhi thi lekin teeno

me se kisi se bhi aap puch lo ki movie ki story kya thi to vah teeno hi jawab dene me asamarth najar aate, kyo ki

unhone to movie par dhyan hi nahi diya, tabhi ravi soniya ko dekh kar

ravi- muskurata hua, kyo soniya kaisi thi movie

soniya- ravi ko gusse se dekhti hui, bakwas

payal- are soniya se kya puch raha hai me batati hu, soniya ko interwal ke pahle tak hi movie achchi lagi interval ke bad

soniya ko movie bilkul pasand nahi aai

ravi- muskurata hua par didi me aapke bare me guaranty se kah sakta hu ki aapko interval ke pahle movie bahut kharab

lagi aur aapne socha ki shayad interval ke bad kuch achchi lage lekin uske bad bhi aapko boriyat ka samna hi karna pada,

ravi ki bat sun kar payal usko ghur kar dekhti hai aur soniya payal ko dekhti hai aur ravi dono mastani londiyo ki jawani

ko dekh-dekh kar khus hota hua aage chalne lagta hai, uske bad payal aur ravi soniya se by kahte hue apne ghar ki aur

aa jate hai, ghar aate hi payal apne room me jakar let jati hai aur ravi tv on karke sofe par baith jata hai, payal ki aankho ke samne ravi dwara soniya ke doodh dabane ka drashya najar aane lagta hai aur use pata nahi kya hota hai aur vahsidhe uth kar ravi ke pas jakar usse tv ka remote chin kar tv band kar deti hai,

ravi- kya hua didi tv kyo band kar di

payal- usko gusse se ghur kar dekhti hui, cinema me tu soniya ke sath kya kar raha tha

ravi- muskurata hua kuch bhi to nahi

payal- jyada banne ki koshish mat kar me sab janti hu tu kya kar raha tha

ravi- uske kharbujo ki tarah mote doodh ko ghur kar muskuraate hue dekh kar kya kar raha tha

payal- apni najre usse hata kar tujhse to bat hi karna bekar hai aur phir se tv on karke uski aur remote phekte hue apne room ki aur tej-tej kadmo se chal deti hai

ravi muskurata hua apni didi ki gadaraai gaanD ke mote-mote lahrate hue pato ko dekhne lagta hai, aur apne man me hay didi jal bin machali ki tarah tadap rahi ho, kyo jalti ho agar meri banho me aane ke liye tumhara ji machal raha hai to aa kyo nahi jati,

ravi uth kar payal ke room me jata hai payal apne bed par ulti hokar leti hui thi ravi uski moti gadaraai gaanD ko dekh kar uske pas jata hai aur uski gaanD ko apne hatho se sahla deta hai aur payal ek dam palat kar uth kar baith jati hai aur

payal- kya hai kyo aaya hai yaha

ravi- meri didi na jane mujhse kyo khafa hai so usko manane aaya hu

payal- apni najre idhar udhar karti hui me tujhse kyo naraj hone lagi aakhir tujh par mera hak hi kya hai

ravi- didi aakhir mujhe samajh nahi aata ki tum mujhse chahti kya ho

payal- kuch sochti hui, apne chehre ko serious bana kar ravi mujhe tera soniya ke sath rahna bilkul achcha nahi lagta hai

ravi- kyo

payal- me nahi janti

ravi- tum jhuth bolti ho, jabki tum achhchi tarah janti ho

payal ravi ki aur dekhti hai aur phir apni najre niche kar leti hai, ravi payal ke pas baith jata hai aur uske chehre ko gaur se dekhta hua

ravi- didi ek bat kahu

payal- ravi ki aur dekh kar kya

ravi- muskurata hua, didi tum bahut sexy ho

payal- muskura kar mar khayega tu mere hath se

ravi- sach didi tum mujhe bahut sexy lagti ho aur uske galo ko apne hatho se sahla deta hai

payal- muskura kar uska hath jhatkte hue, ravi tu apna munh band rakhega

ravi- didi ek bar mujhse kas kar chipak jaao na

payal- uth kar me ja rahi hu

ravi- uska hath pakad kar please didi bas ek bar

payal- usse apna hath chudate hue, us din ka thappad bhul gaya

ravi- uska hath chodkar, didi vah thappad to me bhul gaya lekin vah scarpiyo ki rat mujhe rah-rah kar yaad aati hai

