हिंदी सेक्स कहानियाँ - गर्ल्स स्कूल (girls school sex story)

Discover endless Hindi sex story and novels. Browse hindi sex stories, adult stories ,erotic stories. Visit psychology-21.ru
User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

हिंदी सेक्स कहानियाँ - गर्ल्स स्कूल (girls school sex story)

Unread post by Fuck_Me » 15 Aug 2015 03:40

Image

भिवानी जाने के लिए जैसे तैसे उसने बस पकड़ी, भीड़ ज़्यादा होने की वजह से वो बस में पिछे जाकर खड़ा हो गया।
शमशेर सिंह मन ही मन बहुत खुश था. ९ साल की सर्विस में पहली बार उसकी पोस्टिंग गर्ल स्कूल में हुई थी. ६ फीट से लंबा कद, कसरती बदन रौबिला चेहरा, उसका रौब देखते ही बनता था. ३२ का होने के बावजूद उसने शादी नही की थी. ऐसा नही था की उसको किसी ने दिल ही ना दिया हो, क्या शादी-शुदा क्या कुँवारी, शायद ही कोई ऐसी हो जो उसको नजर भर देखते ही मर ना मिटे, पिछले स्कूल में भी २-४ मॅडमो को वो अपनी रंगिनियत के दर्शन करा चुका था. पर आम राय यही थी की वो निहायत ही सिन्सियर और सीरीयस टाइप का आदमी है. असलियत ये थी की वो कलियों का रसिया था, फूलों का नही. और कलियों का रस पीने का अवसर उसको ६-७ साल से नही मिला था. यही वजह थी की आज वो खुद पर काबू नही कर पा रहा था.
उसका इंतज़ार ख़तम होने ही वाला था
अचनाक उसके अग्रभाग में कुछ हल-चल होने से उसकी तंद्रा भंग हुई. २६-२७ साल की एक औरत का पिछवाड़ा उसके लिंग से जा टकराया. उसने उस औरत की और देखा तो औरत ने कहा, "सॉरी, भीड़ ज़्यादा है"
"इट्स ओक", शमशेर ने कहा और थोड़ा पिछे हो गया
औरत पढ़ी लिखी और सभ्य मालूम होती थी. रंग थोड़ा सांवला जरूर था पर यौवन पूरे शबाब पर था. वो भी शमशेर को देखकर अट्रॅक्ट हुए बिना न रह सकी. कनखियों से बार-बार पिछे देख लेती.
तभी बस ड्राइवर ने अचानक ब्रेक लगा दिए जिससे शमशेर का बदन एक-दम उस औरत से जा टकराया. वो गिरने को हुई तो शमशेर ने एक हाथ आगे ले जाकर उसको मजबूती से थाम लिया. किस्मत कहें या दुर्भाग्य, शमशेर के हाथ में उसका दायां स्तन था
जल्दी ही शमशेर ने सॉरी बोलते हुए अपना हाथ हटा लिया, पर उस औरत पर जो बीती उसको तो वो ही समझ सकती थी.
"उफ, इतने मजबूत हाथ!" सोचते हुए औरत के पुरे बदन में सिहरन दौड़ गयी
उसके एक बार छुने से ही उसकी पैंटी गीली हो गयी. वो खुद पे शर्मिंदा सी हुई पर कुछ बोल ना सकी
उधर शमशेर भी ताड़ गया की वो कुँवारी है. इतना कसा हुआ बदन शादीशुदा का तो हो नही सकता. उसने उससे पूछ ही लिया, जी क्या मैं आपका नाम जान सकता हूँ?"
थोड़ा सोचते हुए उसने जवाब दिया,
"जी मेरा नाम अंजलि है"
शमशेर: कहाँ तक जा रही हैं आप?
अंजलि: जी भिवानी से आगे लोहरू गाँव है, मैं वहाँ गर्ल स्कूल में प्रिन्सिपल हूँ
सुनते ही शमशेर चौंक गया. यही नाम तो बताया गया था उसे प्रिन्सिपल का पर कुछ सोचकर उसने अपने बारे में कुछ नही बताया
अजीब संयोग था, अंजलि को पकड़ते ही वो भाँप गया था की यहाँ चान्स हैं
धीरे-धीरे बस में भीड़ बढ़ने लगी और अंजलि ने पिछे घूम कर शमशेर की और मुँह कर लिया. तभी एक सीट खाली हुई पर जाने क्यूँ अंजलि को शमशेर से दूर जाना अच्छा नही लगा उसने सीट एक बुढ़िया को ऑफर कर दी और खुद वही खड़ी रही
अंजलि,"कहाँ खो गये आप"
शमशेर: अजी जिन बातों का समय आने पर खुद ही पता चल जाना है उनके बारे में क्या बात करनी आप अपनी बताइए, आपने शादी क्यूँ नही की?
अंजली कुछ देर सोचते हुए, है तो पर्सनल मेटर पर मैं नही समझती की आपको बताने से कोई नुकसान होगा आक्च्युली मेरी छोटि बहन ६ साल पहले किसी लड़के के साथ भाग गयी थी. बस तब से ही सब कुछ बिखर गया पापा पहले ही नही थे, मम्मी ने स्यूसाइड कर लिया... कहते हुए अंजलि फफक पड़ी. मुझे नही पता मेरी गलती क्या है, पर अब मैने अकेले ही जीने की सोच ली है
शमशेर बुरी तरह विचलित हो गया उसे कहने को कुछ नही मिल रहा था फिर धीरे से बोला,"सॉरी अंजलि जी" मैने तो बस यूँही पूछ लिया था
अंन्जलि ने उसके कंधे पर सर रखा और सुबकने लगी
शमशेर को और कुछ नही सूझा तो वो बोला मुझसे नही पूछेंगी क्या मैने शादी क्यूँ नही की!
अंजलि की आँखों में अचानक जैसे चमक आ गयी और हड़बड़ा कर बोली,"
क्या आपने भी... मतलब क्या आपकी शादी...क्यूँ नही की आपने
शमशेर: कुछ फिज़िकल प्राब्लम है?
अंजलि जैसे अपने गुम को भूल गयी थी,"क्या प्राब्लम है"
शमशेर ने मज़ाक में कहा,"बताने लायक नही है मेडम"
अंजलि: क्यूँ नही है, क्या हम दोस्त नही हैं?
शमशेर: जी वो एररेक्टिओं में प्राब्लम है
अंजलि एररेक्टिओं का मतलब अच्छि तरह समझती थी की वो अपना लंड खड़ा ना हो सकने के बारे में कह रहा है पर ये तो झूठ था, वो खुद महसूस कर चुकी थी पर वो कह क्या सकती थी? सो चुप रही
शमशेर: क्या हुआ? मैने तो पहले ही कहा था की बताने लायक नही है
अंजलि: (शरमाते हुए) मुझे नही पता, मुझे नींद आ रही है, क्या मैं आपकी गोद में सर रखकर सो जाउ
शमशेर: हां हां क्यूँ नही और उसने अंजलि को अपनी गोद में लिटा लिया
अंजलि ने वही किया, अपने हाथ को सर के नीचे रख लिया और धीरे-धीरे हाथ हिलाने लगी ऐसा करने से उसने महसूस किया की शमशेर का लंड अपने विकराल आकर में आता जा रहा है अंजलि सोच रही थी की उसने झूठ क्यूँ बोला. उधर शमशेर ने भी सोने की आक्टिंग करते हुए अपने हाथ धीरे-धीरे अंजलि के कंधे से सरका कर उसकी मांसल तनी हुई चूंचियों पर ले गया दोनो की उत्तेजना बढ़ती जा रही थी. जैसे ही शमशेर आगे बढ़कर उसकी चूत पर हाथ ले जाने ही वाला था की अचानक अंजलि उठी और बोली,"झुठे, तुमने झूठ क्यूँ बोला" उसकी आवाज में मानो नाराजगी नही, एक बुलावा था; सेक्स के लिए
शमशेर आँखें बंद किए हुए ही बोला,"क्या झूठ बोला मैने आपसे"
अंजलि: यही की एररेक्ट नही होता.
शमशेर: तो मैने झूठ कहाँ बोला? हां नही होता
अंजलि: मैने चेक किया है वो धीरे-धीरे बोल रही थी
शमशेर: क्या चेक किया है आपने
अंजलि उसके बाद कुछ बोलने ही वाली थी की अचानक बस बंद हो गयी कंडक्टर ने बताया की बस खराब हो गयी है आगे दूसरी बस मैं जाना पड़ेगा
आमतौर पर इस सिचुयेशन में ख़ासकर अकेली लेडीस की हालत खराब हो जाती है
पर अंजलि ने चहकते हुए कहा,"अब मैं कैसे जाउंगी"
शमशेर," मैं हूं ना""चलो समान उतारो"
बस से उतारकर दोनों सड़क के किनारे खड़े हो गये अंजलि से कंट्रोल नही हो रहा था वो सोच रही थी इतना कुछ होने के बाद भी ये पता नही किस बात का इंतज़ार कर रहा है एक-एक करके सभी लोग चले गये लेकिन ना तो शमशेर और ना ही अंजलि को जाने की जल्दी थी दोनों चाह कर भी शुरुआत नही कर पा रहे थे फिर ड्राइवर और कंडक्टर भी चले गये तो वहाँ सब सुनसान नजर आने लगा
अचानक अंजलि ने चुप्पी तोड़ी,"अब क्या करेंगे?"
शमशेर: बोलो क्या करें?
अंजलि: अरे तुम्ही तो कह रहे थे,"मैं हूँ ना" अब क्या हुआ?
शमशेर चलना तो नही चाहता था पर बोला"ठीक है", अब की बार कोई भी वेहिकल आएगा तो लिफ्ट ले लेंगे
अंजलि: मैं तो बहुत तक गयी हूँ. क्या कुछ देर बस में चलकर बैठें? मुझे प्यास भी लगी है
वो दोनों जाकर बस में बैठ गये फिर अचानक शमशेर को कोल्ड्रींक याद आई जो उसने बैग में रखी थी वो अपना रंग दिखा सकती थी शमशेर ने कहा,"प्यास का तो मेरे पास एक ही इलाज है
अंजलि:क्या?
शमशेर: वो कोल्ड्रींक!
अंजलि: अरे हां...थैंक्स... उससे प्यास मिट जाएगी.. लाओ प्लीज!
शमशेर ने बैग से निकाल कर वो बोतल अंजलि को दे दी. अंजलि ने सारी बोतल खाली कर दी, १०-१५ मीं. में ही गोली अपना रंग दिखाने लगी थी अंजलि ने शमशेर से कहा," क्या हम यही सो जायें सुबह चलेंगे
अंजलि पर नशे का सुरूर सॉफ दिखाई दे रहा था अब शमशेर को लगा बात बढ़ानी चाहिए. वो बोला," आप बस में क्या कह रही थी"
अंजलि,"मुझे आप क्यू कहते हो तुम? मुझे अंजलि कहो ना
शमशेर: वो तो ठीक है पर आप प्रिन्सिपल हो
अंजलि: फिर आप, मैं कोई तुम्हारी प्रिन्सिपल थोड़े ही हूँ, मुझे अंजलि कहो ना प्लीज.. नही अंजू कहो और हां तुमने झूठ क्यूँ बोला की एररेक्टिओं की प्राब्लम है
शमशेर: तुम्हे कैसे पता की मैने झूठ बोला
अंजलि: मैने चेक किया था ये
शमशेर: ये क्या!
अंजलि खूब उत्तेजित हो चुकी थी उसने कुछ सोचा और शमशेर की पैंट को आगे से हाथ लगाकर बोली,"ये"... "अरे तुम्हारी तो जीप खुली है. हा हा हा
शमशेर को पता था वो नशे में है वो बोला," क्या तुम्हे नींद नही आ रही?
आओ मेरी गोद में सिर रख लो!
अंजलि: नही मुझे देखना है ये कैसे खड़ा नही होता, अगर मैं इसको खड़ा कर दूं तो तुम मुझे क्या दोगे
शमशेर कुछ नही बोला
अंजलि: बोलो ना...
शमशेर: जो तुम चाहोगी!
अंजलि: ओके निकालो बाहर!
शमशेर: क्या निकालू?
अंजलि: छि-छि नाम नही लेते, ठीक है मैं खुद निकाल लेती हूँ, कहते हुए वो भूखी शेरनी की तरह शमशेर पर टूट पड़ी
शमशेर तो जैसे इसी मौके के इंतज़ार मैं था उसने अंजलि को जैसे लपक लिया
नीचे सीट पर गिरा लिया और उसे कपड़ों के उपर से ही चूमने लगा अंजलि बदहवास हो चुकी थी उसने शमशेर का चेहरा अपने हाथों में लिया और उसके होंठों को अपने होठों में दबा लिया शमशेर के हाथ उसकी चूंचियों पर कहर ढा रहे थे एक-एक करके वह दोनो चूंचियों को बुरी तरह मसल रहे थे अंजलि अब उसकी छाति सहलाते हुए बड़बड़ाने लगी थी..ओह लव मि प्लीज़.. लव मि... आइ कांट वेट.. आइ कांट लिव.. विदाउट यू जान..
सुनसान सड़क पर खड़ी बस में तूफान आया हुआ था एक-एक करके जब शमशेर ने अंजलि का हर कपड़ा उसके शरीर से अलग कर दिया तो वो देखता ही रह गया स्वर्ग से उतरी मेनका जैसा जिस्म... सुडौल चुचियाँ... एक दम तनी हुई सुराहिदार चिकना पेट और मांसल जांघें... चूत पर एक भी बाल नही था उसकी चूत एक छोटी सी मछली जैसी सुंदर लग रही थी उसने दोनों चूंचियों को दोनों हाथों से पकड़ कर उसकी चूत पर मुँह लगा दिया अंजलि उबल पड़ी साँसे इतनी तेज़ चल रही थी जैसे अभी उखड़ जाएँगी पहले पहल तो उसे अजीब लगा अपनी चूत चटवाते हुए पर बाद में वह खुद अपनी गांड उछाल-उछाल कर उसकी जीभ को अपने योनि रस का स्वाद देने लगी
शमशेर ने अपनी पैंट उतार फेकी और अपना ८.५ इंच लंबा और करीब ४ इंच मोटा लंड उसके मुँह में देने लगा पर अंजलि तो किसी जल्दबाज़ी में थी. बोली,"प्लीज़ घुसा दो ना मेरी चूत में प्लीज़ शमशेर ने भी सोचा अब तो कयी सालों का साथ है ओरल बाद में देख लेंगे
उसने अंजलि की टाँगों को अपने कंधे पर रखा और अपने लंड का सूपाड़ा अंजलि की चूत पर रखकर दबाव डाला पर वो तो बिल्कुल टाइट थी शमशेर ने उसकी योनि रस के साथ ही अपना थूक लगाया और दोबारा ट्राइ किया अंजलि चिहुँक उठी सूपाड़ा योनि के अंदर था और अंजलि की हालत आ बैल मुझे मार वाली हो रही थी उसने अपने को पीछे हटाने की कोशिश की लेकिन उसका सिर खिड़की से लगा था अंजलि बोली,"प्लीज़ जान एक बार निकाल लो फिर कभी करेंगे पर शमशेर ने अभी नही तो कभी नही वाले अंदाज में एक धक्का लगाया और आधा लंड उसकी चूत में घुस गया अंजलि की चीख को सुनके अपने होटो से दबा दिया कुछ देर इसी हालत में रहने के बाद जब अंजलि पर मस्ती सवार हुई तो पूछो मत उसने बेहयाई की सारी हदें पर कर दी वह सिसकारी लेते हुए बड़बड़ा रही थी. "हाय रे, मेरी चूत...मज़ा दे दिया... कब से तेरे लंड... की .. प .. प्यासी थी
