तीन घोड़िया एक घुड़सवार compleet

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:24

Rashmi achcha bhabhi ek bat punchu, aarti ha puncho, bhabhi kya aap ajay se chudna chahti ho sach sach batana bhabhi aapko meri kasam, aarti ab tune kasam de di hai to mai sach hi bolungi darasal tere muh se ajay ke land ki tariff sun kar mera bhi dil chudne ko karne laga hai lekin darti hu kahi kisi ko pata chal gaya to, are bhabhi aap kyo chinta karti ho kisi ko kuch pata nahi chalega, aarti lekin yah sab hoga kaise, rashmi aap kahe to mai ajay se bat karu, rashmi na baba na aise seedhe ajay se bat karna theek nahi hoga, to phir kaise kya kare bhabhi, ek kam karte hai kal rat ko tum apne room mai ajay ko bulakar usse chudai karwati rahna aur darwaja khula rakhna mai tum dono ko range hantho pakad lungi, phir ajay se hum dono milkar jo chahegi vo karwayege aur vo mana nahi kar payega, good idea bhabhi, aarti lekin tum ajay se kuch nahi kahna hamare plan ke bare mai. Aur phir aarti room se bahar aa gai.

Darasal aarti ki ichcha thi ki vah dono bhai bahan ke sath khud bhi nangi hokar chude aura jay bhi yaha chahta tha ki bhabhi aur bahan ko ek sath nangi karke bari bari se dono mastani ghodiyo ki chut mare , aarti agar seedhe seedhe rashmi ko bolti ki teeno milkar chudai kare to shayad vah ha nahi kah pati isliye aarti ko yah yojana banana padi. Aarti ne ajay ko apne room mai bulaya aur sari bate samjha di tab ajay ne apni bhabhi ke hontho ko chum liya, u r great bhabhi, bhabhi tum aur didi dono ek sath nangi kaisi lagogi mera to abhi se land akda ja raha hai, ajay hamare is plan ki ek kadi to mai tumse batana bhul gai, vah kya bhabhi, ajay is khel mai ham eek rishki kadam uthana hoga tabhi tum apni mummy ki chut mar paoge nahi to tumahari mummy tumse chudwane ke liye kabhi khud nahi kahegi, kyo ki bhale hi vah jan chuki hai ki tum usko chodna chahte ho lekin uske dil mai baithe dar ki vajah se vo tumse kabhi nahi kah payegi ki beta meri chut mar de, to phir hame kya karna hoga bhabhi,

Dekho ajay yah tabhi ho payega jab ghar me rat ko tumhare bhaiya aur papa na ho, lekin ye kaise hoga bhabhi, aarti uski bhi main eek tarkeeb soch li hai, tumhare bhaiya kal office ke kam se teen dino ke liye bahar ja rahe hai, ab tumhe kisi tarah apne papa ke rat ke doodh mai ek do neend ki goliya dalni hogi taki tumhare papa aaram se so jaye aur bilkul bhi risk na rahega, bhabhi ye kam aap mujh par chhod dijiye, ok ab kal jab tum rashmi ke room me jaoge to darwaja ke kundi kholkar or khidki khol kar khidki me kewak parda laga dena, aur room ki light on karke rashmi aur tum dono nange ho kar chudai karna, aur ha rashmi ko hamari planning ke bare mai pata nahi chalna chahiye ok bhabhi, bas yu samajh lo ab tumhari ma ki chut tumse jyada dur nahi hai, ajay oh bahbhi, aura jay ne apni bhabhi ke hontho ko chum liya aur uske mote doodh ko apne hantho se daba diya, ajay lekin bhabhi in sab mai mummy kaise mujhse chudegi, aarti vo sab tum vakt par chhod do, yah mera chalaya hua teer hai galti se agar tumhari mummy ki chut par lag gaya to samjho vah apni chut ka dard tumse hi mitwayegi. Oh bhabhi I love u meri jan aur ajay ne bhabhi ki chuchiyo ko kas kas kar masalna shuru kar diya, aur phir aarti room se bahar aa gai.