payal- apna sar jhukate hue, dekh ravi me vo sab bat nahi karna chahti

ravi- payal ki moti gadaraai jangho par apna hath rakh kar, par didi me to us din hui hum dono ke beech ki ghatna ko bar-bar dohrana chahta hu, aur tumhe apni banho me bhar kar usi tarah chumna chahta hu

payal- ravi tujhe sharm aani chahiye kya tu yah nahi sochta ki me teri bahan hu aur tujhe mere sath aisi bat nahi karna chahiye

ravi- us din jo hua uske bad se to me tumhe puri nangi dekhne ke liye tadap raha hu

payal- ravi ko gusse se dekhti hui, kamina kahi ka apni bahan ko nangi dekhega

ravi- didi ek bar bas ek bar mujhe apne pas aane do na

payal- dekh ravi me tujhe bahut bardast kar chuki kyo ki tu mera bhai hai, lekin agar tune mujhe jyada pareshan kiya to me teri shikayat bhaiya se kar dungi

ravi- jab dekho bhaiya ki dhamki deti ho, jaao kah do, jyada se jyada kya hoga bhaiya mujhe marege ya ghar se nikal denge, aur tum bhi yahi chahti ho na

payal- uski bat sun kar thoda serious hokar, ravi ke kandhe par hath rakh kar, dekh ravi tu mera achcha bhai hai na, to phir tujhe mere liye apna najariya badaalna chahiye, me to apni galti par pachta rahi hu aur tu hai ki ek aur galti karne par aamada hai,

ravi- kuch soch kar, didi me janta hu ki me jo chahta hu vah galat hai, aur payal ke bhare hue galo ko apne hatho se sahlata hua, lekin didi tumhare is khubsurat husn ko dekh kar mujhse raha nahi jata hai aur mera dil karta hai ki me tumhe puri nangi karke tumhare ek -ek ang ko chum kar tumhe khub pyar karu, tumse jyda khubsurat aur sexy ladki mene nahi dekhi, tumhara bhai tum par mar mita hai use aur mat tadpao

payal- uski baate sun kar man hi man khus hoti hai lekin chehre par gussa dikhane ki koshish karti hai phir bhi uske chehre par halki muskan aa hi jati hai aur vah bed se uthte hue, ravi ko apni katil najre dikhati hui use dhakel kar tu bahut bada kamina hai ravi tu kabhi nahi sudhar sakta ab apne munh se ek bhi shabd mat nikalna me coffee banane ja rahi hu, tu piyega kya,

kramashah.........................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 06 Nov 2014 12:49

कमीना--14

गतान्क से आगे.............................

रवि- मुस्कुरा कर पायल के मोटे-मोटे भरे हुए दूध को देख कर मे तो कब से पीना चाहता हू दीदी पर तुम हो कि पिलाती ही नही, एक बार पीला दो ना

पायल- उसके पेरो मे अपनी टांग उठा कर एक लात मारती हुई, पिला नही सकती पर जूते ज़रूर खिला सकती हू, खाएगा और फिर रूम के बाहर मुस्कुरा कर जाने लगती है

रवि -पीछे से, दीदी अगर तुम नही पिलाओगी तो मे सोनिया के पास जाकर पी लूँगा

पायल- पलट कर उसको मुस्कुरा कर देखती हुई, कमीना कही का और मुस्कुरा कर बाहर चली जाती है

रवि को अपनी दीदी कुछ लाइन पर आती हुई नज़र आने लगी थी लेकिन वह जानता था कि जल्दबाज़ी करना ठीक नही होगा इसलिए वह अपनी दीदी को पूरी तरह अपने जाल मे फसा कर शिकार करना चाहता था, लेकिन एक बात वह समझ गया था कि उसकी दीदी भी उस स्कार्पीओ वाली ग़लती को फिर से करने के लिए तड़प रही है, तभी तो रवि द्वारा सोनिया के दूध दबाने पर पायल एक दम जल भुन गई थी.