चोद दे जान मुझे... आ. आ कभी मत निकलना इसको ... मेरी चू...त आ उधर शमशेर का भी यही हाल था उसकी तो जैसे भगवान ने सुन ली जन्नत सी मिल गयी थी उसको.. उछल-उछल कर वो उसकी चूत में लंड पेले जा रहा था की अचानक अंजलि ने ज़ोर से अपनी टांगे भींच ली उसका सारा बदन अकड़ सा गया था उसने उपर उठकर शमशेर को ज़ोर स पकड़ लिया उसकी चूत पानी छोडती ही जा रही थी उससे शमशेर का काम आसान हो गया अब वो और तेज़ी से धक्के लगा रहा था पर अब अंजलि गिड-गिडाने लगी प्लीज़ अब निकल लो सहन नही होता
थोड़ी देर के लिए शमशेर रुक गया और अंजलि की होटो और चूंचियों को चूसने लगा वो एक बार फिर अपने चूतड़ उछलने लगी इस बार उसने अंजलि को उल्टा लिटा लिया अंजलि की गांड सीट के किनारे थी और उसकी मनमोहक चूत बड़ी प्यारी लग रही थी अंजलि के घुटने ज़मीन पर थे और मुँह खिड़की की और इस पोज़ में जब शमशेर ने अपना लंड अंजलि की चूत में डाला तो एक अलग ही आनंद प्राप्त हुआ अब अंजलि को हिलने का अवसर नही मिल रहा था पर मुँह से मादक सिसकारियाँ निकल रही थी हर पल उसे जन्नत तक लेकर जा रहा था
इस बार करीब २० मिनट बाद वो दोनों एक साथ झडे और शमशेर उसके उपर ढेर हो गया कुछ देर बाद वो दोनों उठे लेकिन अंजलि उससे नज़रें नही मिला पा रही थी प्यार का खुमार जो उतार गया था उसने जल्दी से अपने कपड़े पहने और एक सीट पर जाकर बाहर की और देखने लगी शमशेर को पता था की क्या करना है वो उसके पास गया, और आके पास बैठकर बोला... आइ लव यू अंजलि. अंजलि ने उसकी छाति में मुँह छिपा दिया और सुबकने लगी ये नही पता.. पश्याताप के आँसू थे या मंज़िल पाने की खुशी के....
एक दूसरे की बाहों में लेटे-लेटे कब सुबह हो गयी पता ही नही चला. सुबह के ५ बाज चुके थे अभी वो भिवानी से २० मिनट की दूरी पर थे जबकि अंजलि को आगे लोहरू तक भी जाना था जाना तो शमशेर को भी वही था पर अंजलि को नही पता था की उनकी मंज़िल एक ही है वो तो ये सोचकर मायूस थी की उनका अब कुछ पल का ही साथ बाकी है रात को जिसने उसको पहली बार औरत होने का अहसास कराया था और जिसकी छाती पर उसने आँसू बहाए थे उससे बात करते हुए भी वो कतरा रही थी
अंत में शमशेर ने ही चुप्पी तोड़ी,"चलें"
अंजलि: जी... आप कहाँ तक चलेंगे?
शमशेर: तुम्हारे साथ... और कहाँ?
अंजलि: नही!...म..मेरा मतलब है ये पासिबल नही है
शमशेर: भला क्यूँ?
अंजलि: वो एक गाँव है और सबको पता है की मैं कुँवारी हूँ वहाँ लोग इस बात को हल्के से नही लेंगे की मेरे साथ कोई मर्द आया था फिर वहाँ मेरी इज़्ज़त है.
शमशेर ने चुटकी ली," हां, आपकी इज़्ज़त तो मैं रात अच्छि तरह देख चुका हूँ
अंजलि बुरी तरह झेंप गयी काटो तो खून नही तभी बस आने पर वो उसमें बैठ गये अंजलि ने फिर उसको टोका,"बता दीजिए ना की आप क्या करते हैं, कहाँ रहते हैं कोई कॉंटॅक्ट नंबर
शमशेर ने फिर चुटकी ली,"अब तो आपके दिल मैं रहता हूँ आपसे प्यार करता हूँ, और आपका कॉंटॅक्ट नंबर ही मेरा कॉंटॅक्ट नंबर. है
अंजलि: मतलब आप बताना नही चाहते ये तो बता दीजिए की जा कहाँ रहे हैं? तभी भिवानी बस स्टॉप पर पहुँच कर बस रुक गयी अंजलि और शमशेर बस से उतर गये अंजलि ने हसरत भारी निगाह से शमशेर को आखरी बार देखा और लोहरू की बस में बैठ गयी उसकी आँखो में तब भी आँसू थे
कुछ देर बाद ही वह चौक गयी जब शमशेर आकर उसकी साथ वाली सीट पर बैठ गया
अंजलि को भी अब अपनी ग़लती का अहसास हो रहा था ये आदमी जिसको उसने स्वयं को सौप दिया, ना तो अपने बारे में कुछ बता रहा है ना ही उसका पीछा छोड. रहा है उसकी साथ आने वाली हरकत तो उसको बचकानी लगी कहीं ये उसको ब्लॅकमेल करने की कोशिश तो नही करेगा वो सिहर गयी वो उठी और दूसरी सीट पर जाकर बैठ गयी
शमशेर उसका डर समझ रहा था वो अचानक ही बस से उतार गया और बिना मुड़े उसकी आँखों से गायब हो गया
अंजलि ने राहत की साँस ली. पर उसको दुख भी था की उस मर्द से दोबारा नही मिल पाएगी सोचते-सोचते लोहरू आ गया और वो अनमने मन से स्कूल में दाखिल हो गयी
ऑफीस मैं बैठे-बैठे वो शमशेर के बारे मैं ही सोच रही थी, जब दरवाजे पर अचानक शमशेर प्रकट हुआ,"मे आई कम इन मेम?"
अंजलि अवाँक रह गयी, मुश्किल से उसने अपने आप पर कंट्रोल किया और बाकी स्टाफ लॅडीस को बाहर भेजा
अंजलि(धीरे से) आप क्या लेने आए हो यहाँ प्लीज मुझे माफ़ कर दीजिए और यहाँ से चले जाइए
शमशेर: रिलेक्स मेम! आइ'एम हियर फॉर माइ ड्यूटी. आइ हॅव टू जायन हियर अस साइंस टीचर. प्लीज़ लेट मे जायन आंड ऑब्लाइज
अंजलि अपनी कुर्सी से उछल पड़ी,"वॉट?" ख़ुशी और आशचर्य का मिला जुला रूप उसके "वॉट" में था पहले तो उसको यकीन ही नही हुआ पर औतॉरिटी लेटर को देखकर सारा माजरा उसकी समझ में आ गया पर अपनी ख़ुशी को दबाते हुए उसने पिओन को बुलाकर रिजिस्टर निकलवाया और शमशेर को जाय्न करा लिया फिर अपनी झेंप छिपाते हुए बोली, मिस्टर. शमशेर आप १० क्लास के इंचार्ज
है पर पीरियड्स आपको ६थ से १०थ तक सभी लेने होंगे हमारे यहाँ पर मैथ्स का टीचर नही है अगर आप ८थ और १०थ की एक्सट्रा क्लास ले सकें तो मेहरबानी होगी
शमशेर: थॅंक्स मेम पर एक प्राब्लम है?
अंजलि: जी बोलिए!
शमशेर: जी मैं कुँवारा हूँ....मतलब मैं यहाँ अकेला ही रहूँगा. अगर गाँव में कहीं रहने का इंतज़ाम हो जाए तो...
अंजलि उसको बीच में ही टोकते हुए बोली मैं पिओन को बोल देती हूँ देखते हैं हम क्या कर सकते हैं
शमशेर (आँख मरते हुए) थॅंक्स मेम!
अंजलि उसकी इस हरकत पर मुस्कुराए बिना नही रह सकी
शमशेर ने रिजिस्टर उठाए और १०थ क्लास की और चल दिया...
शमशेर क्लास तक पहुँचा ही था की एक लड़की दौड़ती हुई आई और बोली, गुड
मॉर्निंग सर. लड़की १०थ क्लास की लगती थी. शमशेर ने उसको गौर से उपर से नीचे तक देखा. क्या कोरा माल था हाए! भारी-भारी अमरूद जैसी गोल-गोल चुचियाँ, गोल मस्त गांड., रसीले गुलाबी अनछुए होंट, लगता था मानो भगवान ने फ़ुर्सत से बनाया है. और बोल भी उतना ही मधुर," सर, आपको बड़ी मेम बुला रही हैं
शमशेर," चलो बेटा"
"सर, क्या आप हमें भी पढ़ाएँगे?"
"कौनसी क्लास में हो बेटा? क्या नाम है?"
"सर मेरा नाम वाणी है और मैं ८वी में हूँ"
"क्या... ८वी में!" मैं तपाक ही गया था जैसे उस्स पर! ८वी का ये हाल है
तो उपर क्या होगा." हां बेटा, तुम्हे मैं साइंस पढ़ाउंगा"
कहकर मैं ऑफीस की तरफ चल पड़ा. वाणी मुझे मूड-मूड कर देखती जा रही थी
ऑफीस में गया तो अंजलि अकेली बैठी थी मैने जाते ही जुमला फेका,"यस, बड़ी मेम"
अंजलि सीरीयस थी," सॉरी शमशेर...आइ मीन शमशेर जी मैं आपको ग़लत समझ बैठी थी पर आपने मुझे बताया क्यूँ नही."
शमशेर: बता देता तो तुम्हे अपना थोड़े ही बना पता
अंजलि के सामने रात की बात घूम गयी अब उसको ये भी अहसास हो गया की शमशेर
ने रात को चुदाई में पहल क्यूँ नही की फिर मीठी आवाज़ में बोली," शमशेर
जी, हम स्कूल में ऐसे ही रहेंगे मैने आपके रहने खाने का मॅनेज करने को बोला है हो सका तो मेरे घर के आसपास ही कोशिश करूँगी.
शमशेर: अपने घर में क्यूँ नही?
अंजलि: अरे मैं भी तो किराए पर ही रहती हूँ हालाँकि वहाँ नीचे २ कमरे खाली हैं पर गाँव का माहौल देखते हुए ऐसा करना ठीक नही है लोग तरह-तरह की बातें करेंगे
शमशेर: बड़ी मेम, प्यार किया तो डरना क्या?
अंजलि: ष्ह..ह! प्लीज़.... खैर मैने आपको कुछ ज़रूरी बातों पर डिसकस करने के लिए बुलाया है
शमशेर: जी बोलिए!
अंजलि: आपने देखा भी होगा यहाँ पर कोई भी मेल टीचर या स्टूडेंट नही है
शमशेर: क्या मैं नही हूँ?
अंजलि: अरे आप अभी आए हो सुनिए ना!
शमशेर: जी सुनाए!
अंजलि: लड़कियाँ लड़कों के बगैर काफ़ी उद्दंड हो जाती हैं ज़रा भी ढिलाई बरतने पर वो अश्लीलता की हदों को पार कर जाती हैं इसीलिए उनको डिसिप्लिन में रखने के लिए सखतायी बहुत ज़रूरी है मैने गाँव वालों को विस्वास में ले रखा है आप उन्हे जो भी सज़ा देनी पड़े पर डिसिप्लिन नही टूटना चाहिए
वैसे भी यहाँ लड़कियाँ उमर में काफ़ी बड़ी हैं १०+२ में तो एक लड़की मुझसे ५ साल छ्होटी है बस
शमशेर मॅन ही मॅन उछल रहा था पर अपनी ख़ुसी छुपाकर बोला, ओके बड़ी मॅम! मैं संभाल लूँगा!
अंजलि: प्लीज़ आप ऐसे ना बोलिए!
शमशेर: ओक अंजू! सॉरी मॅम!
अंजलि मुस्कुरा दी!
"आप एक बार स्कूल का राउंड लगा लीजिए!"
"ओक" कहकर शमशेर राउंड लगाने के लिए निकल गया अंजलि भी उसके साथ थी. एक क्लास में उसने देखा, २ लड़कियाँ मुर्गा सॉरी मुर्गी बनी हुई थी गॅंड उपर उठाए दोनो ने शमशेर को देखा तो शर्मा कर नीचे हो गयी नीचे होते ही मेडम ने गांड पर ऐसी बेंट जमाई कि बेचारी दोहरी हो गयी एक की जाँघो से सलवार फटी पड़ी थी शमशेर के जी में आया जैसे वो अपना लंड उस फटी सलवार में से ही लड़की की गांड में घुसा दे सोचते ही उसका लंड पैंट के अंदर ही फुंकारने लगा
उसने अंजलि से पूछा," मॅम, किस बात की सज़ा मिल रही है इन्हे?"
अंदर से मॅम ने आकर बताया," अजी, दोनु आपस मे लडन लग री थी भैरोइ. सारा दिन कोए काम नही करना, गॅंड मटकंडी हांडे जा से"
उसकी बात सुनकर शमशेर हक्का बक्का रह गया उसने अंजलि की और देखा लेकिन वो आगे बढ़ गयी
आगे चल कर उसने बताया ये इसी गाँव की है सरपंच की बहू है बहुत बदला पर ये नही सुधरी बाकी टीचर्स अच्च्ची हैं"
स्कूल का राउंड लगाकर शमशेर वापस ऑफीस में आ गया लंच हो चुका था और चाय बनकर आ गयी थी अंजलि ने सभी टीचर्स से शमशेर का परिचय करवाया पर उसको तो लड़कियों से मिलने की जल्दी थी जल्दी जल्दी चाय पीकर स्कूल देखने के बहाने बाहर चला आया...
घूमता फिरता १०थ क्लास में पहुँच गया लंच होने की वजह से वहाँ सिर्फ़ २ लड़कियाँ बैठी थी और कुछ याद कर रही थी एक तो बहुत ही सुंदर थी. जैसे यौवन ने अभी दस्तक दी ही हो चेहरे पर लाली, गोल चेहरा और... ज़्यादा क्या कहें कुल मिलकर सेक्स कि प्रतिमा थी शमशेर को देखते ही नमस्ते करना तो दूर उल्टा सवाल करने लगी," हां, क्या काम है?" शमशेर ने मुस्कुराते हुए पूछा, क्या नाम है तुम्हारा?" वह तुनक गयी, "क्यूँ सगाई लेवेगा के?"
तेरे जैसे शहरा के बहुत हीरो देख रखे हैं आ गया लाइन मारन" जाउ के मेडम के पास" शमशेर को इस तीखे जवाब की आशा ना थी फिर भी वो मुस्कुराते हुए ही बोला," हां जाओ, चलो मैं भी चलता हूं." ये सुनते ही वो गुस्से से लाल हो गयी और प्रिन्सिपल के पास जाने के लिए निकली ही थी कि सामने से वाणी और उसकी दोस्त सामने से आ गयी दूसरी लड़की ने कहा," गुड मॉर्निंग सर, सस्स...सर? कौन सर?" वाणी ने जवाब दिया,"अरे दीदी ये हमारे नये सर हैं, हमें साइंस पढ़ाएँगे" इतना सुनते ही उस लड़की का रंग सफेद पड़ गया उसकी शमशेर की और मुँह करने की हिम्मत ही ना हुई और वो खड़ी खड़ी काँपने लगी वो रो रही थी शमशेर ने पूछा," क्या नाम है तुम्हारा?" वो बोली," सस्स..सॉरी स..सर." शमशेर ने मज़ाक में कहा," सॉरी सर... बड़ा अच्छा नाम है तभी बेल हुई और शमशेर हंसते हुए वहाँ से चला गया
.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.