Subah subah rashmi, ajay, aarti aur geeta chai peete huye ek dusre se bate kar rahe the, aarti ne ishare se ajay ki aur prashnawachak tarike se apni garden hilai to ajay ne muskura kar ha me garden hila di tab aarti bhi mushkura kar rashmi ki aur dekhne lagi vah bilkul suhagrat me dulhan chudne ke bad jaisi dikhai deti hai aisi dikh rahi thi. Aarti ke chehre par ek halki si muskan phail gai. Rashmi nahane ke liye bathroom me ja chuki thi aur geeta bahar sabji wale se sabjiya lene chali gai, aarti kichan me khadi hokar kam kar rahi thi ajay peeche se jakar apni bhabhi ke mote chutado ko masalte huye uski chutado ki darar me apna hatho se sahlate huye chipak gaya..oh bhabhi rat ko didi ko chod kar maza aa gaya.

Aarti - rat ko apni bahan ko chod kar man nahi bhara dever ji jo apni bhabhi ki gand masal rahe ho. Oh bhabhi kya karu mere ghar ki teeno aurto ki gand ne mujhe pagal kar diya hai mera land in moti moti gand ko dekh kar baithne ka nam hi nahi leta hai. Aarti to phir dever ji aapne meri gand kyo nahi mari, are bhabhi gand to me apni mummy ki marunga uski gand dekh kar to khade khade apni ma ki gand me land phasane ka man karta hai, bat to sahi hai dever ji sasu ji ki gand itni moti hai ki koi bhi unki gand hi marna chahega, par bhabhi kya hamara plan success ho jayega. Dever ji bilkul success hoga bas tum kal ki planinig se pahle mere bataye anusar thodi taiyari aur kar lo, tab so feesdi tumhara kam ho jayega, vah kya bhabhi, aarti bas tum apni mummy ko thoda apni baho me lekar uski chut geeli kar do aur ek bar uske chut kisi bahane se sahla do to use bhi ishara mil jayega ki uska beta use chodna chahta hai.

Aur yah kam tumhare liye koi mushkil nahi hai kyo ki mene dekha hai tum to bat bat me apni mummy ke gathile badan ko daboch lete ho aur uske mote mote doodh me apna muh dal dete ho aur us samay sasu ji ki chut me bhi kide rengne lagte hai kyo ki unke chehre par chudaspan ke bhav ubhar aate hai, par bhabhi aapne yah kab notice kiya, are kal jab tum sophe par apni mummy se chipak kar apna muh uske doodh se ragad rahe the aur apna hath uski moti jangho par pher rahe the aur jab tum uth kar bahar gaye to mene dekha tumhare jane ke bad tumhari mummy apni chut ka pani apni sadi ke upar se hi poch rahi thi. Mujhe lagta hai tumhari mummy ne bhi tumhara land dekh liya hai isi liye jab tum usse chipakte ho to tumhare mardana aagosh me uski chut bhi geeli ho jati hai, tum ek bar kisi bahane se apni mummy se kuch der chipak jao meri guaranty hai vah garam ho jayegi phir tum apni mummy ki chut par kaise bhi kar ke apne hatho se uski chut par ek thapki mar do, vah samajh jayegi aura age ka rashta khud hi khol degi.

kramashah......................


rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:25

तीन घोड़िया एक घुड़सवार--7

गतान्क से आगे...................