शाम को पायल और रोहित बैठ कर बाते कर रहे थे और उधर रवि ने सोनिया को कॉल किया

सोनिया- हेलो

रवि- हाय सोनिया

सोनिया- तुम, तुम्हे मेरा नंबर. कहा से मिला,

रवि- सोनिया जिस दिन तुम्हे मेने पहली बार देखा था उसी दिन तुम मेरे दिल मे बस गई थी और मेने उसी दिन तुम्हारे बारे मे सब कुछ जान लिया था फिर नंबर. क्या चीज़ है,

सोनिया- क्यो फोन किया है तुमने

रवि- सोनिया मे तुमसे अकेले मे मिलना चाहता हू

सोनिया- लेकिन मे तुमसे नही मिलना चाहती

रवि- देखो सोनिया झूठ मत बोलो मे जानता हू कि तुम भी मुझसे उतना ही प्यार करती हो जितना मे तुमसे

सोनिया- हेलो किसी ग़लतफहमी मे मत रहना, वो तो पायल की वजह से मे तुम्हे कुछ कहती नही हू, वरना तुम जैसे कमिने लड़को को मे अच्छी तरह जानती हू

रवि- सोनिया कल मे तुम्हारा नॅशनल पार्क मे सुबह 9 बजे इंतजार करूँगा कल सनडे है और हम वही मिल रहे है

सोनिया- मे नही आउन्गि

रवि- और मे जानता हू कि तुम ज़रूर आओगी, शोर्प 9 ओ'क्लॉक ओके बाइ और रवि फोन कट कर देता है

सोनिया अपने हॉस्टिल मे अपने मम्मी-पापा के पास बैठी होती है और

पापा- सोनिया बेटे अब तुम्हारी शादी की उमर हो गई है और हम तुम्हारी शादी करना चाहते है

सोनिया- जी पापा

सोनिया के पापा उठ कर बाहर चले जाते है और सोनिया उसकी मम्मी की गोद मे सर रख कर अपनी आँखे बंद करती है और उसे रवि का चेहरा अपनी आँखो के सामने दिखने लगता है

मम्मी- क्या हुआ बेटी क्या तू शादी की बात से खुस नही है

सोनिया- अपनी मम्मी को देखती है और अचानक उसकी आँखे भर आती है,

मम्मी- सोनिया क्या बात है तू तो बच्चो की तरह रो रही है, अपनी मम्मी को नही बताएगी क्या बात है

सोनिया- अपनी मम्मी की बात सुन कर एक दम से फुट-फुट कर रोने लगती है

मम्मी- सोनिया क्या हुआ बेटी, कुछ तो बोल,

सोनिया अपने मन ही मन मे सोचती हुई, क्या बताऊ मम्मी कि तुम्हारी बेटी के दिल मे कोई इस तरह बस गया है कि वह उससे जुदा होने का सोच कर ही रो पड़ी है, मे अब आप से कैसे कहु की रवि को मे कितना चाहने लगी हू, उस कमिने की हर्कतो मे ना जाने क्या जादू है कि वह रोज मेरे सपनो मे आकर मेरी रात भर की नींद खराब कर देता है, मे कैसे कहु कि वह मुझे ना जाने क्यो बहुत अच्छा लगता है और अब तो उसने तुम्हारी बेटी के जिस्म को भी छू कर इतना घायल कर दिया है कि अब तुम्हारी बेटी सिर्फ़ उसी को अपनी बाँहो मे लेना चाहती है, उसके हाथो के स्पर्श ने मुझे उसकी और गिरने को मजबूर कर दिया है, और मे उसे अपना सब कुछ सौंप देना चाहती हू,

मम्मी- अब बोल भी सोनिया क्या बात है,

सोनिया- अपने आँसू पोछते हुए कुछ नही मम्मी बस आप लोगो से जुदा होने का सोच कर मेरा मन दुखी हो गया

मम्मी- अरे बेटी बस इतनी सी बात, अरे पगली हर लड़की को एक दिन अपने मा-बाप का घर छोड़ना पड़ता है, और अभी तेरी पढ़ाई मे कम से कम 7-8 महीने और बाकी है तू आराम से अपनी पढ़ाई पूरी कर ले, हम तो तुझसे इसलिए कह रहे थे कि तेरे पापा के एक जान पहचान वाले के गाँव से एक रिश्ता आने वाला है अगर वह लड़का तुझे पसंद कर लेता है तो फिर बात आगे बढ़ेगी, तू अभी कोई फिकर मत कर और अपनी पढ़ाई मे मन लगा,