User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

Re: हिंदी सेक्स कहानियाँ - गर्ल्स स्कूल (girls school sex st

Unread post by Fuck_Me » 15 Aug 2015 03:40

दिशा को समझ नही आ रहा तहा वो क्या करे अंजाने में ही सही उसने सर के साथ बहुत बुरा सलूक किया था वैसे वो बहुत इंटेलिजेंट लड़की थी, पर ज़रा सी तुनक मिज़ाज थी गाँव के सारे लड़के उसके दीवाने थे पर उसने कभी अपनी नाक पर मक्खि तक नही बैठने दी गलियों से गुज़रते हुए लड़के उस पर फ़िकरे कसते थे उसका जवानी से लबरेज एक-एक अंग इसके लिए ज़िम्मेदार था उसका रंग एकदम गोरा था छातिया इतनी कसी हुई थी की उनको थामने के लिए ब्लाउस की ज़रूरत ही ना पड़े लड़के उस पर फ़िकरे कसते थे की जिस दिन इसने अपना नंगा जिस्म किसी को दिखा दिया वो तो हार्ड अटेक से ही मर जाएगा जब वो चलती थी तो उसके अंग-अंग की गति अलग-अलग दिखाई पड़ती थी गॅंड को उसके कमीज़ से इतना प्यार था की जब भी वो उठती थी उसकी गॅंड कमीज़ को अपनी दरार में खींच लेती आए हाए... लड़के भी क्या ग़लत कहते थे, बस ऐसा लगता था की जैसे उसके बाद तो दुनिया ही ख़तम हो जाएगी पिछले हफ्ते ही उसने १८ पुरा किए था
लड़कों से तंग दिशा ने अपना गुस्सा बेचारे सर पर निकल दिया इसी बात को सोच-सोच कर वो मारी जा रही थी अब क्या होगा? क्या सर उसको माफ़ कर देंगे?
तभी नेहा ने उसको टोका," अरे क्या हो गया तूने जान बुझ कर थोड़े ही किया है ऐसा! सर भी तो इस बात को समझते होंगे! चल छोड़, अब तू इतनी फिकर ना कर!"
दिशा ने बुरा सा मुँह बना कर कहा," ठीक है!"
नेहा: तू एक बात बता, अपने सर बिल्कुल फिल्मों के हीरो की तरह दिखाई देते हैं ना क्या सलमान जैसी बॉडी है उनकी मुझे तो बहुत बुरा लगा जब तूने उसको उल्टा पुल्टा बोला हाए; मेरा तो दिल किया उसको देखते ही की मैं दुनिया की शर्म छोड़ कर उससे लिपट जाउ सच्ची दिशा
दिशा: चल बेशर्म सर के बारे में भी....
नेहा: अरे मुझे थोड़े ही पता था की वो सर हैं... ये तो मैने तब सोचा था जब वो क्लास में आए थे
दिशा: देख मेरे पास बैठकर... य..ये लड़को की बातें मत किया कर दुनिया के सारे मर्द एक जैसे घटिया होते हैं
नेहा: सर से पूछ के देखूं?
दिशा: नेहा! तुझे पता है मैं सर की बात नही कर रही
नेहा: तो तू मानती है ना सर बहुत प्यारे हैं
दिशा: तू भी ना बस. और उसने अपनी कॉपी नेहा के सिर पर दे मारी
दिशा का ध्यान बार-बार सर की और जा रहा था कैसे वो उसको माफ़ करंगे या शायद ना भी करें तभी क्लास में हिस्टरी वाली मेडम आ गयी, सरपंच की बहू...उसका नाम प्यारी था...
प्यारी: हां रे छ्होरियो; कॉपिया निकल लो कल के काम वाली...
एक एक करके लड़कियाँ अपनी कॉपी लेकर उसके पास जाती रही उससे सबको डर लगता था इसीलिए कोई भी कभी उसका काम अधूरा नही छ्चोड़ती थी कभी ग़लती से रह जाए तो उसकी खैर नही और आज दिव्या की खैर नही थी वो कॉपी घर भूल आई थी
प्यारी घुरते हुए, हां! तेरी कापी कहाँ है रंडी
दिव्या: जी... सॉरी मॅ'म घर पर रह गयी
प्यारी: चल पीछे, और मुर्गी बन जा
दिव्या की कुछ बोलने की हिम्मत ही ना हुई वो पीछे जाकर मुर्गी बन गयी
प्यारी दूसरी लड़कियों की कॉपीस चेक करने लगी जब दिव्या से और ना सहा गया तो हिम्मत करके बोली: मॅम मैं अभी ले आती हूँ भागकर!
प्यारी: (घूरते हुए) अच्छा अब ले आएगी तू भाग कर ठहर अभी आती हूँ तेरे पास
ये सुनते ही दिव्या काँप गयी! प्यारी देवी उसके पास गयी, उसको खड़ा किया और उसकी चूची के निप्पल को उमेट दिया. दिव्या दर्द से कराह उठी. " साली,
वेश्या, जान बुझ कर कॉपी छ्चोड़ कर आती है, ताकि बाद में अकेली जाए, और अपने यार से मिलकर आ सके हां बता.. कौन मदारचोड़ तेरी चो.. कहते कहते अचानक उसको रुकना पड़ा पीयान ने मेडम से अंदर आने की पर्मिशन माँगी और बोली," बड़ी मॅम ने कहा है जिस किसी के घर में कमरा रहने के लिए किराए पर खाली हो वो जाकर बड़ी मॅम से मिल ले नये सर के लिए चाहिए है
प्यारी देवी: अरे, हमारी हवेली के होते हुए मास्टर जी को किराए पर रहने की कोई ज़रूरत ना से जाकर कह दे उनसे, मैं छ्हॉकरों को बुला कर समान रखवा देती हूं रुक मैं आती ही हूँ
प्यारी देवी ४० के आसपास की महिला थी एक दम घटिया नेचर की महिला उस पर ये की उसका पति गाँव का सरपंच था ऐसा नही था की गाँव में किसी को उसके लड़कियों के साथ अश्लील हरकतों का पता नही था गाँव में अपने कॅरक्टर को लेकर वो पहले ही बदनाम थी पर इकलौते बड़े ज़मींदार होने के नाते किसी की उनसे कुछ कहने की हिम्मत ही नही होती थी उसकी लड़की भी उसके ही पदचिन्हों पर चल रही थी सरिता; वो नोवी में थी पर लड़कों से चुद्व-चुद्व कर औरत हो चुकी थी
मेडम के जाने के बाद नेहा ने दिशा से कहा," अरे यार, तुम्हारे मामा का भी तो सारा मकान खाली है तुम क्यूँ नही कह देती वहाँ रहने को
दिशा: हां...पर!
नेहा: पर क्या, क्या इतने अच्छे सर इतने घटिया लोगों के यहाँ रुकेंगे
देख मॅम पूरी चालू है अगर हमने अभी उनको नही बोला तो वो इस चुड़ैल के जाल में फँस जाएँगे
दिशा: तुझे भी इन्न बातों के सिवा कुछ नही आता पर मामा से भी तो पूछना पड़ेगा
नेहा: अरे, उनको मैं माना लूँगी, चल सर को ढूँढते हैं चल जल्दी चल तेरी माफी भी हो जाएगी
दिशा चल तो पड़ी पर उसको यकीन नही हो रहा था की सर उसको माफ़ कर देंगे