तभी गीता की आवाज़ सुन कर अजय किचन से बाहर आकर सोफे पर बैठ गया और किताब पढ़ने लगा, उसकी भाभी किचन मे खाना बनाने लगी और गीता भी आकर सोफे पर बैठ गई. गीता टीवी ऑन कर के टीवी देखने लगी. गीता ने पिंक कलर की साडी और उसी रंग की मॅचिंग वाला लो कट स्लीवलेशस ब्लौज पहना हुआ था ब्लौज इतना झीना था कि उसके अंदर की सफेद रंग की ब्रा के कप और डोरी आराम से नज़र आ रही थी, गीता के छातियो से उसका आँचल थोड़ा सरका होने से उसके मसल मोटे मोटे दूध छलक कर उसकी गुलाबी चोली फाड़ कर बाहर आने को आमादा थे, गीता की साडी उसकी नाभि से चार अंगुल नीचे बँधी होने से उसकी बड़ी सी गहरी नाभि साफ दिखाई पड़ रही थी, गीता के पेट पर थोड़ी चर्बी होने के कारण उसका गोरा पेट नाभि सहित इतना उठाव मार रहा था कि अच्छे अच्छो के लंड को खड़ा होने पर मजबूर कर दे. कमर के नीचे उसके फैले हुए मोटे मोटे चूतादो और गुदाज मोटी मोटी जंघे देख कर हर कोई यह समझ जाए कि इस औरत को तृप्त करने के लिए इसकी दोनो जाँघो के बीच आकर तबीयत से कुटाई करना पड़े.

अजय अपनी मा को कनखियो से हसरत भरी निगाहो से देखने लगा उसके जहाँ मे वासना अपने शिखर पर थी यही वजह थी कि वह अपनी मा को एक गदराई हुई मस्त औरत की तरह देखने लगा और अपनी मा के गदराए हुए मस्ताने बदन को देख कर सोचने लगा कि एक बार अगर मम्मी पूरी नंगी होकर मुझसे चुदवा ले तो मे इसको रात भर नंगी कर के इसको हुमच हुमच के चोद्ता रहुगा. अब अजय से रहा नही जा रहा था और वह अपनी मा के गदराए सेक्सी बदन को छूने के लिए मचलने लगा और अपनी मा के बिल्कुल करीब आकर उसके गले मे अपना हाथ डाल कर बैठ गया, गीता ने भी उसके पीछे से हाथ डाल कर अपने से चिपका लिया, अजय मा तुम गुलाबी साडी ही ज़्यादातर पहना करो, गीता भला वो क्यो, अजय मा तुम गुलाबी साडी मे बहुत सुंदर लगती हो और गीता के गुलाबी गाल को अपने होंठो से चूम लिया, गीता अजय के गाल खिचते हुए मुस्कुरकर बहुत बड़ी बड़ी बाते करने लगा है, लगता है मेरा बेटा अब बड़ा हो गया है, अजय मा मे कितना ही बड़ा क्यो ना हो जाउ अपनी मा के लिए तो बच्चा ही रहूँगा और गीता की मोटी मोटी छातियो मे अपना मूह डाल कर उन्हे अपने मूह से दबाने लगा, गीता के बदन से आती खुश्बू से अजय मदहोश होने लगा और गीता के अधखुले दूध के कटाव पर अपने होठ और नाक रगड़ने लगा, और उसका लंड बिल्कुल मोटे डंडे की तरह पाजामे मे अकड़ गया, गीता यह बखूबी जानती थी कि अजय बच्चा होने का नाटक कर के उसके गदराए योवन का मज़ा ले रहा है और वह खुद बहुत समय से किसी मस्त लंड से चुदी नही थी तो उसे भी अपने बेटे की इन हर्कतो से एक असीम आनंद प्राप्त होता था, और उसकी चूत जल्दी ही अपने बेटे के स्पर्श से पानी पानी होने लगती थी,

गीता की नज़र भी अजय के पाजामे के अंदर उठे हुए लंड पर पड़ चुकी थी और उसकी मस्त चूत का दाना अपने बेटे के तगड़े लंड को देख कर कूदने लगा, गीता ने भी अजय के गालो को चूमते हुए अपनी छाती से भींच लिया, अजय अपनी मा की नंगी पीठ और मोटे चूतादो पर पीछे से हाथ फेरते हुए. मा तुमने क्या लगाया है तुम्हारा बदन कितना महक रहा है, गीता बेटे औरतो के सारे शरीर से ऐसी ही खुश्बू आती है, हाँ मा यह खुश्बू तो शुंगने मे बहुत अच्छी लग रही है, गीता तो बेटे सूंघ ले ना अपनी मा के अंगो की खुश्बू, और अजय का मूह फिर अपने मोटे दूध से सटा दिया, अजय का लंड अपनी मा की कमर मे ठोकर मार रहा था, गीता भी अजय के लंड की कठोरता को अपनी जाँघो पर महसूस कर रही थी और उसकी चूत ने उसकी पूरी पेंटी को गीला कर दिया था.