अगले दिन सुबह 9 बजे सोनिया नॅशनल पार्क की ओर चल देती है तभी ऑफीस को जाते हुए एक मोड़ पर करण की बाइक उसकी स्कूटी से टकरा जाती है,

सोनिया- अपनी आँखे गुस्से से कारण को दिखाती हुई, अंधे हो देख कर नही चला सकते,

कारण- सोनिया का गुस्से मे लाल चेहरा देख कर उसे देखता ही रह जाता है और अपने आप से बात करता हुआ हाय क्या हुस्न है अगर यह लड़की अभी मुझसे शादी करने को कह दे तो मे अभी इसको ब्याह कर अपनी बीबी बनाने को तैयार हू, मेडम इसमे मेरी कोई ग़लती नही है यह मोड़ ही कुछ ऐसा है कि हमे इस मोड़ पर टकराना ही लिखा था, सो हम टकरा गये,

सोनिया- ज़्यादा स्मार्ट बनने की कोशिश मत करो, मे अच्छी तरह जानती हू तुम जैसे लड़को को जो जान बुझ कर लड़कियो की गाड़ी से टकरा जाते है

कारण- ओ मेडम मुझे कोई सौक नही है आप से टकराने का, लेकिन शायद हमारी किस्मत मे यहा टकराना लिखा था

सोनिया- वापस अपनी स्कूटी स्टार्ट करती हुई सभी लड़के लगता है कमिने होते है, उसकी बात सुन कर करण को रवि की याद आ जाती है

कारण- अरे मेडम मे तो कुछ भी नही हू अगर तुम मेरे दोस्त से मिलती तो फिर तुम यही कहती कि वह दुनिया का सबसे बड़ा कमीना है औरते और लड़किया उससे निगाहे मिलाती नही है बल्कि उसकी निगाहो को देख कर अपनी निगाहे नीचे कर लेती है,और करण अपनी गाड़ी आगे बढ़ा देता है,

रवि नॅशनल पार्क की एक बेंच पर बैठा हुआ सोनिया का वेट कर रहा था तभी उसे सोनिया आती हुई दिखाई देती है और वह एक दम से खुशी से झूम उठता है, और अपने आप से बाते करता हुआ,


आज बन ठन कर वो आए इस कदर है,

जैसे सब कुछ लूटा देने की चाहत हो

इंतजार हमारा सफल हो गया ओ रब्बा

क्या यह मेरे कामीनेपन का असर है

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: कमीना

Unread post by rajaarkey » 06 Nov 2014 13:04

निशा

अपना चेहरा इधर उधर घूमने लगती है, रोहित निशा के पास सरक कर उसे अपनी बाँहो मे भर लेता है और निशा

कसमसने लगती है, रोहित निशा के होंठो को अपने मुँह मे भर कर चूमने लगता है और निशा उसकी बाँहो मे

सिमटने लगती है, रोहित जैसे ही निशा का पल्लू उसके सीने से हटाता है निशा यह कह कर अपना पल्लू वापस अपने कंधे

मे डाल लेती है की उसे शर्म आ रही है, रोहित उसकी बात सुन कर रूम की लाइट ऑफ कर देता है और फिर निशा को लेकर बेड

पर लेट जाता है, और उसके गदराए जिस्म को सहलाते हुए,

रोहित- निशा तुम खुस तो हो ना

निशा- क्यो आपको ऐसा क्यो लग रहा है कि मे खुस नही हू

रोहित- नही वो बात नही है, क्या है ना मेरा छोटा सा घर है और फिर मेरा एक ही भाई है और छोटी बहन है बस इन्ही