फिर क्या पता मामा मना ही ना कर दें मना करने पर जो बे-इज़्ज़ती होगी सो अलग पर नेहा उसको लगभग खींचती सी ८वी क्लास में ले गयी, जहाँ शमशेर पढ़ा रहा था
उनको देखकर शमशेर कुर्सी से उठा और मुस्कुराता हुआ बाहर आया," हां तो क्या नाम है आपका" शमशेर उसको छोड़ने के मूड में नही था
दिशा ने लाख कोशिश की पर उसके होंट लरजकर रह गये गर्दन झुकाए हुए वो कयामत ढा रही थी
नेहा: सर, ये कहना चाहती है आप इनके घर में रह लीजिए यह सुनते ही वाणी भी बाहर आ गयी," हां सर, आप हमारे घर में रह लीजिए"
शमशेर ने सोचते हुए कहा," अब तुम्हारा क्या कनेक्षन है?
वाणी: सर, मैं दिशा दीदी के मामा की लड़की हूँ
शमशेर: तो?
वाणी चुप हो गयी इश्स पर नेहा एक्सप्लेन करने के लिए आगे आई," सर, आक्च्युयली दिशा यहाँ अपने मामा के यहाँ रहती है वाणी अपने मम्मी पापा की इकलौती संतान है, और बचपन से ही उन्होने दिशा को खुद ही पाला है. इसीलिए....
शमशेर: बस बस... मैं भी सोच रहा था एक ही नेज़ल लगती है दोनों की ओक
गॅल्स, मैं छुट्टि के बाद तुम्हारे घर चलूँगा
दिशा: पर... स.. सर!
शमशेर: पर क्या
दिशा: वो मामा से पूछना पड़ेगा!
वाणी बीच में ही कूद पड़ी," नही सर, आप आज ही चलिए मैं पापा को अपने आप बोल दूँगी"
शमशेर वाणी के गालों पर हाथ फेरता हुआ बोला, नही बेटा! पहले मम्मी-पापा से पूछ लो अगर वो खुश हैं तो में तेरे पास ही रहूँगा, प्रोमिस
वाणी: ओक, थॅंक यू सर
इसके बाद छुट्टि का टाइम होने वाला था, सो शमशेर सीधा ऑफीस ही चला गया
वहाँ अंजलि बैठी कु्छ सोच रही थी
"मे आइ केम इन मॅम", शमशेर ने उसके विचारों को भंग किया
अंजलि: आओ शमशेर जी
शमशेर: किस बात की टेन्षन है अंजलि, शमशेर ने धीरे से कहा
अंजलि: प्यारी मेडम आई थी, कह रही थी तुम्हे उनकी हवेली मैं रहना पड़ेगा
पर मैं नही चाहती वो निहायत ही वाहयात औरत है
शमशेर: तो माना कर देते हैं प्राब्लम क्या है?
अंजलि: प्राब्लम ये है की और कोई अरेंज्मेंट अभी हुआ नही है
शमशेर: तो मैं तुम्हारे साथ रहूँगा ना जान
अंजलि: मैने तुम्हे बताया तो था ये नही हो सकता मैं वैसे भी अकेली रहती हूँ कोई फॅमिली साथ होती तो भी अलग बात थी
शमशेर: वैसे तुम रहती कहाँ हो
अंजलि: यही उस सामने वाले मकान में अंजलि ने खिड़की से इशारा करते हुए कहा मकान स्कूल के पास ही गाँव से बाहर ही था
शमशेर: कोई बात नही! मकान तो शायद कल तक मिल जाएगा आज मैं भिवानी अपने दोस्त के पास चला जाता हूँ
अंजलि: कौनसा मकान?
शमशेर: कुछ सोचने की आक्टिंग करते हुए) वो कोई दिशा के मामा का घर है बच्चे कह रहे थे, कल घर से पूछ के आएँगे हालाँकि वो उनके बदन की एक-एक हड्डी तक का आइडिया लगा चुका था
अंजलि: अरे हां वो बहुत अच्छा रहेगा बहुत ही अच्छे लोग हैं उनका मकान भी काफ़ी बड़ा है फिर वो ४ ही तो जान हैं घर में मुझे भी अपने साथ रखने की काफ़ी ज़िद की थी उन्होने मुझे यकीन है वो ज़रूर मान जाएँगे
शमशेर: कितना अच्च्छा होता, अगर हम...
तभी स्कूल की छुट्टी हो गयी स्टाफ आने वाला था शमशेर बाहर निकल गया
उसने देखा दिशा उसकी और बार-बार अजीब सी नज़रों से देखती जा रही थी जैसे उसको पहचानने की कोशिश कर रही हो
रात के ८ बाज चुके थे अंजलि घर पर अकेली थी रह-रह कर उसको पिछली हसीन याद आ रही थी कुंवारेपन के २७ सालों में उसको कभी भी ऐसा नही लगा था की सेक्स के बिना जीवन जिया नही जा सकता इसी को अपनी नियती मान लिया था उसने पर आज उसको शमशेर की ज़रूरत अपने ख़ालीपन में महसूस हो रही थी अगर वो शमशेर ना होता तो कभी कल रात वाली बात होती ही नही जाने क्या कशिश थी उसमें लगता ही नही था वो ३० पार कर चुका है ऐसा सखतजान, ऐसा सुंदर... उसने तो कभी सोचा ही नही था की उसकी सुहागरात इतनी हसीन और अड्वेंचरस होगी सोचते-सोचते उसके बदन में सिहरन सी होने लगी ओह वो तो शमशेर का नंबर लेना भी भूल गयी बात ही कर लेती खुल कर स्कूल में तो मौका ही नही मिला सोचते-सोचते उसके हाथ उसकी ब्रा में पहुँच गये उसको कपड़ों जकड़न सी महसूस होने लगी एक-एक कर उसने अपना हर वस्त्रा उतार फेका और बाथरूम में चली गयी; बिल्कुल नंगी! सोचा नहा कर उसके गरम होते शरीर को शांति मिले पर उसे लगा जैसे पानी ही उसको छूकर गरम हो रहा है २० मिनट तक नहाने के बाद वो बाहर निकल आई आकर ड्रेसिंग टेबल के सामने खड़ी हो गयी अपने एक-एक अंग को ध्यान से देखने लगी उसकी चूचियाँ पहले से भी सख़्त होती जा रही थी निप्पल एक दम तने हुए थे कल पहली बार किसी मर्द ने इनको इनकी कीमत का अहसास कराया था पानी में भीगी हुई उसकी चूत पर नज़र पड़ते ही वो सिहर गयी."आ" उसके मुँह से निकला उसकी चूत शमशेर की जवानी का रस पीकर खिल उठी थी, जैसे गुलाब की पंखुड़ीयान हों उसका हाथ उसकी पंखुड़ियों तक जा पहुँचा अकेली होने पर भी उसको उसे छूने में संकोच सा हो रहा था ये तो अब शमशेर की थी उसने पीठ घुमाई, शमशेर उसकी गंद को देखकर पागल सा हो गया था उसकी चूतदों की गोलाइयाँ थी भी ऐसी ही अचानक ही उसे याद आया, शमशेर का बॅग तो यही है उसके पास! जैसे डूबते को तिनके का सहारा शायद कही उसका नंबर लिखा हुआ मिल जाए वो एकदम खिल उठी उसने बॅग को टटोला तो एक डाइयरी में फ्रंट पर एक नंबर लिखा हुआ मिला उसने झट से डाइयल किया; वो शमशेर की आवाज़ सुनने को तड़प रही थी
उधर से आवाज़ आई," हेलो"
अंजलि की आँखें चमक उठी," शमशेर"
"जी, कौन"
"शमशेर, मैं हूँ!"
"जी, 'मैं' तो मैं भी हूँ"
"अरे मैं हूँ अंजलि" वो तुनक कर बोली
"ओह, सॉरी मॅम! आपको मेरा नंबर. कहाँ से मिला!"
"छोडो ना, अभी आ सकते हो क्या?"
शमशेर ने चौंक कर पूछा," क्या हुआ?"
"मैं मरने वाली हूँ, आ जाओ ना"
शमशेर उसकी बात का मतलब समझ गया जो आग कल उसने अंजलि को चोद कर उसने जगा
दी थी, बुझाना भी तो उसी को पड़ेगा," ओ.के. मॅम, ई आम कमिंग इन हाफ आन अवर. कह कर उसने फोने काट दिया
अंजलि सेक्स की खुमारी में मोबाइल को ही बेतसा चूमने लगी जल्दी से उसने ब्रा के बगैर ही सूट डाल लिया वो बेचेन हो रही थी कैसे अपने साजन के लिए खुद को तैयार करे बदहवास सी वो तैयार होकर खिड़की के पास खड़ी हो गयी जैसे आधा घंटा अभी २-३ मिनट में ही हो जाएगा लगभग २०-२५ मिनट बाद ही उसे रोड पर आती गाड़ी की लाइट दिखाई दी जो स्कूल के पास आकर बंद हो गयी...
अंजलि ने दरवाजा खोलने में एक सेकेंड की भी देर ना लगाई बिना कुछ सोचे समझे, बिना किसी हिचक और बिना दरवाज़ा बंद किए वो उसकी छति से लिपट गयी
" अरे, रूको तो सही, शमशेर ने उसके गालों को चूम कर उसको अपने से अलग किया और दरवाजा बंद करते हुए बोला, मैने पहले नही बोला था"
अंजलि जल बिन मछली की तरह तड़प रही थी वो फिर शमशेर की बाहों में आने के लिए बढ़ी तो शमशेर ने उसको अपनी बाहों में उठा लिया और प्यार से बोला, मेडम जी, खुद तो तैयार होके बैठी हो, ज़रा मैं भी तो फ्रेश हो लूँ"
अंजलि ने प्यार से उसकी छति पर घूँसा जमाया और उसके गालों पर किस किया
शमशेर ने उसको बेड पर लिटाया और अपने बॅग से टॉवेल निकल कर बाथरूम में चला आया
नाहकर जब वा बाहर आया तो उसने कमर पर टॉवेल के अलावा कुछ नही पहन रखा था पानी उसके शानदार शरीर और बालों से चू रहा था अंजलि उसके शरीर को देखकर बोली," तुम्हे तो हीरो होना चाहिए था"
"क्यूँ हीरो क्या फिल्मों में ही होते है" कहते हुए शमशेर बेड पर आ बैठा और अंजलि को अपनी गोद में बैठा लिया अंजलि का मुँह उसके सामने था और उसकी चिकनी टाँगें शमशेर की टाँगों के उपर से जाकर उसकी कमर से चिपकी हुई थी
" प्लीज़ अब प्यार कर लो जल्दी"
"अरे कर तो रहा हूँ प्यार" शमशेर ने उसके होंटो को चूमते हुए कहा
" कहाँ कर रहे हो इसमें घुसाओ ना जल्दी"
शमशेर हँसने लगा" अरे क्या इसमें घुसने को ही प्यार बोलते हैं"
"तो"अंजलि ने उल्टा स्वाल किया!
देखती जाओ मैं दिखता हूँ प्यार क्या होता है शमशेर ने उसको ऐसे ही बेड पर लिटा दिया उसका नाइट सूट नीचे से हटाया और एक-एक करके उसके बटन खोलने लगा अब अंजलि के बदन पर एक पैंटी के अलावा कुछ नही था शमशेर ने अपना टॉवेल उतार दिया और झुक कर उसकी नाभि को चूमने लगा अंजलि के बदन में चीटियाँ सी दौड़ रही थी उसका मॅन हो रहा तहा की बिना देर किए शमशेर उसकी चूत का मुँह अपने लंड से भरकर बंद कर दे वो तड़पति रही पर कुछ ना बोली; उसको प्यार सीखना जो था
धीरे-धीरे शमशेर अपने हाथो को उसकी चूचियों पर लाया और अंगुलियों से उसके निप्पल्स को छेड़ने लगा शमशेर का लंड उसकी चूत पर पैंटी के उपर से दस्तक दे रहा था अंजलि को लग रहा था जैसे उसकी चूत को किसी ने जलते तेल के कढाहे में डाल दिया हो वो फूल कर पकौड़े की तरह होती जा रही थी
अचानक शमशेर पीछे लेट गया और अंजलि को बिठा लिया और अपने लंड की और इशारा करते हुए बोला," इसे मुँह में लो."
अंजलि तन्नाई हुई थी,बोली," ज़रूरी है क्या.... पर ये मेरे मुँह में आएगा कैसे?
शमशेर: बचपन में कुलफी खाई है ना, बस ऐसे ही
अंजलि ने शमशेर के लंड के सूपाड़ा पर जीभ लगाई तो उसको करेंट सा लगा धीरे-धीरे उसने सूपाडे को मुँह में भर लिया और चूसने सी लगी उसको बहुत मज़ा आ रहा था शमशेर ज़्यादा के लिए कहना चाहता था पर उसको पता था ले नही पाएगी
" मज़ा आ रहा है ना!"
"हुम्म" अंजलि ने सूपाड़ा मुँह से निकलते हुए कहा"पर इसमें खुजली हो रही है" अपनी चूत को मसालते हुए उसने कहा." कुछ करो ना....
यह सुनकर शमशेर ने उसको अपनी पीठ पर टाँगों की तरफ मुँह करके बैठने को कहा उसने ऐसा ही किया शमशेर ने उसको आगे अपने लंड की और झुका दिया जिससे अंजलि की चूत और गांड शमशेर के मुँह के पास आ गयी एकदम तन्नाया हुआ शमशेर का लंड अंजलि की आँखों के सामने सलामी दे रहा था शमशेर ने जब अपने होंट अंजलि की चूत की फांको पर टिकाए तो वा सीत्कार कर उतही इतना अधिक आनंद उससे सहन नही हो रहा था उसने अपने होंट लंड के सूपाडे पर जमा दिए शमशेर उसकी चूत को नीचे से उपर तक चाट रहा था उसकी एक उंगली अंजलि की गांड के छेद को हल्के से कुरेद रही थी इससे अंजलि का मज़ा दोगुना हो रहा था अब वो ज़ोर-ज़ोर से लंड पर अपने होंटो और जीभ का जादू दिखाने लगी लेकिन ज़्यादा देर तक वो इतना आनंद सहन ना कर पाई और उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया जो शमशेर की मांसल छाति पर टपकने लगा अंजलि ने शमशेर की टाँगो को जाकड़ लिया और हाँफने लगी शमशेर का शेर हमले को तैयार था उसने ज़्यादा देर ना करते हुए कंबल की सीट बना कर बेड पर रखा और अंजलि को उसस्पर उल्टा लिटा दिया अंजलि की गांड अब उपर की और उठी हुई थी और चुचियाँ बेड से टकरा रही थी शमशेर ने अपना लंड उसकी चूत के द्वार पर रखा और पेल दिया चूत रस की वजह से चूत गीली होने से ८ इंची लंड 'पुच्छ' की आवाज़ के साथ पूरा उसमें उतार गया अंजलि की तो जान ही निकल गयी इतना मीठा दर्द! उसको लगा लंड उसकी आंतडियों से जा टकराया है
शमशेर ने अंजलि की गंद को एक हाथ से पकड़ कर धक्के लगाने सुरू कर दिए
एक-एक धक्के के साथ जैसे अंजलि जन्नत तक जाकर आ रही थी जब उसको बहुत मज़े आने लगे तो उसने अपनी गांड को थोड़ा और चोडा करके पीछे की और कर लिया शमशेर के टेस्टेस उसकी चूत के पास जैसे थप्पड़ से मार रहे थे शमशेर की नज़र अंजलि की गांड के छेद पर पड़ी कितना सुंदर छेद था उसने उस छेद पर थूक गिराया और उंगली से उसको कुरेदने लगा अंजलि अनानद से करती जा रही थी शमशेर धीरे-धीरे अपनी उंगली को अंजलि की गांड में घुसने लगा"उहह, सीसी...क्या....क्कार... रहे हो.. ज..ज्ज़ान!"अंजलि कसमसा उठी
देखती रहो! और शमशेर ने पूरी उंगली धक्के लगते-लगते उसकी गांड में उतार दी अंजलि पागल सी हो गयी थी वो नीचे की और मुँह करके अपनी चूत में जाते लंड को देखने की कोशिश कर रही थी पर कुम्बल की वजह से ऐसा नही हो पाया शमशेर को जब लगा की अंजलि का काम अब होने ही वाला है तो उसने धक्कों की स्पीड बढ़ा दी सीधे गर्भाष्य पे धक्कों को अंजलि सहन ना कर सकी और ढेर हो गयी
शमशेर ने तुरंत उसको सीधा लिटाया और वापस अपना लंड चूत में पेल दिया
अंजलि अब बिल्कुल थक चुकी थी और उसका हर अंग दुख रहा था, पर वो सहन करने की कोशिश करती रही शमशेर ने झुक कर उसके होंटो को अपने होंटो से चिपका दिया और अपनी जीभ उसके मुँह में घुसा दी धीरे-धीरे एक बार फिर अंजलि को मज़ा आने लगा और वो भी सहयोग करने लगी अब शमशेर ने उसकी चुचियों को मसलना सुरू कर दिया था अंजलि फिर से मंज़िल के करीब थी उसने जब शमशेर की बाहों पर अपने दाँत गाड़ने शुरू कर दिए तो शमशेर भी और ज़्यादा स्पीड से धक्के लगाने लगा अंजलि की चूत के पानी छोड़ते ही उसने अपना लंड बाहर निकाल लिया और अंजलि के मुँह में दे दिया अजाली के चूत रस से सना होने की वजह से एक बार तो अंजलि ने मना करने की सोची पर कु्छ ना कहकर उसको बैठकर मुँह में ले ही लिया शमशेर ने अंजलि का सिर पीछे से पकड़ लिया और मुँह में वीर्य की बौछार सी कर दी अंजलि गू...गूओ करके रह गयी पर क्या कर सकती थी करीब ८-१० बौछार वीर्य ने उसके मुँह को पूरा भर दिया शमशेर ने उसको तभी छोड़ा जब वो सारा वीर्य गटक गयी दोनों एक दूसरे पर ढेर हो गये अंजलि गुस्से और प्यार से पहले तो उसको देखती रही जब उसको लगा की वीर्य पीना कुछ खास बुरा नही था तो वो शमशेर से चिपक गयी और उसके उपर आकर उसके चेहरे को चूमने लगी...

शमशेर को वापस भी जाना था अगर किसी ने उसको यहा देख लिया तो अंजलि के लिए प्राब्लम हो सकती थी वो दोनों बाथरूम गये और नहाने लगे अंजलि प्यार से उसकी छाती और कमर को मसल रही थी वो बार-बार उसको किस कर रही थी...पर शमशेर का ध्यान कहीं और था वो दिशा के बारे में सोच रहा था कैसे! वो लड़की हाथ आ जा. अगर उसे उनके घर में रहने को मिल जाए तो काम बन सकता है दिशा जैसी सेक्सी लड़की उसने आज तक नही देखी थी तौलिए से शरीर पौछ्ते हुए वो अंजलि से बोला," मकान का क्या रहा?" "वो हो जाएगा, तुम चिंता मत करो!" अंजलि ने पूरा अपनापन दिखाते हुए कहा फिर बोली, ये गाड़ी किसकी लाए!" "अपनी ही है और किसकी होगी?" "तो फिर उस दिन बस में क्यूँ आए?" "अरे वो भिवानी मेरा दोस्त है ना वो लेकर आया था किसी काम के लिए, फिर मुझे भिवानी आना ही था तो मैने उसको बोल दिया की अभी अपने पास ही रखे" कौन सी है? अंजलि ने पूछा! "स्कोडा ओक्टिवा!" क्यूँ?
अंजलि: कु्छ नही, बस ऐसे ही. शमशेर ने अंजलि को अपने सीने से लगाया और दोनों हाथों से उसकी गांड को दबाकर एक लंबी फ्रेंच किस दी और बोला," सॉरी जान, अब जाना पड़ेगा सुबह स्कूल में मिलते हैं" अंजलि ने भी पूरा साथ दिया,"हां पता है! शमशेर ने कपड़े पहने और निकल गया!