rajaarkey
Platinum Member
Posts: 3125
Joined: 10 Oct 2014 04:39

Re: तीन घोड़िया एक घुड़सवार

Unread post by rajaarkey » 03 Nov 2014 01:25

तभी उधर से आरती का आना हुआ और दोनो मा बेटे अलग हो गये, फिर गीता उठकर गल्लरी मे जाकर अपने दोनो हाथ रलिंग से टिका कर बाहर सड़क की ओर देखने लगी जो कि सोफे पर से नज़र आ रही थी, आरती अजय के पास आकर फुसफुसा कर बोली क्या हुआ देवेर जी कुछ बात बनी, अजय धीरे से क्या बताऊ भाभी मेने मा को गरम तो कर दिया था लेकिन उनके सोफे पर बैठे होने के कारण मे मा की चूत पर अपने हाथ की थपकी नही मार पाया और इतने मे आप आ गई, देखो मेरा डंडा केसा तना हुआ है, आरती ने अजय के लंड को अपने हाथो से दबाते हुए उसके कॅडॅक्पन का एहसास किया उसका लंड वाकई लोहे की मोटी राड जैसा तना हुआ था, तभी आरती के दिमाग़ मे एक आइडिया आया, अजय अभी बात नही बिगड़ी है तू एक कम कर देख अपनी मा को गॅलरी की ओर इशारा करते हुए जहाँ गीता गॅलरी पर हाथ रखे झुकी हुई थी और उसकी मोटी गंद गंद की दो फैले हुए पाट अलग अलग दिशाओ की ओर तने हुए थे, अजय अभी मेरे ख्याल से मम्मी जी की चूत पनिया चुकी है तू एक काम कर पीछे से जाकर अपने खड़े लंड का निशाना बिल्कुल अपनी मा की गंद के छेद मे लगा कर जैसे तू हमेशा अपनी मा से पीछे से चिपक जाता है वैसे ही चिपक जा फिर देख रिक्षन. अजय को आइडिया अच्छा लगा यू आर ग्रेट भाभी और आरती वापस किचन मे चली गई,

अजय सीधा अपनी मा के पीछे गया और अपने खड़ा लंड गीता की गंद की दरार का निशाना साधते हुए सीधे गीता के चूतादो से मा मा कहता हुआ चिपक गया और दोनो हाथो को आगे लेजाकर गीता की मोटी मोटी छातियो का पकड़ लेता है, गीता अचानक गंद मे गढ़ते हुए डंडे के आभास से सिहर जाती है, और अजय मा तुम यहा क्यो चली आई, गीता की चूत पानी पानी हो चुकी थी उसके मूह से आवाज़ नही निकल रही थी बस वह भी अपनी गंद पीछे अजय के लंड की ओर धकेल्ति हुई चुपचाप खड़ी रही, तभी अजय क्या हुआ मा क्या मुझसे नाराज़ हो गई हो, गीता पलट कर नही बेटा मे भला अपने प्यारे बेटे से क्यो नाराज़ होने लगी और अजय को अपने सीने से लगा लिया, अजय के लिए ये अच्छा मोका था उसने भी अपने खड़े लंड को सीधे अपनी मा की चूत से अपनी कमर आगे करते हुए सटा दिया जो सीधा गीता के फड़फडे दाने पर लगा और गीता के मूह से एक हल्की सी आह निकल गई और वह अजय को अपने से चिपका कर खूब चूमने लगी और कहने लगी मेरा प्यारा बेटा कितना बड़ा हो गया है अपनी मा के बराबरी पर आने लगा है, दोनो मा बेटे के चूत और लंड से चिकनाहट बहने लगी और करीब 2 मिनिट तक दोनो एक दूसरे के बदन को अपने बदन से दबा दबा कर मज़ा लेते रहे. तभी उधर से रश्मि का आना हुआ और गीता ने अजय को ढीला छोड़ दिया और फिर तीनो बालकनी मे खड़े खड़े बाते करने लगे.