लोगो के साथ हमे अपनी जिंदगी गुजारनी है, तुम दोनो से मिल चुकी हो तुम्हे कैसा लगा

निशा- पायल तो बहुत अच्छी है पर तुम्हारा भाई तो मुझे बहुत कमीना नज़र आता है

रोहित- क्यो उसने तुमसे कुछ उल्टा सीधा कहा क्या

निशा- नही कहा तो कुछ नही पर उसके चेहरे से ही शरारत नज़र आती है

रोहित- अरे वह तो अभी बच्चा है उसमे अकल ही कितनी है

निशा- कोई बच्चा नही है, तुम्हे किस आंगल से बच्चा नज़र आता है

रोहित- अरे वह ज़रूर तुमसे कुछ मज़ाक कर रहा होगा और तुमने उसे सीरीयस ले लिया

निशा- खेर छोड़िए वह सब बाते

रोहित- मुस्कुरा कर तो फिर अब क्या करू

निशा- मुस्कुरकर मुझे तो रवि नही तुम ही बच्चे नज़र आ रहे हो अब मे बताऊ कि क्या करो

रोहित- निशा को अपनी बाँहो मे भर कर अच्छा अभी देखो ये बच्चा क्या करता है और निशा को अपनी बाँहो मे भर

कर उसकी गदराई जवानी का रस पीना शुरू कर देता है

रवि- क्या दीदी तुमने दो मिनिट भी भाभी से बात नही करने दी

पायल- उसको खा जाने वाली नज़रो से देखती हुई क्या बात करना थी तुझे भाभी से

रवि- अब कुछ तो कहता ना उनकी शान मे

पायल- अरे तुझे ज़रा भी अकल नही है की आज उनकी सुहागरात है और रात के 11 बज रहे है

रवि- पायल की गदराई जवानी को देख कर, क्या होता है दीदी सुहागरात मे

पायल- रवि को घूर कर देखती हुई मुझे नही पता, जैसे तू कुछ जानता ही नही है

रवि- पायल के दूध को उसकी आँखो के सामने घूर कर देखता हुआ मुस्कुरा कर मे बताऊ दीदी

पायल- उसको घूर कर देखती हुई, चल अब जा तू अपने रूम मे, बड़ा आया मुझे बताने वाला, मे कोई बच्ची हू

रवि- दीदी आज तो मे यही सोना चाहता हू

पायल- पागल हो गया है यहा कहाँ सोएगा और अपने मन मे तुझे यहा सुलाया तो तू मेरी चूत मारे बिना नही रहेगा

रवि- क्यो इतना बड़ा बेड है मे भी एक कोने मे पड़ा रहूँगा, और पायल के बेड पर लेट जाता है

पायल- रवि को मारते हुए उठ यहा से और जा अपने रूम मे, तभी रवि पायल को एक दम से पकड़ कर अपने उपर खिच लेता

है और उसके होंठो को कस कर चूम लेता है, पायल उसके इस तरह की हरकत के लिए बिल्कुल तैयार नही थी और वह रवि के

उपर पड़ी हुई थी और रवि उसको अपनी बाँहो मे भर कर दबोच लेता है,

पायल- रवि छोड़ मुझे, कामीने तू अपनी बहन के साथ ऐसा कर रहा है

रवि- दीदी ई लोवे उ और पायल को पागलो की तरह चूमने लगता है, पायल पूरी कोशिश करके उससे छूटना चाहती थी लेकिन रवि ने उसको कस-कर अपने सीने से दबोच रखा था,

पायल- रवि मे कहती हू कि छोड़ दे आ, रवि छ्चोड़ मुझे

रवि- दीदी तुम्हारा जिस्म कितना गदराया हुआ है कितना अच्छा लग रहा है अपनी बाँहो मे भर कर

पायल- रवि छ्चोड़ मुझे, तुझे मेरी कसम है, और अपने मन मे कमीना छोड़ने के लिए मरा जा रहा है

रवि- पायल की कसम वाली बात सुन कर उसे छोड़ देता है और पायल बैठ कर हफने लगती है,

पायल- रवि अभी के अभी मेरे रूम से निकल जा और दुबारा मेरे रूम मे आने की कोशिश मत करना

रवि- अपने दोनो कन पकड़ कर, अच्छा बाबा सॉरी अब नही करूँगा, प्लीज़ तुम भी लेट जाओ मे तुम्हे टच नही करूँगा

बस तुम्हे देखता हुआ लेटा रहूँगा,

पायल- थोड़ा रिलॅक्स होते हुए उसके साइड मे लेट जाती है, पायल लेटे हुए रवि का चेहरा देखती है और रवि लेटे हुए अपनी

दीदी का मादक हुस्न देख-देख कर मज़ा लेता रहता है,

क्रमशः.........................