उधर छुट्टी के बाद घर जाते ही दिशा ने वाणी को उपर बुलाया वहाँ २ कमरे बने हुए थे जिनका कोई यूज़ नही होता था एक रूम की खिड़की से जीना पूरा दिखाई देता था दूसरा कमरा उससे अटॅच था जो बाहर की और भी खुलता था वाणी ने उपर आते ही बोला,"हां दीदी?" दिशा: यहीं रहेंगे ना अपने सर वाणी: हां, पर पापा से पू्छ तो ले
दिशा: तू पू्छ लेना ना
वाणी: पूच्छ लूँगी, पर तुझे क्या प्राब्लम है
दिशा: कुछ नही, पर तू ही पू्छ लेना जाने दिशा के मॅन में क्या चोर था वो वाणी को समझाने लगी की क्या और कैसे कहना है
वाणी: मैं ये भी बोल दूँगी की बहुत स्मार्ट हैं
दिशा: धात पगली, इसीलिए तो तेरे को समझा रही हूँ! स्मार्ट होने से पापा के मान जाने का क्या कनेक्शन उल्टा मना कर देंगे
वाणी: क्यूँ दीदी?
दिशा: अब तू ज़्यादा स्वाल जवाब ना कर जा बात कर ले पापा से ध्यान रखना मैने क्या कहा है
वाणी: ठीक है दीदी वाणी नीचे गयी अपने पापा के पास उसके पापा की उमर ५० के पार ही लगती थी खेती करते थे घर का काम ठीक ठाक चल रहा था मम्मी की उमर ४० के आस-पास होगी उसके पिता की ये दूसरी शादी थी वाणी जाकर पापा की गोद में सिर रखकर लेट गयी कु्छ देर बाद बोली," पापा, बड़ी मॅ'म पू्छ रही थी अगर हमारा उपर वाला मकान खाली हो किराए के लिए तो...
पापा: लेकिन बेटा उनके पास तो काफ़ी अच्च्छा घर है अभी वो खाली करवा रहे हैं क्या
वाणी: नही, अभी साइन्स के नये सर आए हैं उनके लिए चाहिए वाणी ने उनके चेहरे की और देखा कु्छ दिन पहले एक डॉक्टर उनके पास किराए पर रहने की पूच्छ रहा था लेकिन अनमॅरीड होने की वजह से पापा ने मना कर दिया था
पापा: बेटी, क्या वो शादी- शुदा हैं? वाणी: पता नही, पर उससे क्या होता है
पापा: मैं कल स्कूल आउन्गा फिर सोचकर बता दूँगा
वाणी: दे दीजिए ना पापा, हमें टूवुशन के लिए इतनी दूर नही जाना पड़ेगा बहुत अच्छा पढ़ाते हैं (दिशा ने उसको यही सिखाया था) प्लीज़ पापा मान जाइए ना उसके पापा दोनों लड़कियों से बहुत प्यार करते थे फिर उन्हे अपनी बेटियों पर भरोसा भी था वो बोले,"ठीक है, तू ज़रा पढ़ाई कर ले मैं थोड़ी देर मैं बताता हूँ उसके जाने के बाद वो अपनी पत्नी से बोला,"निर्मला, अगर वो कुँवारा हुआ तो!" निर्मला: आप तो हमेशा उल्टा ही सोचते हैं क्या आपको दिशा पर यकीन नही है आज तक उसने कोई ग़लती नही की हर बात आकर मुझे बता देती है वाणी को तो वो बच्ची ही समझती थी
पापा: वो तो ठीक है मगर...
निर्मला: मगर क्या, बेचारियों को ट्यूशन पढ़ने के लिए कितनी दूर जाना पड़ता है आप क्या हरदम उनकी रखवाली करते हैं सर्दियो मैं तो अंधेरे हो जाता है आते-आते उपर से १५०० रुपए मिलेंगे वो अलग क्या सोच रहे हैं जी, हां कर दीजिए अनमने मॅन से दया चंद बोला," ठीक है फिर हां कर दो" निर्मला ने दिशा को आवाज़ लगाई दिशा तो जैसे इंतज़ार में ही खड़ी थी."हां मामी जी!अभी आई." निर्मला: बेटी एक बात तो बता ये तुम्हारे जो नये सर हैं, कैसे हैं
दिशा: आपको कैसे पता मामी जी?
निर्मला: अरे वो वाणी को उसकी बड़ी मॅ'म उपर वाले कमरों के लिए कह रही थी, तुम्हारे मास्टर के लिए; दे दें क्या?
दिशा: देख लीजिए मामी जी
निर्मला: इसीलिए तो बेटी पूच्छ रही हूँ, कैसे हैं?
दिशा: कैसे हैं का क्या मतलब; टीचर हैं, अच्च्छा पढ़ाते हैं, और क्या
निर्मला: बेटी, मैं सोच रही थी अगर उनको यहाँ रख लें, तो तुम्हे ट्यूशन की भी प्राब्लम नही रहेगी
दिशा: हां ये बात तो है मामी जी ठीक है बेटी, जा पढ़ाई कर ले! दिशा जाने लगी. बेटी के लचकदार जिस्म को देखकर मामी जाने क्या सोचने लगी उपर जाते ही दिशा ने वाणी को अपनी बाहों में भर लिया वाणी ने खुश होकर पूछा की क्या हुआ?
दिशा: मामी ने हां कर दी, सर के लिए वाणी ने चुटकी ली, "तुम तो बहुत खुश हो! कुछ चक्कर है क्या?"
दिशा:धात! तू बड़ी शैतान होती जा रही है वो मैने सर को आज स्कूल में उल्टा सीधा कह दिया था ना अब शायद वो मुझे माफ़ कर देंगे आ चल सफाई करते हैं" दोनों ने मिलकर उपर वाले कमरों को अपनी तरफ से दुल्हन की तरह सज़ा कर तैयार कर दिया दिशा बोली," आज हम उपर ही सोएंगे" "ठीक है दीदी" अगले दिन सुबह स्कूल जाते हुए दिशा और वाणी बहुत खुश थी वाणी ने तो स्कूल जाते ही एलान कर दिया की सर हमारे घर रहेंगे तभी स्कूल के बाहर एक चमचमाती स्कोडा रुकी बच्चों ने ज़्यादा ऐसी कार देखी नही तो उसके चारों और इकट्ठे हो गये जब उसमें से शमशेर उतरा तो वो पहले दिन से ज़्यादा स्मार्ट और सेक्सी लग रहा था वाणी उसको देखते ही भाग कर आई और बोली, सर मम्मी ने बोला है आप हमारे घर में ही रहना!
शमशेर: अच्छा!
वाणी: हां सर, रहेंगे ना! शमशेर ने उसकी और देखते हुए कहा,"क्यूँ नही, वाणी"
वाणी: सर, ये इतनी अच्छि गाड़ी आपकी है? शमशेर ने उसके कंधे को हल्का से दबाया," मेरी नही अपनी है" वाणी शमशेर को देखती रह गयी! इश्स छ्होटे से डाइयलोग ने उसपे जाने क्या जादू किया की उसको सर सिर्फ़ अपने से लगने लगे वाणी दौड़ती हुई दिशा के पास गयी और बोली चल देख क्या दिखाती हूँ दीदी स्कूल के बाहर लेजाकार उसने दिखाई, देख गाड़ी! गाँव में सच में ही वो गाड़ी अद्भुत लग रही थी दिशा पहले तो उसको एक-टक देखती रही फिर बोली, क्या देखूं इसका!
वाणी: सर जी ने कहा है ये अपनी गाड़ी है दिशा के दिमाग़ में भी इस बात का असर हुआ फिर संभाल कर बोली," चल पागल!" वाणी पर इसका कोई असर नही हुआ वो उछलती कूदती वहाँ से चली गयी बहुत खुश थी वो शमशेर ऑफीस में दाखिल हुआ,"गुड मॉर्निंग मॅ'म" अंजलि की आँखो में कशिश थी, अपनापन था लेकिन कॉंटरोल करके बोली," गुड मॉर्निंग मिस्टर शमशेर! कहिए कैसे हैं!
शमशेर: जी अच्छा हूँ, आपकी दया से! हां वो मेरे रूम का अरेंज्मेंट हो गया है
अंजलि: कहाँ? शमशेर: वहीं...वाणी के घर, अभी बताया है
अंजलि: ये तो बहुत अच्च्छा हुआ(मॅन में वो इसके उलट सोच रही थी) तो आपका समान रखवा दूं? शमशेर: अरे नही! मेरा सारा समान गाड़ी में है छुट्टी के बाद सीधे वही उतरवा दूँगा मैं पीरियड ले लेता हूँ कहकर वो ऑफीस से बाहर चला गया और १०थ क्लास में एंट्री की सभी लड़कियाँ सहमी हुई थी एक तो मर्द टीचर, दूसरा शकल से ही राईश दिखाई देता था बड़ी गाड़ी, गले में ४-५ तौले की चैन उसका रौब ही अलग था साइकल पर आने वाले मास्टर जियों से बिल्कुल अलग क्लास में सन्नाटा छाया हुया था शमशेर ने पूरी क्लास को देखा सभी की निगाह उसपर थी, सिवाय दिशा को छ्चोड़कर वो नीचे चेहरा किए बैठी थी
शमशेर: गुड मॉर्निंग गॅल्स! मुझे नही लगता की आपको डिसिप्लिन में रखने के लिए डंडे की ज़रूरत पड़ेगी या है! कोई कु्छ नही बोली!
शमशेर: आप सभी जवान हैं...... नेहा ने उसके चेहरे की और देखा शमशेर: ...मतलब समझदार हैं मुझे उम्मीद है आप कुछ ऐसा नही करेंगी जिससे मुझे डंडे का यूज़ करना पड़े... जिनकी समझ में बात आई, उनकी चूत गीली हो गयी
शमशेर: आप लोग समझ रहे होंगे ना मेरा मतलब जिसको पढ़ाई करनी है वो पढ़ाई करें जिनको डंडा खाने का शौक है वो बता दें, वो भी मेरे पास है मतलब मैं डंडे का यूज़ भी करना जनता हूँ इसीलिए कोशिश करें स्कूल टाइम में पढ़ाई पर ही ध्यान दें अन्य बातों पर नही तभी क्लास में पीयान आई और बोली, सर दिशा को प्यारी मेडम बुला रही हैं!
शमशेर: दिशा जी, आप जा सकती हैं दिशा स्टाफ रूम में गयी वाणी भी वही खड़ी थी प्यारी मेडम काफ़ी गुस्से में लग रही थी "मे आइ कम इन, मॅ'म?"
प्यारी: आजा, राजकुमारी! वहाँ खड़ी हो जा दीवार के साथ दिशा चुपचाप जाकर वाणी के साथ खड़ी हो गयी वाणी रो रही थी
प्यारी: मैं तो तुम दोनों को अच्छी लड़की समझती थी पर तुम तो...
दिशा: सीसी॥क्या हो गया मेडम जी!
प्यारी: चुप कर बहन की..., तुम्हे अपने मास्टर पर डोरे डालते हुए शरम नही आई इतनी ही ज़्यादा खुजली हो रही थी तो गाँव के किसी लड़के को ख़सम बना लेती अपना इतने पीछे पड़े रहते हैं तेरे सो जाती किसी के साथ... मास्टर पर ही दिल बड़ा आया तेरा गाड़ी में बैठकर करवाएगी क्या दिशा की आँखो से पानी टपक रहा था पहली बार किसी ने इतना जॅलील किया था उसे "मेडम आप ऐसा क्यूँ कह रही हैं क्या किया है मैने" "क्या किया है मैने! उसको घर जौंवाई बना के रखोगे तुम क्या दे दिया बदले में उस सांड ने दिशा से रहा ना गया और बोली," मेडम प्लीज़ बकवास बंद कीजिए मुझे कु्छ समझ नही आ रहा" इतना सुनना था की प्यारी के गुस्से का ठिकाना ना रहा वो उठी और जाकर दिशा के चूतडो पर खींच कर डंडा मारा वो दर्द से दोहरी हो गयी.यहीं पर वो नही रुकी उसने दिशा के रेशमी बालों को पकड़कर खींचा तो वो घुटनों के बल आ गयी प्यारी ने उसके निचले होंट को पकड़ कर खींच लिया और एक और डंडा मारा जो उसकी बाईं चूची पर लगा वो बिलख पड़ी
प्यारी: कान पकड़ ले साली कुतिया मैं बकवास करती हूँ हाँ, दिशा ने कान पकड़ लिए और मुर्गी बन गयी प्यारी सच में ही कमिनि और घटिया औरत थी उसने डंडा उसकी गांड के दरार के बीच रख दिया और उपर नीचे करने लगी," साली मैं बुझती हूँ तेरी चूत की प्यास, किसी को हाथ नही लगाने देती ना यहाँ वाणी से अपनी प्यारी दीदी की ये दशा देखी ना गयी वा कमरे से भाग गयी और बदहवास सी सर-सर चिल्लाने लगी सभी बच्चे बाहर आ गये अंजलि भी दौड़ी आई और उधर से शमशेर भी.... वह हैरान था वाणी भागती हुई जाकर शमशेर से लिपट गयी," सर, दीदी...!" शमशेर को सब अजीब सा लगा यौवन की दहलीज पर खड़ी एक लड़की उससे बेल की तरह लिपटी हुई थी पर वक़्त ये बातें सोचने का नही था
शमशेर: क्या हुआ, वाणी?
वाणी: स॥सर वो प्यारी मेडम..." सभी स्टाफ रूम की और भागे, दिशा ज़मीन पर लाश सी पड़ी थी, उसका कमीज़ फटा हुआ था जिससे उसके कसा हुआ पतला पेट दिख रहा था शमशेर को समझते देर ना लगी उसने फोन निकाला और भिवानी के एस.पी. को फोन किया "हां शमशेर बेटा!" उधर से आवाज़ आई "अंकल, मैं लोहरू के एस टी.सेक. गर्ल्स स्कूल से बोल रहा हूँ आप लेडी पोलीस भेजिए, यहाँ क्राइम हुआ है "वेट्स अप बेटा, तुम्हारे साथ कुछ... "आप जल्दी फोर्स भेजिए अंकल जी" "ओक बेटा" प्यारी अब भी अकड़ में थी उसको लगता था की उसके आदमी के थानों में संबंध हैं उसका कोई कुछ नही बिगाड़ सकता लेकिन जब पोलीस आई तो सारा सीन ही बदल गया जीप से एक लेडी इनस्पेक्टर उतरी डंडा घुमाती हुई आई और बोली," किसने फोने किया था एस.पी. साहब को?"
शमशेर उसके पास गया और बोला, आइए मिस. और उसको दिशा के पास ले गया दिशा अब ऑफीस में बैठी थी अब भी वा बदहवास सी रो रही थी शमशेर बोला,"हां दिशा मेडम को दिखाओ और बताओ क्या हुआ है" दिशा अपनी चुननी को हटाकर उसको अपना कमीज़ दिखाने ही वाली थी की वो रुक गयी और शमशेर की और देखने लगी शमशेर समझ गया और बाहर चला गया कु्छ देर बाद लेडी इनस्पेक्टर बाहर आई और प्यारी को अपने साथ बिठा कर ले गयी अंजलि ने डी.ओ. साहब को रिपोर्ट की और स्कूल की छुट्टी कर दी शमशेर ने अंजलि को कहा की वो उसके साथ चले अंजलि को घर छोड़ देते हैं शमशेर ने गाड़ी स्टार्ट की, वाणी आगे बैठ गयी अंजलि और दिशा पीछे, और वो उनके घर पहुँच गये घर जाते ही दिशा दहाड़े मारकर रोने लगी धीरे-धीरे शांत करके उन सबको सारा माजरा बताया गया अंजलि ने बताया की वो ज़बरदस्ती शमशेर को अपने घर रखना चाहती थी सब जानते थे की वो कैसी औरत थी सुनकर वाणी के पापा चिंतित हो गये और बोले," अब क्या होगा बेटा?"
"होगा क्या अंकल जी! प्यारी मेडम को सज़ा होगी "नही-नही बेटा! गाँव में दुश्मनी ठीक नही तुम मामले को रुकवा दो दिशा मामा की इस बात पर फुट पड़ी शमशेर ने कहा देखते हैं अंकल जी उधर सरपंच को पता लगते ही उसका पारा गरम हो गया उसने तुरंत थाने में फोन किया वहाँ से जो उसको पता चला, सुनते ही उसकी सिट्टी-पिटी गुम हो गयी, शमशेर एक बड़े आइ.पी.एस. ऑफीसर का बेटा था अब कु्छ हो सकता है तो वही कुछ हो सकता है सरपंच हाथ जोड़े दौड़ा-दौड़ा आया सारे गाँव ने पहली बार उसका ये रूप देखा वो गिड़-गिडाने लगा फिर दयाचंद के कहने पर इस बात पर समझोता हुआ की प्यारी देवी पूरी गाँव के सामने दिशा से माफी माँगेगी और उसका ट्रान्स्फर गाँव से दूर कर दिया जाएगा ऐसा ही हुआ अब दिशा को भी तसल्ली हुई कु्छ ही देर में सब कु्छ सामान्य हो गया जैसे कु्छ हुआ हि ना हो गाँव वाले अंदर ही अंदर बहुत खुश थे

.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.