आरती दोपहर को अजय के रूम मे जाकर क्या हुआ मेरे देवेर राजा कुछ बात बनी या नही. अजय अपनी भाभी को अपने गोद मे बैठाते हुए अपनी भाभी के मोटे मोटे गदराए दूध को दोनो हाथो से मसल्ते हुए अपनी भाभी के गोरे और गुलाबी गालो को चूमते हुए ओह भाभी क्या आइडिया दिया आप ने आज तो मज़ा आ गया, क्यो देवेर जी ऐसा क्या हो गया, अरे भाभी अगर मम्मी ने साडी ना पहनी होती तो आज मेरा लंड खड़े खड़े ही उसकी चूत और गंद दोनो मे घुस चुक्का होता, और आरती के दूध को कस कर दबा देता है, आरती सीसियाते हुए अजय के पाजामे मे अपना हाथ डाल कर उसके लंड को मसल्ने लगती है, मतलब देवेर जी जैसा मैने कहा था तुमने वैसा ही किया, हाँ भाभी मैने अपना खड़ा लंड सीधे मम्मी की मोटी गंद के छेद मे पेल दिया और मम्मी के आगे हाथ लेजा कर मम्मी के मोटे मोटे दूध को अपने हाथो मे भर लिया फिर क्या हुआ, फिर मम्मी सिसियाने लगी और अपनी गंद का प्रेसर मेरे लंड पर डालने लगी फिर आगे घूम कर उसने जैसे ही मुझे अपने सीने से लगाया मैने अपना लंड मम्मी की चूत मे सीधे अड़ा दिया मम्मी मुझे कस कर अपने बदन से चिपकाकर मेरे लंड की चुभन अपनी चूत पर काफ़ी देर तक महसूस करती रही फिर इतने मे रश्मि आ गई, वाह मेरे राजा मतलब एक शिकारी बेटे ने अपनी मा को अपने लंड के जाल मे फसा ही लिया, हाँ भाभी पर पता नही मम्मी को चोदने का मोका कब मिलेगा,

फिकर ना करो देवेर जी अब तुम्हारी मम्मी जल्दी ही तुम्हे पूरी नंगी होकर अपनी चूत मे तुम्हे समा लेगी, बस इंतजार करो, भाभी यू आर वेरी स्वीट और अजय ने अपनी भाभी की मोटी चुचिया मसलते हुए उसके सर के पीछे अपना हाथ ले जाकर अपनी भाभी के चेहरे को अपने चेहरे के पास लाकर, भाभी अपनी जीभ मुझे दिखाओ, आरती अजय की इच्छा समझ गई और उसने अपनी रसीली जीभ जैसे ही अपने मूह के बाहर निकली अजय अपनी भाभी की रसीली जीभ को अपने मूह मे भरकर उसका रस पीने लगा और कस कस के अपनी भाभी की चुचियो और चूतादो को दबाने लगा. दो मिनिट तक भाभी की जीभ चूसने के बाद आरती की चूत मे पानी आ गया, अरे देवेर जी तुम चाहे जब मुझे गरम कर देते हो और फिर हम घरवालो के डर से चुदाई भी नही कर पाते और मैं तड़पति रह जाती हू. अरे भाभी लाओ मे तुम्हारी चूत चाट कर तुम्हे थोड़ा आराम देता हू जल्दी से अपनी साडी उठाओ मे 5 मिनिट के लिए दरवाजा बंद कर देता हू,