User avatar
Fuck_Me
Platinum Member
Posts: 1107
Joined: 15 Aug 2015 03:35

Re: हिंदी सेक्स कहानियाँ - गर्ल्स स्कूल (girls school sex st

Unread post by Fuck_Me » 15 Aug 2015 03:41

वाणी के पापा की तो रेप्युटेशन ही बढ़ गयी इन सब में वो कु्छ सवाल और कु्छ शर्तें जो वो शमशेर को बताना चाहता था, उसके दिमाग़ से हवा हो गये वो बोला," माफ़ करना मास्टर जी, हम तो चाय पानी ही भूल गये! "दिशा बेटी ज़रा मास्टर जी और मेडम के लिए चाय तो बना दे" "जी मामा जी" दिशा नॉर्मल नही हुई थी, उसको रह-रह कर प्यारी देवी की बातें याद आ रही थी उसकी चूत पर किसी ने टच किया हो, आज से पहले कभी नही हुआ था अब भी उसको अपनी गांड के बीचों बीच डंडा घूमता महसूस हो रहा था उसने शमशेर सर के बारे में कितनी गंदी बातें बनाई, सोचकर ही उसका चेहरा गुलाबी हो गया फिर उसे ध्यान आया कैसे शमशेर सिर ने उसको हीरो की तरह बचाया और प्यारी देवी को सज़ा दिलवाई चाय बनाते-बनाते दिशा ने सोचा," क्या ये ही उसके हीरो हैं" सोचने मात्रा से ही दिशा शर्मा गयी और घुटनों में छिपा लिया वो चाय बनाकर लाई और सबको देने लगी. शमशेर को चाय देते हुए उसके हाथ काँप रहे थे. अब तक भी वो उससे नाराज़ थी चाय पीते ही वाणी ने शमशेर का हाथ पकड़ा और बोली," सर चलिए, आपको आपका घर दिखाती हूँ उसके पापा को थोड़ा अजीब सा लगा और उसने वाणी को घूरा, पर उस पर इसका कोई असर नही हुआ; वह तो निशपाप थी वो शमशेर को खींचते हुए उपर ले गयी अपनी तरफ से उन्होने कमरे को पूरा सजाया था शमशेर जाते ही बोला," मुझे सेट्टिंग करनी पड़ेगी" वाणी मायूस हो गयी," सर, दिशा दीदी और मैने इतनी मेहनत की थी" शमशेर हँसने लगा वो नीचे जाकर अपना लॅपटॉप, एक फोल्डिंग टेबल, अपना बॅग और बिस्तेर लेकर आया और अपने हिसाब से कमरे में सेट्टिंग करने लगा मम्मी ने वाणी को आवाज़ दी वाणी दौड़ती हुई नीचे गयी खिड़की से शमशेर ने देखा वाणी का फिगर मस्त था जब ये लड़की तैयार होगी तो शायद दिशा से भी मस्त होगी उसने अपने होंटो पर जीभ फिराई और फिर से अपने समान को अड्जस्ट करने में जुट गया "उपर क्या कर रही थी बेटी सर को आराम करने दे" नही मम्मी, सर तो अपने रूम की सफाई कर रहे हैं मैं उनकी मदद कर रही थी" दिशा चौकी," हमने सफाई करी तो थी कल वाणी" उससे मन ही मन गुस्सा आया कल कितने अरमानों से उसने कमरे को सजाया था
वाणी: वो तो सर ने सारी सेट्टिंग ही चेंज कर दी दिशा को इतना गुस्सा आया की अगर वो उसके सर ना होते तो अभी जाकर उससे लड़ाई करती क्या समझते हैं खुद को पर वो बोली कु्छ नही और बाहर जाकर कपड़े धोने की तैयारी करने लगी शमशेर सब अड्जस्टमेंट के बाद आराम से बेड पर बैठ गया उसने देखा दिशा बाहर कपड़े धो रही है खिड़की से वहाँ का दृश्या सॉफ दिखाई देता था बेमिसाल हुश्न की मालकिन थी वह कपड़े धोते-धोते उसके चेहरे के रंग बार-बार बदल रहे थे कभी मंद मंद मुस्कुराती कभी नर्वस हो जाती और कभी चेहरे पर वही भाव आ जाते जो पहली बार उसका नाम पु्छने पर आए थे शायद कु्छ सोच रही थी अचानक वह झुकी और उसकी चूचियों की घाटी के अंदर तक दर्शन हो गये शमशेर को उसकी सेब के साइज़ की चूचियाँ बिल्कुल गोले थी वो भी बिना ब्रा के क्या वो कभी उन्हे छू भी पाएगा काश ऐसा हो जाए दिशा पहली लड़की थी जिसके लिए उसका सब्र टूटता जा रहा था, और वो लाइन ही नही दे रही नही तो कितनी ही हसीनायें अपनी पहल पर उसके लंड को अपनी चूत में ले चुकी थी वह उठी और कपड़े निचोड़ने लगी उसका मुँह दूसरी तरफ हो गया उसकी कमीज़ उसकी गांड की दरार में फँसा हुआ था कमीज़ गीला हो जाने की वजह से उसकी गांड का सही सही साइज़ शमशेर के सामने था एक दम गोल-गोल जैसे आधे गोले तरबूज में किसी कलाकार ने बड़ी सफाई से एक छोटी फाँक को निकाल दिया हो शमशेर उसको प्यार का पहला पाठ पढ़ाने को तत्पर हो उठा पर उसको डर था वो बड़ी तुनकमिज़ाज थी कही पासा उल्टा पड़ गया तो इसके चक्कर में बाकी स्कूल की लड़कियों से भी हाथ धोना न पड़ जाए स्कूल में एक से एक मीठे फल थे हां इसके आगे सब कु्छ फीका ही था तभी फोन की घंटी बाजी फोन अंजलि का था "हेलो" "शमशेर" "हां जान" "ठीक अड्जस्ट हो गये हो ना" "हां, जान बस तुम्हारी कमी है" "तो आज रात को आ जाओ ना" अंजलि की चूत की प्यास भी अब बढ़ गयी थी "सॉरी जान" पर इनको अजीब लगेगा" "कुछ देर के लिए आ जाना, घूमने का बहाना करके" "देखता हूं" "आइ लव यू!" "लव यू टू जान!" शमशेर का ध्यान अब दिशा की गांड के अलावा कहीं जाता ही नही था उसके शरीर की हड्डियाँ गिनते-गिनते शमशेर को नींद आ गयी करीब ५ बजे दिशा ने चाय बनाई उसकी मम्मी बोली बेटी तुम्हारे सर को भी दे आना दिशा जाने लगी तो मामा ने टोक दिया," दिशा बेटी, रूको!
वाणी चलो बेटा चलो सर को चाय देकर आओ! "पापा, मेरा काम ख़तम नही हुआ है अभी, मैं बाद में जाउन्गि दीदी तुम्ही दे आओ" चाहती तो दिशा भी यही थी पर उसमें सर का सामना करने की हिम्मत नही थी, जाने क्यूँ उपर चढ़ते-चढ़ते उसके पैर भारी होते जा रहे थे उपर जाकर उसने देखा, सर जी सो रहे थे वो एकटक उसको देखती रही कितना हसीन चेहरा था कितनी चौड़ी छति थी, कमर पतली और... और ये क्या, शमशेर की पॅंट आगे से फूली हुई सी थी इसमें छिपे खजाने की कल्पना करते ही उसका चेहरा शर्म से लाल हो गया "हाए राम!"
दिशा ने तुरंत वहाँ से नज़र हटा ली काश वो उसके "सर" ना होते वो उसको अपना दिल दे देती उस पागल को क्या पता था दिल कोई सोचकर थोड़े ही दिया जाता है दिल तो वो दे चुकी थी.....है ना फ्रेंड्स!
वो चुप चाप टेबल के पास गयी और चाय रखकर नीचे आ गयी नीचे जाते ही उसने वाणी को कहा," वाणी! जाओ, सर को जगा दो, वे सो रहे हैं."
निर्मला: तुम ना जगा देती पगली
दिशा: मुझसे नही जगाया गया मामी जी
वाणी ने अपनी कापिया बॅग मैं डाली और दौड़ कर उपर गयी जाकर उसने सर का हाथ पकड़ कर हिलाया लेकिन उसने कोई हलचल नही की वाणी शरारती थी और शमशेर से घुलमिल भी गयी थी उसने शमशेर की छाती पर अपना दबाव डाला उसकी चुचियाँ शमशेर के मुँह के सामने थी वो नही उठा वाणी ने ज़ोर से उसके कान में बोला," सर जी" और शमशेर उठ बैठा उसने चौंकने की आक्टिंग की" क्या हुआ वाणी?"
"सर जी आपकी चाय" टेबल की और इशारा करते शमशेर से कहा
ओह, थॅंक्स वाणी!
"थॅंक्स मेरा नही दीदी का बोलिए"
"कहाँ है वो?"
"है नही थी" चाय रखकर चली गयी मैने आपको इतना हिलाया पर आप उठे ही नही आपके कान में शोर करना पड़ा मुझे, सॉरी" वाणी ने हंसते हुई कहा
" पता है वाणी, जब तक कोई मुझे नाम से ना बुलाए, चाहे कुछ भी कर ले मेरी नींद नही खुलती पता नही कोई बीमारी है शायद" शमशेर का प्लान सही जा रहा था
" सर, कुंभकारण की नींद भी तो ऐसी थी ना"
"अच्छा मुझे कुंभकारण कह रही है शमशेर ने उसके गाल उमेठ दिए"
"उई मा!" छ्चोड़ देने पर वो हँसने लगी शमशेर ने महसूस किया, जैसे उसने उसकी चूत पर हाथ रख दिया और वो कह रही है"उई मा" फिर वाणी वहाँ से चली गयी
नीचे जाते ही वाणी ने मम्मी को कहा," मम्मी, सर जी तो कुंभकारण हैं" मा ने बेटी की बातों पर ध्यान नही दिया लेकिन दिशा के तो 'सर' सुनते ही कान खड़े हो जाते थे. वो अंदर पढ़ रही थी उसने वाणी को अंदर बुलाया वाणी उसके पास आकर बैठ गयी कु्छ देर बाद दिशा ने पूछा
"चाय पी ली थी क्या सर ने"
"हां पी ली होगी मैने तो उनको उठा दिया था दीदी
"तू क्या कह रही थी सर के बारे में"
"क्या कह रही थी दीदी?"
"वही....कुंभकारण...."
"नही बतावुँगी दीदी! आप स्कूल में बता दोगे तो बच्चे उनका नाम निकाल देंगे!"
"मैं पागल हूँ क्या... चल बता ना प्लीज़"
वाणी जैसे कोई राज बता रही हो, इस तरह से बोली,"पता है दीदी, सर अगर एक बार सो जायें, तो उन्हे उठाने का एक ही तरीका है उन्हे कितना ही हिला लो वो नही उठेंगे उन्हे उठाने के लिए उनके कान में ज़ोर से उनका नाम लेना पड़ता है"
"चल झूठी" दिशा को विस्वास नही हुआ
"सच दीदी"" मैं तो उनकी छाती पर जाकर बैठ गयी थी, फिर भी वो नही उठे फिर मैने उनके कान में ज़ोर से कहा"सर जी" तब जाकर उनकी नींद खुली"
"मोटी तुझे शरम नही आई उनकी छाती पर चढ़ते हुए" दिशा के मॅन में प्लान तैयार हो रहा था
वाणी ने उसकी टीस और बढ़ा दी," सर बहुत अच्चे हैं ना दीदी!"
"चल भाग! मुझे काम करने दे!" दिशा ने उसको वहाँ से भगा दिया
शमशेर भी इतना ही बैचैन था दिशा की जवानी से खेलने के लिए, बेचारा शमशेर! खैर शमशेर टकटकी लगाए खिड़की से बाहर देखता रहा की कम से कम उस परी की गांड के दर्शन ही हो जायें करीब १५ मिनिट बाद दिशा बाहर आई उसके हाथ में टॉवेल था शायद वो नहाने जा रही थी गाड़ी के पास जाकर वो रुकी और उस पर प्यार से हाथ फेरने लगी फिर उसने उपर की और देखा शमशेर को अपनी और देखता पाकर वो जल्दी से अंदर चली गयी बाथरूम का दरवाजा बंद करके उसने कपड़े उतारने शुरू किए शमशेर का प्यारा चेहरा और उसकी पॅंट का उभर उसके दिमाग़ से निकल ही नही रहे थे उसने अपना कमीज़ उतार दिया और अपने उभारों को गौर से देखने लगी उसको पता था भगवान ने उसको इन २ नगिनो के रूप में क्या दिया है उसकी छातियाँ ही उसकी जान की दुश्मन बनी हुई थी उसे पता था की इनमें ऐसा कु्छ ज़रूर है जिसने गाँव के सारे लड़कों को इनका दीवाना बना दिया है कोई इन्हें पहाड़ की चोटी कहता, कोई सेब तो कोई अनार क्या सर जी को भी ये अच्छे लगते होंगे काश कि लगते हों वो उन पर हाथ फेर कर देखने लगी, इनमें ऐसा क्या है जो लड़कों को पसंद आता है ये तो सब लड़कियों के होती हैं कयओ की तो बहुत बड़ी होती हैं, फिर तो वो ज़्यादा अच्ची लगनी चाहिए सोचते-सोचते ही उसने अपनी सलवार उतारी और शीशे में घूम-घूम कर अपना बदन देखने लगी, उसको नही मालूम था की हीरे की परख तो जौहरी ही कर सकता है उसकी गोल गांड और तनी हुई छातियो की कद्र तो वो ही रसिया करेंगे ना जिनको इनकी तड़प है आज से पहले उसने अपने जिस्म को इतनी गौर से नही देखा था आज भी शायद अपने प्यारे सर के लिए नाहकार वो बाहर निकली तो चौक गयी सर सामने ही बैठे थे शायद मामी ने उन्हे खाने के लिए बुलाया होगा उसको अहसास हुआ की जैसे सर के बारे में सोचते हुए वो रंगे हाथ पकड़ी गयी वो भागकर अंदर वाले कमरे में चली गयी
"बेटी, सर के लिए खाना लगा दे इनको जाना है कही"
अच्छा मामी जी, कहकर दिशा किचन में चली गयी

वाणी सर के पास ही बैठी थी वाणी का शरीर जवान हो गया था पर शायद मॅन नही वो ज़्यादातर हरकतें बच्चों जैसी करती थी अब भी वो शमशेर के साथ अपना पिछवाड़ा सटा कर बैठी थी कोई बड़ी लड़की होती तो अश्लील हरकत समझा जाता
"मास्टर जी"निर्मला बोली" आपने दिशा को बचा कर जो उपकर किया है, उसका बदला हम नही चुका सकते, पर अब जब तक तुम इस स्कूल में हो, हम तुम्हे हमारे घर से नही जाने देंगे"
"मम्मी, हमारा घर नही; अपना घर. है ना सर जी" वाणी चाहक कर बोली
"हां वाणी!" शमशेर ने उसके गाल पर थपकी देकर ताल में ताल मिलाई
"मम्मी गाड़ी भी सर की नही है, अपनी है; हैं ना सर जी
"मस्टेरज़ी, हमारी लड़की बड़ी शैतान है, कभी इसकी ग़लती पर हमसे नाराज़ मत होना
शमशेर ने मौका देखकर कहा, ये भी कोई कहने की बात है आंटिजी! ये तो यहाँ मुझे सबसे प्यारी लगती है
दिशा ने इस बात पर घूमकर शमशेर को देखा, और प्यार से जलाने के लिए वाणी को बोली," हूंम्म, सबसे प्यारी!"
वाणी ने अपनी सुलगती दीदी को जीभ निकालकर चिडा दिया दिशा उसे मारने को दौड़ी, पर उसका असली मकसद तो सर के पास जाना था जैसे ही वो वाणी के पास आई, वाणी शमशेर के पीछे छिप गयी अब शमशेर और दिशा आमने सामने थे दिशा के तन पर चुननी ना होने की वजह से उसकी दोनों चुचियाँ शमशेर की आँखो के सामने थी जल्द ही उसको अपने नंगेपन का अहसास हुआ और वो शर्मकार वापस चली गयी
"इसमें तो है ना बस गुस्से की हद है" निर्मला ने कहा
शमशेर: हां, वो तो है
उसके बाद वो खाना खाने लगे. ऐसे ही बातें करते करते वो २-४ दिन में ही काफ़ी घुल गये लेकिन इस घुलने मिलने का ज़रिया बनी वाणी अब मामा का शक भी पूरी तरह दूर हो गया था और वो बच्चों के उपर नीचे रहने से परेशन नही होते थे उन्होने शमशेर को अपने परिवार का हिस्सा मान लिया था सिर्फ़ शमशेर और दिशा ही एक दूसरे से घुलमिल नही पाए थे, क्यूंकी दोनों के मॅन में पाप था..... या शायद प्यार!
शनिवार का दिन था शमशेर लॅबोरेटरी में बैठा १०थ क्लास के प्रॅक्टिकल के लिए केमिकल्स तैयार कर रहा था उसके दिमाग़ से दिशा निकलने का नाम नही ले रही थी करीब १० दिन बीत जाने पर भी उसको दिशा की तरफ से कोई ऐसा सिग्नल नही मिल सका था जिससे वो उसको अपनी बाहों में ले सके वो तो उससे बात ही खुलकर नही करती थी उसने सोचा था की वाणी के आगे कुम्भ्कर्न वाली आक्टिंग करने के बाद शायद दिशा उसके सोते हुए कोई ऐसी हरकत करे जिससे वा उसके मॅन की बात जान सके पर अभी तक ऐसा कुछ नही हुआ था
अचानक लॅब के बाहर से आवाज़ आई," मे आइ कम इन सर?"
"यस,प्लीज़!" शमशेर ने अंदर बैठा-बैठे ही कहा वो लॅब में अलमारियों के पीछे कुर्सी पर बैठा था
नेहा ने अंदर आकर पूछा,"सर आप कहाँ हो"
"अरे भाई यहाँ हूँ" शमशेर के हाथों में रंग लगा हुआ था
नेहा उसके पास जाकर खड़ी हो गयी,"सर, अभी से होली खेलने की तैयारी कर रहे हैं अभी तो ५ दिन बाकी हैं" नेहा ने चुटकी ली लड़कियाँ उससे काफ़ी घुल मिल गयी थी
शमशेर ने रंग उसके गालों पर लगा दिया ओर बोला" लो खेल भी ली"
नेहा ने नज़रें झुका ली बाकी लड़कियों की तरह उसके मंन में भी अपने सर के लिए कुछ ज़्यादा ही लगाव था अल्हड़ मस्त उमर में ऐसे छबिले को देखकर ऐसा होना स्वाभिवीक ही था
"बोलो! क्या बात है नेहा"
नेहा: सर, प्लीज़ गुस्सा मत होना! मुझे दिशा ने भेजा है
शमशेर की आँखें चमक उठी," बोलो!"
नेहा," सर वो कह रही थी की.... की आप उससे अभी तक नाराज़ हो क्या?"
शमशेर: नाराज़!.... क्यों?
नेहा: सर... वो तो पता नही!
शमशेर ने साबुन से हाथ धोए और जाने उसके मॅन में क्या सूझी उसने नेहा के कमीज़ से अपने हाथ पोछ दिए नेहा की सिसकी निकल गयी सर के हाथ उसकी गॅंड के उभारों पर लगे थे ये स्पर्श उसको इतना मधुर लगा की उसकी आँखे बंद हो गयी," सर ये आप क्या कर रहे हो?"
उसने आँखें बंद किए किए ही पूछा
शमशेर: होली खेल रहा हूँ दिखता नही क्या वो हँसने लगा नेहा की तो जैसे सिटी बज गयी हालाँकि दिशा के सामने वो यौवन और सुंदरती में वो फीकी लगती थी पर उसको हज़ारों में एक तो कहा ही जा सकता था
नेहा: ना हिली ना बोली बस जड़ सी खड़ी रही उसका एक यार था गाँव में केयी बार मौका मिलने पर उसकी चुचियाँ मसल चुका था, पर सर के हाथों की बात ही कु्छ और थी
शमशेर ने फिर उसके चूतड़ो पर थपकी दी, ये थपकी थोड़ी कड़क थी, नेहा सिहर गयी और उसके मुँह से निकला,"आ सस्स..इर्ररर!"
शमशेर: क्या हुआ? उसको पता था हौले-हौले जवानी को तडपा-तडपा कर उसका रस पीने का मज़ा ही अलग है
नेहा: सर.. कु्छ नही. उसका दिल कर रहा था जैसे सर उसके सारे शरीर में ऐसे ही सूइयां सी चुभोते रहे
शमशेर: कु्छ नही तो जाओ फिर!
नेहा कु्छ ना बोली, एक बार तरसती निगाहों से शमशेर को देखा और वही खड़ी रही
शमशेर समझ रहा था की अब इसका पानी निकलने ही वाला है वो चाहता तो वहाँ कु्छ भी कर सकता था, पर उसको डर था की ये दिशा की सहेली है, उसको बता दिया तो उसकी मदमस्त जवानी हाथ से निकल सकती थी
शमशेर ने कहा," दिशा से कह देना, हां में उससे नाराज़ हूँ!
नेहा का जाने का मॅन तो नही था पर इस बार वो नही रुकी...
नेहा शमशेर की आँखों में वासना देख चुकी थी कु्छ भी हो उससे कु्छ भी बुरा नही लगा था लॅब से निकलते हुए उसकी आँखो की खुमारी को सॉफ-सॉफ पढ़ा जा सकता था उसकी चुचियाँ कस-मसा रहा थी बुरी तरह उनका हाल ऐसा हो रहा था जैसे बरसों से पिंजरे में क़ैद कबूतर आज़ाद होने के लिए फड्फाडा रहे हों वह बाथरूम में गयी और अपनी चूत को कुरेदने लगी वो बुरी तरह लाल हो रही थी नेहा ने अपनी उंगली चूत में घुसा दी "आ...आह" उसकी आग और भड़क उठी वह दिशा को सिर की कामुक छेड़ छाड़ के बारे में बताना चाहती थी पर उसको पता था दिशा को ये बातें बहुत गंदी लगती थी कहीं उसकी सहेली उससे नाराज़ ना हो जाए यही सोचकर उसने दिशा को कु्छ भी ना बताने का फ़ैसला कर लिया चूत में घुसी उंगली की स्पीड तेज होती चली गयी और आनंद की चरम सीमा पर पहुच कर वो दीवार से सटकर हाँफने लगी
क्लास में गयी तो उसका बुरा हाल था नेहा को बदहवास सी देखकर दिशा के मॅन में जाने क्या आया," कहाँ थी इतनी देर?"
नेहा: बाथरूम में गयी थी
दिशा: इतनी देर?
नेहा: अरे यार, फ्रेश होकर आई हूँ, सुबह नही जा पाई थी
दिशा: सर के पास गयी थी?
नेहा: हां, पर वहाँ से तो १ मिनट में ही आ गयी थी नेहा ने झूठ बोला!
दिशा: क...क्या सर.... क्या बोले सर जी
नेहा: हां वो नाराज़ हैं!
दिशा: पर क्यूँ?
नेहा: मुझे क्या पता, ये या तो तू जाने या तेरे प्यारे सर जी! नेहा ने आखरी शब्दों पर ज़्यादा ही ज़ोर डाला
दिशा: एक बात बता, तेरा फॅवुरेट टीचर कौन है?
नेहा: क्यूँ?
दिशा: बता ना... प्लीज़
नेहा: वही जो तेरे हैं... सबके हैं... सभी की ज़ुबान पर एक ही तो नाम है आजकल!
दिशा जल सी गयी," क्यूँ मैने कब कहा! मेरा फॅवुरेट तो कोई नही है
नेहा: फिर मुझसे क्यूँ पूछा
चल छोड़ छुट्टी होने वाली है
छुट्टी के बाद दिशा ने देखा वाणी सर की गाड़ी के पास खड़ी है दिशा ने उसको चलने को कहा
वाणी: मैं तो गाड़ी में आउन्गि सर के साथ!
दिशा: चल पागल! तुझे शरम नही आती
वाणी: मुझे क्यूँ शरम आएगी. अपनी....
तभी शमशेर गाड़ी के पास पहुँच गया
वाणी: सर दीदी कह रही है तुझे सर की गाड़ी में बैठते हुए शरम नही आती इतनी अच्ची गाड़ी तो है....
शमशेर: जिसको शरम आती है वो ना बैठें! गाड़ी को अनलॉक करते हुए उसने कहा
वाणी खुश होकर अगली सीट पर बैठ गयी
शमशेर ने गाड़ी स्टार्ट की और दिशा की और देखा वा मुँह बना कर गाड़ी की पिछली सीट पर बैठ गयी नेहा भी उसके साथ जा बैठी और वो घर जा पहुँचे
घर आकर नेहा ने सर से कहा," सिर मुझे कु्छ मेथ के सवाल समझने हैं मेडम ने वो छुडा दिए आप समझा सकते हैं क्या?
शमशेर: क्यूँ नही, कभी भी!
नेहा: सर, अभी आ जाउ!
शमशेर:उपर आ जाओ!
दिशा को सर के लिए चाय बनानी थी पर नेहा को अपने सर के पास अकेले जाने देना ठीक नही लगा वो वाणी से बोली," वाणी तू चाय बना देगी क्या? मैं भी समझ लूँगी सवाल!
हां दीदी क्यूँ नही!
शमशेर: होली खेल रहा हूँ दिखता नही क्या वो हँसने लगा नेहा की तो जैसे सिटी बज गयी हालाँकि दिशा के सामने वो यौवन और सुंदरती में वो फीकी लगती थी पर उसको हज़ारों में एक तो कहा ही जा सकता था
नेहा: ना हिली ना बोली बस जड़ सी खड़ी रही उसका एक यार था गाँव में केयी बार मौका मिलने पर उसकी चुचियाँ मसल चुका था, पर सर के हाथों की बात ही कु्छ और थी
शमशेर ने फिर उसके चूतड़ो पर थपकी दी, ये थपकी थोड़ी कड़क थी, नेहा सिहर गयी और उसके मुँह से निकला,"आ सस्स..इर्ररर!"
शमशेर: क्या हुआ? उसको पता था हौले-हौले जवानी को तडपा-तडपा कर उसका रस पीने का मज़ा ही अलग है
नेहा: सर.. कु्छ नही. उसका दिल कर रहा था जैसे सर उसके सारे शरीर में ऐसे ही सूइयां सी चुभोते रहे
शमशेर: कु्छ नही तो जाओ फिर!
नेहा कु्छ ना बोली, एक बार तरसती निगाहों से शमशेर को देखा और वही खड़ी रही
शमशेर समझ रहा था की अब इसका पानी निकलने ही वाला है वो चाहता तो वहाँ कु्छ भी कर सकता था, पर उसको डर था की ये दिशा की सहेली है, उसको बता दिया तो उसकी मदमस्त जवानी हाथ से निकल सकती थी
शमशेर ने कहा," दिशा से कह देना, हां में उससे नाराज़ हूँ!
नेहा का जाने का मॅन तो नही था पर इस बार वो नही रुकी...
नेहा शमशेर की आँखों में वासना देख चुकी थी कु्छ भी हो उससे कु्छ भी बुरा नही लगा था लॅब से निकलते हुए उसकी आँखो की खुमारी को सॉफ-सॉफ पढ़ा जा सकता था उसकी चुचियाँ कस-मसा रहा थी बुरी तरह उनका हाल ऐसा हो रहा था जैसे बरसों से पिंजरे में क़ैद कबूतर आज़ाद होने के लिए फड्फाडा रहे हों वह बाथरूम में गयी और अपनी चूत को कुरेदने लगी वो बुरी तरह लाल हो रही थी नेहा ने अपनी उंगली चूत में घुसा दी "आ...आह" उसकी आग और भड़क उठी वह दिशा को सिर की कामुक छेड़ छाड़ के बारे में बताना चाहती थी पर उसको पता था दिशा को ये बातें बहुत गंदी लगती थी कहीं उसकी सहेली उससे नाराज़ ना हो जाए यही सोचकर उसने दिशा को कु्छ भी ना बताने का फ़ैसला कर लिया चूत में घुसी उंगली की स्पीड तेज होती चली गयी और आनंद की चरम सीमा पर पहुच कर वो दीवार से सटकर हाँफने लगी
क्लास में गयी तो उसका बुरा हाल था नेहा को बदहवास सी देखकर दिशा के मॅन में जाने क्या आया," कहाँ थी इतनी देर?"
नेहा: बाथरूम में गयी थी
दिशा: इतनी देर?
नेहा: अरे यार, फ्रेश होकर आई हूँ, सुबह नही जा पाई थी
दिशा: सर के पास गयी थी?
नेहा: हां, पर वहाँ से तो १ मिनट में ही आ गयी थी नेहा ने झूठ बोला!
दिशा: क...क्या सर.... क्या बोले सर जी
नेहा: हां वो नाराज़ हैं!
दिशा: पर क्यूँ?
नेहा: मुझे क्या पता, ये या तो तू जाने या तेरे प्यारे सर जी! नेहा ने आखरी शब्दों पर ज़्यादा ही ज़ोर डाला
दिशा: एक बात बता, तेरा फॅवुरेट टीचर कौन है?
नेहा: क्यूँ?
दिशा: बता ना... प्लीज़
नेहा: वही जो तेरे हैं... सबके हैं... सभी की ज़ुबान पर एक ही तो नाम है आजकल!
दिशा जल सी गयी," क्यूँ मैने कब कहा! मेरा फॅवुरेट तो कोई नही है
नेहा: फिर मुझसे क्यूँ पूछा
चल छोड़ छुट्टी होने वाली है
छुट्टी के बाद दिशा ने देखा वाणी सर की गाड़ी के पास खड़ी है दिशा ने उसको चलने को कहा
वाणी: मैं तो गाड़ी में आउन्गि सर के साथ!
दिशा: चल पागल! तुझे शरम नही आती
वाणी: मुझे क्यूँ शरम आएगी. अपनी....
तभी शमशेर गाड़ी के पास पहुँच गया
वाणी: सर दीदी कह रही है तुझे सर की गाड़ी में बैठते हुए शरम नही आती इतनी अच्ची गाड़ी तो है....
शमशेर: जिसको शरम आती है वो ना बैठें! गाड़ी को अनलॉक करते हुए उसने कहा
वाणी खुश होकर अगली सीट पर बैठ गयी
शमशेर ने गाड़ी स्टार्ट की और दिशा की और देखा वा मुँह बना कर गाड़ी की पिछली सीट पर बैठ गयी नेहा भी उसके साथ जा बैठी और वो घर जा पहुँचे
घर आकर नेहा ने सर से कहा," सिर मुझे कु्छ मेथ के सवाल समझने हैं मेडम ने वो छुडा दिए आप समझा सकते हैं क्या?
शमशेर: क्यूँ नही, कभी भी!
नेहा: सर, अभी आ जाउ!
शमशेर:उपर आ जाओ!

दिशा को सर के लिए चाय बनानी थी पर नेहा को अपने सर के पास अकेले जाने देना ठीक नही लगा वो वाणी से बोली," वाणी तू चाय बना देगी क्या? मैं भी समझ लूँगी सवाल!
हां दीदी क्यूँ नही!
बॅग से अपना मेथ और रिजिस्टर निकाल कर दोनों सीधी उपर गयी ये क्या? सर ने तो कमरे को बिल्कुल शहरी स्टाइल का बनवा दिया था कमरे में ए.सी. लगवा दिया था
दिशा के मुँह से निकला,"ये कब हुआ?"
शमशेर ने उसकी तरफ ना देखते हुए कहा," घबराओ मत बिजली का बिल मैं पे करूँगा!" मैने अंकल से बात कर ली है
दिशा ने अपनी बात का ग़लत मतलब निकलते देख मुँह बना लिया और सर के सामने बेड पर बैठ गयी
नेहा पर तो दिन वाली मस्ती छाई हुई थी वा सर के बाजू में इस तरह बैठी की उसकी जाँघ सर के पंजों पर रखी हुई थी दिशा को ये देख इतना गुस्सा आया की वो नीचे जाकर २ कुर्सियाँ उठा लाई और खुद कुर्सी पर बैठकर बोली," नेहा यहाँ आ जाओ! यहाँ से सही दिखेगा"
नेहा को उससे बड़ा डर लगता था वो समझ गयी की उसने जाँघ को सिर के पंजे के उपर देख लिया है वो चुप चाप उठी और कुर्सी पर जाकर बैठ गयी
शमशेर ने अजीब नज़रों से दिशा को देखा और उन्हे सवाल समझने लगा
वाणी जब चाय लेकर आई तो कमरे की ठंडक देखकर उछल पड़ी!,"वा, सर ए.सी." मैं भी अपनी किताबें लेकर उपर आती हूँ कहकर वो दौड़ती हुई नीचे चली गयी! उसने स्कूल ड्रेस निकाल कर स्कर्ट और टॉप पहन लिया था नव यौवन कयामत ढा रहा था जाने अंजाने वो शमशेर की साँसों में उतरती जा रही थी
थोड़ी देर बाद वह आई और बेड पर बैठकर पढ़ने लगी ए.सी. की ठंडक में नींद आना स्वाभाविक था वाणी बोली," सर जी, मुझे नींद आ रही है थोड़ी देर यही सो जाउ"
"हां हां क्यूँ नही! अपना ही घर है शमशेर ने चुटकी ली
वाणी जल्द ही गहरी नींद में सो गयी दिशा ने देखा उसका स्कर्ट जांघों पर काफ़ी उपर तक चढ़ गया है पर सर से शरमाने के कारण वो कुछ नही बोली
शमशेर ने एक एक्सर्साइज़ पूरी करवाने के बाद बोला, आज बहुत हो गया इनकी प्रॅक्टीस कर लेना बाकी कल करेंगे
दिशा का वहाँ से जाने का मॅन नही कर रहा था सच कहें तो दिशा को वो सारे सवाल आते थे पर सर के साथ बैठने का आनंद लेने के लिए और अपने सर की नेहा से रखवाली करने के इरादे से वो वहाँ आई थी पर अब क्या करती वो वाणी को उठाने लगी पर वाणी नींद में ही बोली," नही दीदी, मुझे यहीं सोना है! और उसने पलटी लेकर एक हाथ सिर की गोद में रख लिया
शमशेर: सोने दो इसको! उठ कर अपने आप आ जाएगी फिर दिशा क्या बोलती दिशा और नेहा अनमने मॅन से नीचे चली गयी
शमशेर ने देखा, वाणी गहरी नींद में सो रही है, उसका स्कर्ट पहले से भी ज़्यादा उपर उठ गया है
उसकी कोमल गोल-गोल जांघे और यहाँ तक की उसकी सफेद कच्छि भी सॉफ दिख रही थी शमशेर ने उसके हाथ को आराम से उठाया और बेड पर उसके नज़दीक ही सीधा लेट गया....
दिशा नेहा को छोड़ने गेट तक आई वो विचलित सी थी कही वाणी जानबूझकर तो सर के.... छ्हि छि, वह भी क्या सोचने लगी अपनी छोटी बहन के बारे में; वो तो कितनी नादान है और मुँहफट इतनी की अगर उसके मॅन में कुछ भी होता तो मुझे ज़रूर बताती अभी 2 महीने पहले जब एक लड़का उसको इशारा करके खेत के कमरे में बुला रहा था तो वो तो उस इशारे का मतलब भी ना समझी थी घर आते ही सारी रामायण सुना दी थी मुझे फिर मैने ही तो उसको मना किया था किसी को कुछ बताने के लिए वो तो क्लास में ही अनाउन्स करने वाली थी कितनी भोली है बेचारी...
उसकी मामी पड़ोस से नही आई थी कहीं आने के बाद वो उसको ना डाटे वाणी को उपर सोने देने के लिए, पर सर के सामने तो उसकी ज़ुबान ही ना खुलती थी, फिर वो इतनी बड़ी बात सर के सामने वाणी को कैसे कहती!
फिर भी उसको डर सा लग रहा था
उधर शमशेर के हाथ में वाणी के रूप में ऐसा लड्डू आया हुआ था जिसको ना खाते बन रहा था ना छोड़ते उसने वाणी के चेहरे की और देखा दुनिया जहाँ की मासूमियत उसके चेहरे से झलक रही थी कितने प्यारे गुलाबी होंट थे उसके दूध जैसी रंगत उसके बदन को चार चाँद लगा रही थी वह बैठ गया और वाणी की तरफ प्यार से देखने लगा वो अपने सर के पास ऐसे सोई हुई थी जैसे उसका अपना ही कोई सगा हो कुछ ही दिनों में कितना अधिकार समझ लिया था उसने शमशेर पर उसकी नज़र वाणी की चुचियों पर पड़ी, जैसे दिशा की चुचियों का छोटा वर्षन हो बंद गले का टॉप होने की वजह से वो उनको देख तो नही पाया, पर उनके आकर और कसावट को तो महसूस कर ही सकता था केले के तने जैसी चिकनी टाँगे उसके सामने नंगी थी कितनी प्यारी है वाणी.... अफ... शमशेर के अंदर और बाहर हलचल होने लगी उसने लाख कोशिश की कि वाणी से अपना दिमाग़ हटा ले पर आगे पड़ी कयामत से उसका ईमान डोल रहा था लाख कोशिश करने के बाद भी जब उससे रहा ना गया तो उसने धीरे से वाणी को पुकार कर देखा,"वाणी!" पर वा तो सपनों की दुनिया में थी शमशेर ने दिल मजबूत करके उसकी छतियो पर हाथ रख दिया क्या मस्त चुचियाँ पाई हैं जो भी इस फल को पकने पर खाएगा, कितना लकी होगा शमशेर ने चुचियों पर से हाथ हटा लिया और धीरे-धीरे करके उसके स्कर्ट को उपर उठा दिया शमशेर का दिमाग़ भनना गया पतली सी सफेद कच्छि में क़ैद वाणी की चिड़िया जैसे जन्नत का द्वार थी शमशेर से इंतज़ार नही हुआ और उसने लेट कर उसकी प्यारी सी चूत पर अपना हाथ रख दिया ऐसा करते हुए उसके हाथ काँप रहे थे जैसे ही उसने वाणी की चूत पर कच्छि के उपर से हाथ रखा वो नींद में ही कसमसा उठि शमशेर ने तुरंत अपना हाथ वापस खीच लिया, वाणी ने एक अंगड़ाई ली और शमशेर के मर्दाने जिस्म पर नाज़ुक बेल की तरह लिपट गयी उसने अपना एक पैर शमशेर की टाँगों के उपर चढ़ा लिया.. इस पोज़िशन में शमशेर का हाथ उसकी चूत से सटा रह गया शमशेर की हालत खराब होने लगी हालाँकि शमशेर मानता था की वो आखरी हद तक कंट्रोल कर सकता है इसी आदत से वो तडपा तडपा कर औरतों को अपना शिकार बनाता था यही उसमें छिपि कशिश का राज थी पर वाणी के मामले में कंट्रोल की वह हद मानो मीलों पिछे छूट गयी थी अचानक सीढ़ियो पर आती आवाज़ ने उसको वही का वही जड़ कर दिया वाणी को अपने से दूर हटाने का मौका भी उसके पास नही था वो जैसे था उसी पोज़िशन में आँखें बंद करके लेटा रहा
उपर आने वाले कदम दिशा के थे, उसकी मामी अब आने ही वाली होगी, ये सोचकर वो वाणी को उठाने आई थी अंदर का सीन देखकर दिशा का दिल धड़कने लगा वाणी शमशेर से लिपटी मज़े से सो रही थी एक पल के लिए उसके दिल में आया, काश.... और सोचने भर से ही वो शर्मा गयी फिर सोचने लगी, इसमें सर की क्या ग़लती है वो तो सीधे सो रहे हैं वाणी की ही ये आदत है, मेरे साथ भी यह ऐसे ही कुंडली मार कर सोती है
पर सर तो मर्द हैं; उनके साथ तो... कितनी बड़ी हो गयी है; इसमें तो अकल ही नही है वह वाणी की तरफ बेड पर गयी, पहले प्यार से उसका स्कर्ट ठीक किया फिर उसके चुतड़ो पर हाथ मारा," वाणी!"
वाणी आँख मलते हुए उठी और दिशा को देखने लगी जैसे पहचानने की कोशिश कर रही हो
"वाणी, चल नीचे!"
नही दीदी मैं यहीं रहूंगी, सर के साथ शमशेर सब सुन रहा था
दिशा ने धीरे से वाणी को झिड़का, "चलती है या दू एक कान पे.." कहकर वो वाणी को ने की कोशिश करने लगी वाणी शमशेर के उपर गिर पड़ी और उसे कसकर पकड़ लिया." ताकि दिशा उसको खीच ना सके
वाणी की चुचियाँ शमशेर की छाति पर लगकर टेनिस बॉल की तरह पिचाक गयी शमशेर को जैसे भगवान मिल गया हो
दिशा की हालत अजीब हो गयी, क्या करे? सर जाग गये तो तमाशा होगा
उसने वाणी के कान में कहा, तुझे सर की बहुत अच्छि बात बतानी है, जल्दी आ!"
"सच" सर की तो वो फॅन थी! रूको मैं सर को उठा दूं. वाणी फिर से सर के लगभग उपर लेटी और ज़ोर से कान में कहा," सर जी!"
आज वाणी ने दिशा को ये दिखाने के लिए की वो सच कह रही थी की सर को कुंभकारण की तरह उठाना पड़ता है; बहुत ज़ोर से चीखी शमशेर को लगा उसके कान का परदा फ़ान्ट जाएगा वो एक दम चौंक पड़ा, फिर उठ बैठा
सर के उठने का ये तरीका देखकर दिशा खुद को खिल-खिलाकर हँसने से ना रोक पाई
उसकी मधुर हँसी पर शमशेर फिदा हो गया पहली बार उसने दिशा को इस तरह हंसते देखा था सर को अपनी और एक-टक देखता पाकर वो शर्मा गयी
" सर, मैं वो वाणी को उठाने आई थी दिशा के चेहरे पर अब भी मुस्कान थी
शमशेर: और मुझे किसने उठाया
.......................................

A woman is like a tea bag - you can't tell how strong she is until you put her in hot water.